स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

चोरी की कार विक्रय करने का आरोपी मिस्त्री चढ़ा पुलिस के हत्थे

Manoj Kumar Pandey

Publish: Sep 11, 2019 13:53 PM | Updated: Sep 11, 2019 13:53 PM

Sidhi

एक नंबर से चल रही थी दो कार, शिकायत पर पुलिस ने किया था जब्त, मिस्त्री पर दर्ज किया गया अपराध, कोतवाली पुलिस की कार्रवाई

सीधी। सिटी कोतवाली पुलिस ने शहर में गैराज संचालित करने वाले एक मैकेनिक को चोरी की कार के चेचिस में हेरफेर कर बेंचने वाले मैकेनिक को गिरफ्तार कर चोरी की दो कारों को जब्त किया है। आरोपी द्वारा जिनके कार के चेचिस नंबर में हेरफेर कर जिला परिवहन कार्यालय सीधी के नाम से जारी फर्जी रजिस्ट्रेशन पत्र भी उपयोग में लाए जा रहे थे।
कोतवाली थाना प्रभारी आदित्य प्रताप सिंह ने बताया कि शहर के मड़वास रोड में स्थित पेट्रोल पंप के पास गैराज संचालित करने वाला आदित्य किशोर विश्वकर्मा पिता अवध किशोर विश्वकर्मा 34 वर्ष निवासी खरवाही थाना अमरपाटन जिला सतना को चोरी की कार विक्रय के मामले में शंका के आधार पर हिरासत में लिया गया था। उक्त व्यक्ति बाईपास के पास अपनी दुकान करीब तीन वर्ष से संचालित कर रहा था। जिसके संबंध दिल्ली-मुंबई के चोर गिरोह से होने के कारण वह बाहर से चोरी की कार लाकर अपने गैराज में खड़ा कर लिया करता था। स्थानीय लोगों ने पुलिस के पास शिकायत किया था कि जब कोई भी व्यक्ति उसके दुकान में अपनी कार बनवाने जाता तो उसे उसकी कार बिल्कुल समाप्त हालात में होने की जानकारी देकर अपने झांसे में ले लेता था। इसके लिए वह कार मालिक से कहता था कि पुरानी कार में लगभग 40 हजार रुपए इंजन बनवाने में लगेंगे उसके बाद उनको धीरे से समझाता की आपकी गाड़ी काफी पुरानी मॉडल की है और आपके गाड़ी में लंबा खर्च भी है। अगर आप 50 हजार रूपए दे दो तो लेटेस्ट मॉडल की नई गाड़ी आपको दे दूंगा और नंबर रजिस्ट्रेशन आपका ही लग जाएगा। यहां तक कि चेचिस नंबर भी काटकर जुड़वा दिया जाएगा कोई कभी नही जान सकता। बस यही झांसा देकर चोरी की गाडिय़ां यहां इसी प्रकार बेंचा करता था और उनकी पुरानी गाडिय़ों को पलटी में ले लिया करता था। जिसकी जानकारी होते ही टीआई सीधी द्वारा ऐसी ही फर्जी कार इंडिका को जब्त किया जो मड़वास के शराब के भ_ी में सेल्समैन को बेंची गई थी और उस सेल्समैन की कार पल्टी में मिस्त्री द्वारा ले ली गई थी। साथ ही सेल्समैन द्वारा अपने पुरानी कार का नंबर उसमे लगाकर कई दिनों से अपने उपयोग में लिया जा रहा था। उपरोक्त दोनो कारों को कोतवाली प्रभारी द्वारा पुलिस अभिरक्षा में लेने के साथ ही विवेचना शुरू की गई। विवेचना के दौरान आरोपी आदित्य किशोर विश्वकर्मा महाराष्ट्र एवं दिल्ली से लाई गई कारों के संबंध में कोई कागजात प्रस्तुत नहीं कर सका। साथ ही जो स्थानीय परिवहन कार्यालय के माध्यम से रजिस्ट्रेशन नंबर उपयोग में लाया जा रहा था वह भी फर्जी मिला। जिसके बाद कोतवाली थाना में आरोपी के विरूद्ध भादवि की धारा 420, 379, 41४ तहत अपराधिक मामला पंजीबद्ध किया गया।
........आरोपी मैकेनिक आदित्य किशोर विश्वकर्मा के कब्जे से दो कार जब्त की गई हैं। कार के चेचिस नंबर में जांच के दौरान हेराफेरी मिली, साथ ही लोकल रजिस्ट्रेशन नंबर के फर्जी कागजात दिखाकर वह बच जाता था। आरोपी के विरूद्ध मामला दर्ज कर गिरफ्तार करते हुए न्यायालय में प्रस्तुत किया जा रहा है।
आदित्य प्रताप सिंह
नगर निरीक्षक, कोतवाली सीधी
०००००००००००००००००००००