स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

हत्या का आरोप लगाते हुए किया गया चक्काजाम

Om Prakash Pathak

Publish: Dec 05, 2019 14:35 PM | Updated: Dec 05, 2019 14:35 PM

Sidhi

हत्या का आरोप लगाते हुए किया गया चक्काजाम, पांच घंटे बंद रहा राष्ट्रीय राजमार्ग-३९, एएसपी की समझाइस के बाद समाप्त हुआ आंदोलन, जमोड़ी थाना के सामने किया गया चक्काजाम, पुलिस को करनी पड़ी मसक्कत

सीधी। शहर के जमोंड़ी बाईपास मार्ग में बुधवार को 5 घंटे तक मृतक के परिजनों ने चक्काजाम करते हुए जमोंड़ी थाना पुलिस द्वारा की जा रही कार्रवाई पर अपना आक्रोश जताया। चक्काजाम की खबर मिलते ही भारी संख्या में पुलिस बल मौके पर पहुंच गया। यहां तक कि अन्य थानों से भी पुलिस बल को बुलाया गया था। जिसके चलते चक्काजाम स्थल पुलिस छावनी में तब्दील रहा। मौके पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक एवं गोपद बनास के प्रभारी एसडीएम सुधीर बेग द्वारा मृतक के परिजनो को जल्द उचित कार्रवाई सुनिश्चित कराने का भरोसा लगातार दिया जाता रहा। लेकिन परिजन कुछ लोगों पर तत्काल हत्या का मामला पंजीबद्ध करने व थाना प्रभारी अभिषेक सिंह परिहार को हटाने की मांग पर अड़े हुए थे। सुबह करीब 11 बजे से प्रारंभ हुआ चक्काजाम अपरान्ह्र करीब 4 बजे अधिकारियों की समझाइस के बाद गोपदबनास के प्रभारी एसडीएम सुधीर बेग को मृतक के परिजनों द्वारा ज्ञापन सौंपने के बाद समाप्त हुआ। इस दौरान बाईपास मार्ग में भारी वाहनों का तांता दोनो तरफ लगा हुआ था।
बताया गया कि जमोड़ी थाना अंतर्गत अंधियारखोह निवासी बसंत साकेत ३० अक्टूवर को अपने घर के छत पर बैठकर साथियों के साथ शराब का सेवन कर रहा था, इस दौरान अचानक वह छत के नीचे गिर गया, जिसे गंभीर रूप से चोटे आई, जिसे उपचार के लिए जिला चिकित्सालय लाया गया, हालत गंभीर होने पर रीवा के लिए रेफर कर दिया गया। जहां उपचार के दौरान घायल की मौत हो गई। जिस पर परिजनों के द्वारा आरोप लगाया जा रहा है कि उसके साथियों के द्वारा छत से धक्का देकर हत्या की गई है। हत्या का मामला पंजीवद्ध करने वह थाना प्रभारी पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए उसे जमोड़ी थाना से हटाने की मांग को लेकर चक्काजाम आंदोलन बुधवार को किया गया।
एसपी कार्यालय के सामने शव रखकर किया था प्रदर्शन-
घटना से नाराज परिजनों द्वारा शव को रीवा अस्पताल से लाकर पुलिस अधीक्षक कार्यालय सीधी के सामनें 31 अक्टूबर को रख कर धरना प्रदर्शन किया गया था। परिजनों की मांग थी कि शराब सेवन के समय गंभीर मारपीट में नाबालिग बंसत साकेत की जान गई थी। उक्त प्रकरण में जमोंड़ी थाना पुलिस द्वारा मर्ग कायम कर जॉच की गई तो पता चला कि सबसे पहले मदद हेतु आए चार सामान्य वर्ग के लोगों द्वारा पुलिस एवं घायलों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मुहैया कराने का प्रयास किया गया था। इस पर मदद करने वालों पर ही अपराधिक मामला पंजीबद्ध कराने का प्रयास किया जा रहा है। इस मामले की जांच डीएसपी के द्वारा की जा रही है।
क्या है मामला-
30 अक्टूबर 2019 को अधिंयारखोह में तीन बच्चों द्वारा छत में बैठ कर शाम के समय शराब का सेवन किया जा रहा था। तभी नाबालिग बसंत साकेत छत के नीचे गिर गया। गंभीर रूप से घायल होने पर परिजनों द्वारा उपचार के लिए जिला चिकित्सालय लाया गया जहां हालत नाजुक देखते हुए रीवा रेफर किया गया, घटना के लगभग चौदह घंटे बाद रीवा में मौत हो गई थी। जिसके बाद शव सीधी लाकर प्रदर्शन किया गया जहां अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अंजुलता पटले द्वारा जारी अधिकारिक बयान में बताया गया था कि 30 अक्टूबर 2019 को तीन बच्चे छत पर बैठे हुए थें जिसमें एक बच्चा गिर गया और उसे उपचार हेतु अस्पताल लाया गया जहा उसकी मौत हो गई।
एसडीएम ने सड़क पर दी चक्काजाम की अनुमति-
आंदोलन के लिए मृतक की मां के द्वारा उपखंड अधिकारी को आवेदन देकर अनुमति की मांग की गई थी। आंदोलन के लिए जिस स्थान का जिक्र किया गया था, वह स्थान राष्ट्रीय राजमार्ग-३९ मे शामिल है किंतु उपखंड अधिकारी के द्वारा इस बात का ध्यान न रखते हुए आंदोलन की अनुमति भी दे दी गई, जिस पर बुधवार को आंदोलनकारियों के द्वारा सड़क को जाम कर आंदोलन किए।
स्थिति खराब होने के बाद भी एसपी का नहीं उठा फोन-
थाना प्रभारी व अन्य प्रशासनिक अधिकारियों के समझाने के बाद भी जब आंदोलनकारियों के द्वारा जाम बहाल करने को तैयार नहीं हुए तब थाना प्रभारी के द्वारा घटना से अवगत कराने व आगे क्या कदम उठाया जाए इसके लिए पुलिस अधीक्षक के पास लगातार फोन लगाया गया किंतु पुलिस अधीक्षक के द्वारा एक भी मर्तवा थाना प्रभारी का फोन रिसीव करना उचित नहीं समझा गया, तब घटना से अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक को अवगत कराया गया वे मौके पर पहुंचकर स्थिति सामान्य बनाने के प्रयास मे जुटी रही।
डीएसपी कर रहे हैं जांच-
उक्त प्रकरण का मर्ग कायम कर जांच चल रही है। आवेदकों द्वारा मददगारों को ही मोहरा बना कर सत्यता की दिशा और दशा बदलने का प्रयास किया जा रहा है। इस मामले की जांच डीएसपी के द्वारा की जा रही है।
अभिषेक सिंह परिहार
थाना प्रभारी, जमोड़ी

[MORE_ADVERTISE1]