स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बच्चे की मौत का बदला ले रहा है कौआ, तीन साल से युवक के पीछे है पड़ा

Muneshwar Kumar

Publish: Aug 31, 2019 18:57 PM | Updated: Aug 31, 2019 18:58 PM

Shivpuri


जानिए, इंसान से किस बात का बदला ले रहा है कौआ

शिवपुरी/ इंसानों में तो बदला लेने की फितरत होती है। किस्सों-कहानियों में आपने नाग-नागिन की भी कहानी सुनी होगी। लेकिन मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले में एक कौआ इंसान से बदला रहा है। पिछले तीन सालों से कौआ इंसान के जान का दुश्मन बना हुआ है। वह इंसान को देखते ही उस पर हमला कर देता है। उस इंसान की हालत ऐसे हो गई है कि वह रात के अंधेरे में अब घर से निकलता है।

 

दरअसल, बदरवास नगर में स्थित एक होटल पर काम करने वाला युवक पिछले तीन साल से कौओं की दुश्मनी झेल रहा है। ग्राम सुमैला में रहने वाला यह युवक जब सुबह काम पर आता है तथा जब वापस अपने घर जाता है, तो बिना लाठी के वो नहीं निकल सकता। क्योंकि वो जैसे ही सडक़ पर निकला तो कौए उस पर अटैक कर देते हैं। शुक्रवार को जब इस दुश्मनी को देखने के लिए संवाददाता ने उसे बिना लाठी के सडक़ पर निकाला तो इसी बीच कौए ने सिर में दो जगह चोंच मारकर उसे चोटिल कर दिया।

12_4.jpg

 

बच्चे की मौत का ले रहा बदला
शिवा ने बताया कि लगभग तीन साल पूर्व जब मैं अपने गांव से बदरवास की तरफ आ रहा था, तो रास्ते में कौए का एक बच्चा एक जाली में फंसा हुआ नजर आया। उसे जाली में फंसा देखकर शिवा ने उसे निकालने का प्रयास किया, लेकिन कौए का बच्चा मर गया। शिवा बताता है कि उसके बाद से तो उसका सडक़ पर निकलना मुश्किल हो गया। शुरुआत में जब कौओं ने हमला किया तो उसकी समझ नहीं आया, लेकिन बाद में उसे याद आया कि मेरे हाथ से कौए का बच्चा मरने की वजह से यह कौए दुश्मन हो गए।

14_2.jpg

 

घर से लाठी लेकर निकलता है बाहर
उसके बाद से तो शिवा अपने गांव से निकलने समय हाथ में लाठी लेकर निकलता है और जैसे ही कौए उस पर अटैक करते हैं तो वो हवा में लाठी घुमाने लगता है। वैसे होटल पर उसका काम शाम को निपट जाता है, लेकिन वो कौओं के हमले से बचने के लिए अंधेरा होने का इंतजार करता है, ताकि कौए अपने घोंसलों में पहुंच जाए और वो सुरक्षित अपने घर पहुंच सके। शिवा बताता है कि हमलावर कौए दो हैं, जिसमें संभवत: एक उस मृत कौए के बच्चे की मां है। अमूमन यह माना जाता है कि कौए कुछ दिन तक अपने दुश्मन को याद रखते हैं, लेकिन शिवा उनकी दुश्मनी को पिछले तीन साल से झेल रहा है।