स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बीच बस्ती में डंप किया जा रहा शहर का कचरा, रहवासियों का बुराहाल

Manoj Kumar Pandey

Publish: Sep 13, 2019 11:55 AM | Updated: Sep 13, 2019 11:55 AM

Sidhi

नगर पालिका द्वारा बीच बस्ती में खोल दिया गया कचरा प्रसंस्करण केंद्र, शहर के मड़रिया हरिजन बस्ती के लोग परेशान, दुर्गंध से बुराहाल, संक्रामक बीमारियों की चपेट में आने का बना खतरा, शहर भर का एकत्रित होता है यहां कचरा, टूटी बाउंड्री के कारण मवेशियों का रहता है जमावड़ा, प्रतिदिन नहीं हो पा रहा यहां से कचरे का उठाव, नपा की बड़ी लापरवाही

सीधी। प्रतिदिन पूरे शहर से एकत्रित किए जाने वाले कचरे को शहर की एक बस्ती के बीच डंप किया जा रहा है। यहां कचरा तो प्रतिदिन डंप किया जा रहा है लेकिन कचरे का उठाव नियमित रूप से नहीं किया जा रहा है, जिससे कचरे की सड़ांध से रहवासियों का बुराहाल तो है ही साथ ही संक्रामक बीमारियों का भी खतरा बना हुआ है। इससे यह प्रतीत होता है कि नगर पालिका परिषद सीधी के जिम्मेदार अधिकारी शहरवासियों के स्वास्थ्य के प्रति संजीदा नहीं दिख रहे हैं।
शहर के वार्ड क्रमांक-23 मड़रिया हरिजन बस्ती में नपा द्वारा बनाया गया कचरा प्रसंस्करण केंद्र हरिजन बस्ती के ठीक बीच में स्थित है, जहां रोजाना पूरे शहर के घरों का एकत्रित किया गया कचरा फेंका जा रहा है। एकत्रित कचरे की दुर्गंध से स्थानीय रहवासियों का बुराहाल है। आलम यह है कि हरिजन बस्ती के साथ ही करीब एक किमी दूरी तक सभी दिशाओं में कचरे की दुर्गंध रहती है, जिससे अन्य मुहल्लों के लोग भी प्रभावित हो रहें है। दुर्गंध के साथ ही इस कचरे की वजह से विभिन्न प्रकार की संक्रामक बीमारियों के फैलने का भी खतरा बना हुआ है। स्थानीय लोगों द्वारा बस्ती के बीच से कचरा प्रसंस्करण केंद्र हटाए जाने की मांग कई बार की जा चुकी है, लेकिन जिम्मेदारों पर इसका कोई असर नहीं पड़ा है, जिससे स्थानीय लोग काफी परेशान हैं।
केंद्र के नाम पर केवल पांच फिट ऊंची दीवाल, वो भी एक तरफ टूटी-
कचरा प्रसंस्करण केंद्र यानि डंपिंग प्वाइंट के नाम पर केवल चारों तरफ करीब पांच फिट की बाउंड्री बना दी गई है और उसमें कचरा प्रसंस्करण केंद्र नगर पालिका सीधी लेख करा दिया गया है। जिसमें से बाद में सामने की बाउंड्री आधे से ज्याद बाउंड्री तुड़वा दी गई क्योंकि महज छोटे से गेट के कारण केंद्र के अंदर कचरा उठाव करने बड़े वाहन प्रवेश नहीं कर पाते थे, डंप कचरे का उठाव करने के लिए जेसीबी वाहन का प्रयोग किया जाता है, और मिनी ट्रक में लोड किया जाता है, जिसे निर्धारित स्थल ग्राम बरमानी भेजा जाता है।
दो पाली में डंप होता है कचरा-
स्थानीय लोगों ने बताया कि नगर पालिका द्वारा यहां प्रतिदिन सुबह व शाम दो पाली में कचरा डंप किया जाता है, नियमानुसार कचरे का उठाव प्रतिदिन कर दिया जाना चाहिए, लेकिन इस मामले में भी लापरवाही की जा रही है। यहां से प्रतिदिन कचरे का उठाव नहीं किया जाता है, बल्कि दूसरे तीसरे दिन जब कचरे का ढेर लग जाता है तब इसका उठाव किया जाता है। बारिश के कारण कचरा और अधिक सड़ांध मारने लगता है, वहीं मच्छर व मक्खियां भी भिनकते रहते हैं। जिससे संक्रामक बीमारियां फैलने का खतरा बना हुआ है।
