स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

ऐसा क्या लिखा है इस पोस्टर में की सुर्खियों में आ गया, पढ़ने के बाद लोग कर रहे हैं तारीफ

Pawan Tiwari

Publish: Jul 15, 2019 11:36 AM | Updated: Jul 15, 2019 11:36 AM

Shivpuri

  • इस पोस्टर को पढ़कर लोग तारीफ कर रहे हैं।

शिवपुरी . मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले की बैराड़ नगर परिषद में एक पोस्टर आजकल सुर्खियों को बिषय बना हुआ है। ये पोस्टर सरकार या किसी विज्ञापन एजेंसी के द्वारा नहीं लगाया गया है बल्कि यह पोस्टर एक सरकारी कर्मचारी के द्वारा लगाया गया है। ये पोस्टर इन दिनों बैराड़ नगर परिषद के अंदर आने वाले लोगों के घरों की दीवारों में चस्पा किए गए हैं। दरअसल, ये पोस्टर एक पटवारी के द्वारा लगाए गए हैं जिसमें पटवारी ने लिखकर लोगों की सूचित किया है कि मेरे द्वारा किसी भी तरह की कोई वसूली किसी से नहीं की जा रही है।


आम सूचना छपवाकर दी जानकारी
बैराड़ में एक पटवारी ने बाकायदा आम सूचना छपवाकर बाजार में जगह-जगह दीवारों पर चिपकवा दी है। जिसमें लिखा है कि मेरे नाम से यदि कोई वसूली करता है तो उसे किसी तरह से पैसे नहीं दें। यदि कोई पैसा देता है तो उसके लिए वो खुद ही जिम्मेदार होगा क्योंकि मेरे द्वारा किसी भी पात्र व्यक्ति से कोई राशि नहीं मांगी जा रही है। दरअसल, बैराड़ के हल्का नंबर 30 कालामढ़ के पटवारी विष्णु प्रसाद भार्गव ने आम सूचना लिखकर दीवारों पर चस्पा करवा दिए हैं।

 

उसमें उन्होंने लिखा है कि बैराड़ नगर परिषद के वार्ड क्रमांक 8 से 14 में रहने वाले लोगों को आम सूचना के माध्यम से स्पष्ट करना चाहता हूं कि आजकल आवास योजना में घर पास करने के लिए पटवारी के नाम से अवैध वसूली की चर्चाएं चल रही हैं। जबकि मेरे द्वारा किसी भी व्यक्ति से रुपयों की मांग नहीं की गई है। यदि कोई व्यक्ति बहकावे में आकर रुपए देता है तो वो स्वयं दोषी और जिम्मेदार होगा। 14 जुलाई तक मुझे आवास की सूची प्राप्त नहीं हुई है, जैसे ही सूची मिलेगी नियमानुसार पात्र लोगों को उसका लाभ दिया जाएगा। बताया जा रहा है कि इस पोस्टर को पढ़ने के बाद लोग पटवारी की तारीफ कर रहे हैं।

 

poster

 

जनवरी में रिश्वत लेते पकड़ा गया था एक पटवारी
शिवपुरी जिले के नवाब रोड क्षेत्र में रहने वाले पटवारी को लोकायुक्त पुलिस ने उसी के घर दो हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकड़ा था। शिवपुरी तहसील में पदस्थ पटवारी द्वारा एक किसान से सीमांकन के एवज में छह हजार रुपए की रिश्वत की मांग की जा रही थी।