स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पांच वर्ष से अधिक समय से एक ही समिति मे डटे समिति प्रवंधक

Om Prakash Pathak

Publish: Dec 05, 2019 14:46 PM | Updated: Dec 05, 2019 14:46 PM

Sidhi

पांच वर्ष से अधिक समय से एक ही समिति मे डटे समिति प्रवंधक, तीन वर्ष से अधिक समय से एक समिति मे कार्यरत प्रवंधको का तवादला करने का दिया गया था निर्देश, राज्य शासन के निर्देश का सहकारिता विभाग कर रहा खुलेआम उल्लंघन

सीधी। राज्य शासन के द्वारा सहकारी समितियों मे पदस्थ समिति प्रवंधको को तीन वर्ष से ज्यादा समय तक एक समिति मे पदस्थ न रखने के आदेश दिए हैं। किंतु जिले मे इस आदेश का पालन नहीं हो पा रहा है बल्कि पांच वर्ष से ज्यादा समय से एक ही समिति मे प्रवंधक डटे हुए हैं किंतु उन्हें दूसरे समिति मे स्थानांतरण करना बैंक अधिकारियों के द्वारा उचित नहीं समझा जा रहा है। जिसके कारण वे समिति मे गोलामाल करने मे ब्यस्त हैं वहीं यदि तवादला होता तो उन्हें दूसरे प्रवंधक को दस्तावेज सौपने पर इनकी अनियमितता का पोल खुलने का खतरा रहता किंतु वे दवादले से वेफिक्र होकर अपने कारनामे को अंजाम देने मे जुटे हुए हैं।
ये पांच वर्ष से ज्यादा समय से है एक ही समिति मे पदस्थ-
दो दर्जन से ज्यादा समिति प्रवंधक वर्षों से एक ही समिति मे पदस्थ हैं, जिसमें सुकवारी समिति प्रवंधक चक्रधर सिंह, पड़ैनिया शिरोमणि सिंह, कोल्हूडीह लाल बहादुर सिंह, चंदवाही चक्रधर सिंह, सपही मंगलेश्वर सिंह, पतुलिखी सूर्यलाल पाठक, चिंताग बाबूलाल प्रटेल, अमिरिती राजेश सिंह, बाघड़ बिहारी लाल गुप्ता, सेमरिया लक्ष्मण प्रसाद सोनी, गुजरेड़ अवध लाल तिवारी, बेल्दह नरेश जायसवाल, मड़वास श्यामलाल मिश्रा, टमसार रामनेवाज गुप्ता, चौफाल शैलेंद्र सिंह सहित अन्य समिति प्रवंधक पांच वर्ष से ज्यादा समय से एक ही समिति मे पदस्थ हैं जिन्हे हटाने की हिम्मत बैंक प्रशासक व मुख्य कार्यपालन अधिकारी नहीं जुटा पा रहे हैं।

[MORE_ADVERTISE1]