दिन भर रहता है आवारा मवेशियों का जमावड़ा, जान पर बना खतरा-
कचरा प्रसंस्करण केंद्र की सामने की बाउंड्री पूरी तरह से टूटी होने के कारण यहां दिन भर आवारा मवेशियों का जमावड़ा लगा रहता है, कचरे के ढेर में आवारा मवेशी गंदगी, पॉलीथीन आदि का सेवन करते रहते हैं, जिससे उनकी जान पर खतरा बना रहता है। पशुओं का प्रवेश प्रतिबंधित करने के लिए नपा द्वारा कोई व्यवस्था नहीं की गई है।
बगल में संचालित है आईटीआई-
कचरा प्रसंस्करण केंद्र हरिजन बस्ती के ठीक बगल में तो संचालित किया ही जा रहा है, वहीं ठीक बगल में शासकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान भी संचालित है, जिससे यहां भी दुर्गंध का प्रभाव बना रहता है। यहां के बच्चे व स्टाफ भी कचरे की दुर्गंध से परेशान रहते हैं।
स्थानीय लोगों ने सुनाया दर्द-
..........यहां नगर पालिका द्वारा बीच बस्ती में कचरा डंपिंग प्वाइंट बना दिया गया है, जिससे चौबीसों घंटे निकलने वाली दुर्गंध से हमारा जीना मुहाल हो गया है, इसे हटाने की कई बार शिकायत की गई, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है।
गुप्तेश्वरनाथ वर्मा, स्थानीय निवासी
...........नगर पालिका का कचरा डंपिंग प्वाइंट बीच बस्ती में बनाने से काफी समस्या हो रही है, यहां दुर्गंध के कारण विभिन्न प्रकार की संक्रामक बीमारियों के चपेट मेें आने का खतरा बना हुआ है। लेकिन गरीबों की कौन सुनता है, हम तो शिकायत करके थक चुके।
राजकली वर्मा, स्थानीय निवासी
...........बीच बस्ती में पता नहीं किस नियम के तहत कचरा डंपिंग प्वाइंट बनाया गया है, कचरा डंपिंग प्वाइंट के नाम पर केवल पांच फिट ऊंची दीवाल खड़ी कर दी गई है, वो एक तरफ से तोड़ दी गई है, यह पूरी तरह से खुला है, जिससे बस्ती में दुर्गंध व्याप्त रहती है।
अनिल वर्मा, स्थानीय निवासी
.............कचरा डंपिंग प्वाइंट की बाउंड्रीवाल टूटा होना भी एक बड़ी समस्या है, यहां दिन भर आवारा मवेशियों का जमावड़ा लगा रहता है, जो कचरे का सेवन कर बीमार पड़ते हैं, कुछ मवेशियों की तो मौत भी हो चुकी है, लेकिन नपा के जिम्मेदार अधिकारी बेपरवाह बने है।
सुनील सिंह, स्थानीय निवासी
..........डंपिंग प्वाइंट से कचरे का उठाव एक दो घंटे के अंदर कर दिया जाना चाहिए, लेकिन यहां ऐसा नहीं किया जा रहा हैं, नियमित रूप से कचरा उठाव न किए जाने से दुर्गंध व्याप्त रहती है। वहीं कचरे में आग लगाने से बस्ती में भी आग फैलने का खतरा बना रहता है।
शंकरलाल साकेत, स्थानीय निवासी
जमीन की तलाश की जा रही है-
यह कचरा डंपिंग प्वाइंट अस्थाई तौर पर बनाया गया है, यह स्थल केवल कचरा एकत्रित करने के लिए है, इसके बाद निर्धारित स्थल बरमानी भेज दिया जाता है। डंपिंग प्वाइंट के लिए जमीन की तलाश की जा रही है। जैसे ही जमीन की उपलब्धता बनेगी, डंपिंग प्वाइंट स्थल बदल दिया जाएगा।
अमर बहादुर सिंह
सीएमओ, नगर पालिका परिषद सीधी