स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

50 दर्जन केले, 10 किग्रा सेव अनार व 50 गन्ने की डाइट ले रहे बापू व भरत बहादुर

Manoj Kumar Pandey

Publish: Sep 14, 2019 20:51 PM | Updated: Sep 14, 2019 20:51 PM

Sidhi

हांथी महोत्सव के दौरान संजय टाईगर रिजर्व के प्रशिक्षित हांथियों को दी जा रही स्पेशल डाइट, संजय टाईगर रिजर्व अंतर्गत दुबरी अभ्यारण्य के खैरी झील के पास मनाया जा रहा हांथी महोत्सव, 17 सितंबर को समारोह पूर्वक होगा हांथी महोत्सव का समापन

सीधी। संजय टाईगर रिजर्व में इन दिनों हांथी महोत्सव मनाया जा रहा है। बाघों की निगरानी के लिए रखे गए हांथी बापू व भरत बहादुर को इस महोत्सव के दौरान कार्य से अवकाश देकर विशेष देखभाल की जा रही है। उनसे किसी भी प्रकार का कार्य नहीं लिया जा रहा है, इसके अलावा उन्हे स्पेशल डाइट दी जा रही है। स्पेशल डाइट के रूप में प्रशिक्षित हांथियों बापू व भरतबहादुर को प्रतिदिन पचास-पचास दर्जन केले, दस-दस किलोग्राम सेव, अनार व मोसम्मी के साथ ही पचास-पचास नग गन्ने खिलाए जा रहे हैं। हांथियों को यह डाइट विभाग द्वारा हांथी महोत्सव हेतु उपलब्ध कराए गए विशेष बजट से दी जा रही है, इसके अलावा विभागीय अधिकारियों द्वारा आमलोग से भी अपील की गई है कि वह हांथी महोत्सव में शामिल होकर हांथियों का दर्शन करने के साथ ही उन्हे फलाहार करा सकते हैं। विभागीय अधिकारियों की इस अपील पर आस-पास के ग्रामीण अंचलों से लोग पहुंचकर हांथियों को फलाहार करा रहे हैं।
क्यों मनाया जाता है हांथी महोत्सव-
हांथी को भगवान गणेश का रूप माना जाता है। इसलिए गणेश चतुर्थी के आस-पास संजय टाईगर रिजर्व में प्रतिवर्ष हांथी महोत्सव मनाया जाता है। सार्वजनिक रूप से इस महोत्सव को मनाने का उद्देश्य यह है कि आम लोगों का वन्य प्राणियों के प्रति लगाव बढ़े। यह महोत्सव सात दिवस तक चलता है। जिसमें हाथियों का स्वास्थ्य परीक्षण एवं आस्था का प्रतीक मानकर भी विशेष पूजा अर्चना कर फलाहार कराया जाता है। इस महोत्सव के दौरान 7 दिनों तक हाथियों से किसी प्रकार की सेवा नहीं ली जाती है, और सातों दिन विशेष फलों का ही आहार दिया जाता है।
खैरी झील के पास चल रहा महोत्सव-
संजय टाईगर रिजर्व द्वारा आयोजित सात दिवसीय हांथी महोत्सव संजय दुबरी अभ्यारण्य के खैरी झील के पास आयोजित किया जा रहा है। महोत्सव का शुभारंभ ११ सितंबर को किया गया था जो 17 सितंबर तक चलेगा। हलांकि वर्तमान समय में संजय टाईगर रिजर्व में पर्यटकों का प्रवेश निषेध किया गया है, टाईगर रिजर्व आगामी 1 अक्टूबर से पर्यटकों के लिए ओपेन किया जाएगा, लेकिन हांथी महोत्सव के कारण दुबरी अभ्यारण्य के खैरी झील तक पर्यटकों एवं आम लोगों को जाने की अनुमति प्रदाय की गई है।
प्रतिदिन स्नान एवं पूजा अर्चना-
हांथी महोत्सव के दौरान संजय टाईगर रिजर्व के प्रशिक्षित हांथी बापू व भरत बहादुर को प्रतिदिन सुबह स्नान कराया जाता है, इसके बाद उनकी विधिवत पूजा अर्चना के बाद फलाहार कराया जाता है, तत्पश्चात दिन भर आराम कराया जाता है।
महोत्सव का होगा भव्य समापन-
संजय टाईगर रिजर्व के दुबरी अभ्यारण्य में सात दिवसीय हांथी महोत्सव मनाया जा रहा है, महोत्सव को आस्था का प्रतीक भी माना जा रहा है। महोत्सव का 11 सितंबर को भव्य शुभारंभ किया गया था, इसका समापन भी भव्यता के साथ 17 सितंबर को किया जाएगा। समापन अवसर पर स्पेशल डॉक्टर्स टीम द्वारा स्वास्थ परीक्षण कराया जाएगा।
बीरभद्र सिंह
रेंजर, संजय दुबरी अभ्यारण्य