स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

हर घर पोषण व्यवहार: आंगनवाड़ी केंद्रो में मनाया गया अन्नप्राशन दिवस

Manoj Kumar Pandey

Publish: Sep 11, 2019 21:59 PM | Updated: Sep 11, 2019 21:59 PM

Sidhi

अन्नप्राशन दिवस का आयोजन कर बच्चों को समय से ऊपरी आहार देने की दी गई जानकारी

सीधी। शासन द्वारा कुपोषण को दूर करने के लिए जीवन चक्र एप्रोच बनाकर चरणबद्ध तरीके से सितंबर माह को पोषण माह के रूप में मनाया जा रहा है। पोषण माह में 0 से 6 वर्ष तक के बच्चों एवं गर्भवती तथा धात्री माताओं के स्वास्थ्य एवं पोषण स्तर में समयबद्ध तरीके से सुधार हो इस हेतु विभिन्न विषयों पर आधारित गतिविधियों का आयोजन किया जाना है। महिला एवं बाल विकास विभाग के आदेशानुसार सीधी जिले की समस्त आंगनवाड़ी केंद्रो में कलेक्टर रवींद्र कुमार चौधरी एवं जिला कार्यक्रम अधिकारी अवधेश सिंह के निर्देशानुसार कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है।
इसी क्रम में परियोजना सीधी क्रमांक 1 में परियोजना अधिकारी डॉ. शेष नारायण मिश्र के नेतृत्व में परियोजना अंतर्गत समस्त केंद्रो अन्नप्राशन दिवस मनाया गया। इस अवसर पर महिलाओं को ऊपरी आहार बच्चे का कैसा हो, थोड़ा-थोड़ा भोजन अन्नप्राशन के बाद शुरू करना आवश्यक होता है, की समझाइस दी गई। बुजुर्ग महिलाओं और बच्चो के बीच पोषण पेय और गुड़ के बने लड्डुओं का वितरण किया गया। इस अवसर पर पोषण परिचर्चा का आयोजन किया गया। इसके साथ ही प्रसव पूर्व देखभाल एवं सर्वोत्तम स्तनपान व्यवहार विषय पर गर्भवती तथा धात्री महिलाओं के परिवार सदस्यों के साथ पोषण चौपाल का आयोजन किया गया। पोषण का महत्व, स्वच्छता पर समझाइस देते हुए परिवार के सदस्यों को पोषण शपथ भी दिलवाई गई। उल्लेखनीय है कि पोषण माह की मुख्य थीम हर घर पोषण व्यवहार है। कार्यक्रम का प्रमुख उद्देश्य 0-6 वर्ष तक के बच्चों में ठिगनेपन कई समस्या से बचाव करना, 0-6 वर्ष के बच्चों का अल्पपोषण से बचाव, 0-59 माह के बच्चों में एनीमिया की दर में कमी लाना और बचाव, 15-49 वर्ष की किशोरियों, महिलाओं, गर्भवती, धात्री का एनीमिया से बचाव तथा कम वजन के साथ जन्म लेने वाले बच्चों की संख्या में कमी लाना है। आंगनवाड़ी केंद्रों में कार्यक्रम परियोजना अधिकारी, ईसीसीई समन्वयक और पर्यवेक्षकों की उपस्थिति में किया जा रहा है।