स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बालात्कार के आरोपी का संदिग्ध अवस्था मे मिला शव

Om Prakash Pathak

Publish: Oct 19, 2019 19:08 PM | Updated: Oct 19, 2019 19:08 PM

Sidhi

बालात्कार के आरोपी का संदिग्ध अवस्था मे मिला शव, आरोपी की हत्या की जताई जा रही आशंका
-बालात्कार के आरोपी की पुलिस दर्शा रही थी फरारी, थाने के सामने शव को रखकर किया गया चक्काजाम आंदोलन, आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग

सीधी। भुइमाड़ थाना पुलिस के द्वारा जिस युवक के खिलाफ दो दिन पूर्व बालात्कार का मामला पंजीवद्ध की थी, दूसरे दिन उसका शव स्थानीय बांध मे तैरते हुए बरामद किया गया। शव मिलने के बाद ग्रामीणो के द्वारा हत्या का आरोप लगाते हुए शव को थाना के सामने सड़क पर रखकर चक्काजाम आंदोलन शुरू कर दिया गया। पुलिस के आश्वासन के बाद करीब आधा घंटे बाद आंदोलन बंद कर शव का पीएम कराने के बाद दाह संस्कार किया गया।
बताया गया कि जिले के भुइमाड़ थाना अंतर्गत स्थानीय निवासी संदीप गुप्ता पिता कबीरदास गुप्ता का शव बांध मे मिलने की जानकारी मिलते ही उसके परिजन मौके पर पहुंच गए और उनका आक्रोश फूट पड़ा। मृतक के परिजनों का आरोप था कि संदीप गुप्ता को 15 अक्टूबर को साप्ताहिक बाजार से शाम को घर लौटते वक्त स्थानीय शिवम गुप्ता जबरन अपने घर ले जाकर बंधक बनाकर अपने साथियों के साथ मारपीट कर रहा था। जिसकी लिखित रिपोर्ट भी मृतक के पिता कबीरदास गुप्ता पिता स्व. बैजूदास गुप्ता द्वारा भुईमाड़ थाना में की गई थी। घटना स्थल पर भुईमाड़ थाना पुलिस ने पहुंचकर शव को देवरी बांध से बाहर निकलवाया और पंचनामा कार्रवाई शुरू की। शव परीक्षण के लिए शव को ले जाने से पहले ही मृतक के परिजनों ने अपने कब्जे में लेते हुए भुईमाड़ थाना के समक्ष ले जाकर सड़क में रखकर चक्काजाम कर दिया। उनकी मांग थी कि संदीप गुप्ता को बंधक बनाकर मारपीट करने वाले आरोपियों की तत्काल गिरफ्तारी करते हुए उन पर हत्या का मामला पंजीबद्ध किया जाए। मृतक के पिता कबीरदास गुप्ता का आरोप था कि उनके बेटे संदीप गुप्ता को 15 अक्टूबर को साप्ताहिक बाजार भुईमाड़ से शाम करीब 7 बजे घर लौटते वक्त शिवम गुप्ता द्वारा जबरन पकड़कर अपने घर ले जाया गया था। वहां काफी बेरहमी से मारपीट करने के बाद उनके बड़े बेटे राजेश गुप्ता को फोनकर रोशनलाल गुप्ता द्वारा उसी दिन रात में अपने घर बुलाया गया था। जब राजेश शिवम के घर पहुंचा तो देखा कि संदीप गुप्ता को रोशनलाल एवं आभा गुप्ता दोनों देवर-भाभी द्वारा काफी बेरहमी से मारा-पीटा जा रहा था। जब उसने मना किया तो रोशनलाल ने कहा कि अपने पिता को तत्काल बुलाओ। इसके बाद वह भी उनके घर पहुंचा और अपने छोटे बेटे संदीप गुप्ता को छोडऩे की गुहार लगाता रहा। फिर भी आरोपियों ने छोडऩे से साफ तौर पर मना कर दिया। उस दौरान मारपीट में रोशनलाल गुप्ता, आभा गुप्ता, शिवम गुप्ता, राजपति गुप्ता, राहुल गुप्ता रात करीब 9 बजे मौजूद थे। रात की वजह से संदीप गुप्ता को बंधक बना छोड़कर ही उसके पिता और बड़े भाई अपने घर लौट आए। अगले दिन 16 अक्टूबर को सुबह करीब 6.30 बजे राजपति गुप्ता ने फोन कर बताया कि संदीप गुप्ता उनके यहां नही है। यह जानकारी सुनते ही घर के लोग परेशान हो गए और अपने रिश्तेदारों के साथ ही अन्य संभावित ठिकानों पर तलाश करते रहे। इसी बीच शुक्रवार को 18 अक्टूबर को सुबह जानकारी मिली कि देवरी बांध में संदीप गुप्ता की लाश तैर रही है।
पांच संदेहियों को लिया गया हिरासत में-
परिजनो के आरोप-प्रत्यारोप के बीच पुलिस के द्वारा प्रारंभिक तौर पर हत्या का मामला तो पंजीवद्ध नहीं किया गया है किंतु पूंछतांछ के लिए पांच संदेहियों को हिरासत मे लेकर पूंछतांछ शुरू कर दी गई है। वहीं अज्ञात आरोपियों के विरूद्ध भुइमाड़ पुलिस के द्वारा भादवि की धारा ३४२, २९४, ३२३, ३४ के तहत मामला पंजीवद्ध कर विवेचना शुरू कर दी है।
एसआई को किया गया लाइन हाजिर-
परिजनों व ग्रामीणों के आक्रोश को देखते हुए पुलिस अधीक्षक के द्वारा भुइमाड़ थाना मे पदस्थ एसआई रामशिरोमणि पांडेय को लाइन हाजिर कर दिया गया है। मृतक के परिजनों के द्वारा १५ अक्टूवर को ही बंधक बनाकर मारपीट करने की शिकायत की गई थी किंतु पुलिस के द्वारा मामले मे गंभीरता नहीं दिखाई, यदि पुलिस सक्रिय होती तो शासद मृतक की जिंदगी बच सकती थी।