स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

हर घर पोषण व्यवहार: गणेश पंडालों में बांटा गया पूरक पोषण आहार से निर्मित प्रसाद

Manoj Kumar Pandey

Publish: Sep 13, 2019 12:17 PM | Updated: Sep 13, 2019 12:17 PM

Sidhi

केंद्रों एवं गणेश पंडालों में पूरक पोषण आहार से निर्मित प्रसाद लड्डू और केक बनाया गया, पूरक पोषक आहार को भी उचित मात्रा में समय पर लेने की दी गई समझाइस

सीधी। महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा कुपोषण को दूर करने तथा उसके प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए पोषण माह का आयोजन 1 से 30 सितंबर तक किया जा रहा है। पोषण माह में 0 से 6 वर्ष तक के बच्चों एवं गर्भवती तथा धात्री माताओं के स्वास्थ्य एवं पोषण स्तर में समयबद्ध तरीके से सुधार हो इस हेतु विभिन्न विषयों पर आधारित गतिविधियों का आयोजन किया जाना है। कलेक्टर रवींद्र कुमार चौधरी एवं जिला कार्यक्रम अधिकारी अवधेश सिंह के निर्देशानुसार सीधी जिले की समस्त आंगनवाड़ी केंद्रों में कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है।
इसी क्रम में अनंत चतुदर्शी के अवसर पर परियोजना सीधी क्रमांक-1 में परियोजना अधिकारी डॉ.शेष नारायण मिश्र के नेतृत्व में परियोजना अंतर्गत समस्त कंेद्रों एवं गणेश पंडालों में पूरक पोषण आहार से निर्मित प्रसाद लड्डू और केक बनाया गया तथा उपस्थित लोगों को पूजा के बाद प्रसाद के रूप में वितरित किया गया। उपस्थित महिलाओं को इसके बनाने की विधि के साथ-साथ पोषक तत्वों के महत्व को बताया गया। कार्यक्रम में पोषण परिचर्चा का आयोजन किया गया। गर्भवती एवं धात्री महिलाओं को प्रतिदिन सामान्य आहार लेने के साथ-साथ आंगनवाड़ी केंद्रों द्वारा प्रदाय किए जाने वाले पूरक पोषक आहार को भी उचित मात्रा में समय पर लेने की समझाइस दी गई।
उल्लेखनीय है कि पोषण माह की मुख्य थीम ''हर घर पोषण व्यवहार है। कार्यक्रम का प्रमुख उद्देश्य 0-6 वर्ष तक के बच्चों में ठिगनेपन कई समस्या से बचाव करना, 0-6 वर्ष के बच्चों का अल्पपोषण से बचाव, 0-59 माह के बच्चों में एनीमिया की दर में कमी लाना और बचाव, 15-49 वर्ष की किशोरियों, महिलाओं, गर्भवती, धात्री का एनीमिया से बचाव तथा कम वजन के साथ जन्म लेने वाले बच्चों की संख्या में कमी लाना है। आंगनवाड़ी कंेद्रों में कार्यक्रम परियोजना अधिकारी, ईसीसीई समन्वयक और पर्यवेक्षकों की उपस्थिति में किया जा रहा है।