स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कायाकल्प योजना में 74 अंक के साथ जिला अस्पताल तीसरे रैंक पर

Om Prakash Pathak

Publish: Dec 05, 2019 16:10 PM | Updated: Dec 05, 2019 16:10 PM

Sidhi

कायाकल्प योजना में 74 अंक के साथ जिला अस्पताल तीसरे रैंक पर, जिला चिकित्सालय की रैंकिंग मे जबरदस्त उछाल, प्रदेश मे 13 से तीसरे पायदान पर पहुंचा , रैंक सुधार होने से जिला चिकित्सालय को मिला विशेष पैकेज

सीधी। कायाकल्प योजना में सुरक्षा और सफाई के मामले में जिला अस्पताल की स्थिति मे बेहतर सुधार हुआ है। प्रदेश की सूची मे 74 अंक के साथ तीसरी रैंक सीधी को मिली है। पिछले साल की तुलना मे इस बार जबरदस्त छलांग लगाई गई है। स्वास्थ्य सेवा, साफ-सफाई सहित 350 बिंदुओं के आधार पर अस्पताल का सर्वे किया गया था। इस बार जिला चिकित्सालय का परफार्मेंस बेहतर रहा, जबकि पिछले साल कायाकल्प में जिला अस्पताल १३वीं रैंक पर था। इस उपलब्धि के साथ ही जिला अस्पताल नेशनल क्वालिटी एश्योरेंस स्टैंडर्ड सर्वे के लिए भी क्वालिफाई हो गया है।

सिविल सर्जन डॉ. एसबी खरे ने बताया कि कायाकल्प योजना सर्वे होने के बाद प्रदेश के 51 जिलों में सीधी 74 अंक के साथ तीसरे स्थान पर रहा है। इसमे कायाकल्प के तहत बिल्डिंग का रख-रखाव, साफ-सफाई, स्वच्छता सेवा, अपशिष्ट प्रबंधन, संक्रमण नियंत्रण और अस्पताल के बाहर स्वच्छता सहित 350 बिंदुओ के आधार पर रैकिंग की गई थी। इसमें मरीजों को पेयजल, बैठक की व्यवस्था, पंखे, कूलर आदि की उपलब्धता का आंकलन भी किया गया। सर्वे के लिए बाहर से आए अफसर ने अस्पताल में अलग-अलग बिंदुओ पर पड़ताल की जिसमें मेडिकल संबंधी व्यवस्थाओं से लेकर जिला अस्पताल के रखरखाव की बारीकी से जांच की गई। मरीजों व उनके परिजनों का फीडबैक भी जाना था। सफाई व्यवस्था सुधरने व भवन का रंगरोदन करने का सर्वे मे फायदा मिला है।

यह है योजना मे प्रावधान
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने जिला अस्पतालों में व्यवस्था सुधारने के मकसद से कायाकल्प पुरस्कार योजना शुरू की गई है। इसे नेशनल हेल्थ मिशन के माध्यम से प्रदेश में लागू किया गया। योजना में प्रदेश में प्रथम स्थान पाने वाले जिला अस्पताल को 50 लाख रूपए, दूसरे स्थान पर आने वाले को 20 लाख रूपए, तीसरे स्थान पर आने वाले को 10 लाख रूपए और दसवें स्थान तक आने वाले अस्पतालों को 3-3 लाख रूपए पुरस्कार राशि का प्रावधान है। योजना के लिए विभाग एक टीम बनाकर प्रदेशभर के जिला अस्पतालों की बारीकी से मूल्यांकन कराया गया। साफ-सफाई से लेकर मौजूद सुविधाओं पर आधारित सभी अस्पतालों को नंबर दिए गए।

जिला चिकित्सालय को मिला 10 लाख का पुरस्कार
कायाकल्प योजना मे तीसरे पायदान पर सीधी का जिला चिकित्सालय आने पर इसे 10 लाख रूपए का पुरस्कार मिलना तय हो गया है। जिसका पैकेज भी सुरक्षित कर लिया गया है। इसके तहत जिला चिकित्सालय को प्रथम किश्त बतौर 4 लाख रूपए भी प्राप्त हो चुके हैं, जिससे वार्डों की व्यवस्थाएं दुरूस्त कराई जा रही है।

तत्कालीन कलेक्टर की मेहनत लाई रंग
पूर्व कलेक्टर अभिषेक सिंह के द्वारा सीधी जिले का प्रभार ग्रहण करते ही वे जिला चिकित्सालय की व्यवस्था पर विशेष जोर दिए थे। उनके द्वारा अलग से वाहन स्टैंड, दीवालों का रंगरोदन, चित्रकारी, मरीजों के लिए नए बेड सीट, चादर, विस्तार करके एक आंगन से दो आंगन का अस्पताल का विस्तार कराने मे सफल रहे, वहीं पान व गुटखा खाकर अस्पताल के अंदर प्रवेश पर सख्ती से रोक लगा दिए थे, जिसका फायदा जिला चिकित्सालय को कायाकल्य योजना मे मिला।

वर्तमान मे जिला चिकित्सालय के लेवर वार्ड मे गीजर, आरो, एसी सहित अन्य कई वार्डो मे कार्य कराया गया है, पूर्व मे हुए सर्वे मे चिकित्सालय को 74 अंक के साथ तीसरी रैकिंग मिली है, यदि अब सर्वे होता तो मेरी रैकिंग और भी उपर पहुंच जाती।
डॉ. एसबी खरे, सिविल सर्जन, जिला चिकित्सालय सीधी

[MORE_ADVERTISE1]