स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

राजस्व मंत्रालय के निर्देश के बाद भी पटवारियों के नहीं हुए तबादले

Rakesh shukla

Publish: Sep 28, 2019 16:45 PM | Updated: Sep 28, 2019 16:45 PM

Shivpuri

स्थानीय प्रशासन नहीं कर रहा कार्रवाई, भ्रष्टाचार के आरोप के चलते किसान कांग्रेस नेता ने की थी शिकायत

शिवपुरी/करैरा. जिले के करैरा अनुविभाग पदस्थ आधा दर्जन पटवारियों पर भ्रष्टाचार के आरोपों के चलते विगत दिनो करैरा के किसान कांग्रेस के महासचिव ने प्रदेश के राजस्व मंत्री से मिलकर इनके तत्काल तबादले की मांग की थी। इस पर मंत्री सहित राजस्व मंत्रालय ने इन पटवारियों के तबादले से संबंधित निर्देश जिला कलेक्टर को जारी कर दिए थे। आदेश हुए कई दिन बीत गए लेकिन अभी तक पटवारियों के स्थानातंरण नहीं हुए हैं।


जानकारी के मुताबिक आदर्श ग्राम सिरसौद में पटवारियों की मिलीभगत से करोड़ों रुपए की बेशकीमती सरकारी जमीनों पर कुछ लोगों ने अतिक्रमण कर लिया थ। कई बार वरिष्ठ कार्यालय से इन अतिक्रमणों को हटाने के निर्देश दिए लेकिन इन पटवारियों ने सांठगांठ कर इन लोगो पर कोई कार्रवाई नहीं की और आए दिन सरकारी जमीन पर अतिक्रमण जारी है। इसके अलावा इन पटवारियों द्वारा किसानों को भी उनके काम के लिए परेशान करने की काफी शिकायतें थी जिस पर किसान कांग्रेस के महासचिव मान सिंह फौजी ने प्रदेश के राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत से मिलकर करैरा में पदस्थ आधा दर्जन पटवारियों की पुख्ता प्रमाणों के साथ कुछ दिन पूर्व शिकायत की थी। इके बाद मंत्री ने इस मामले में अधीनस्थ अधिकारियों से उक्त पटवारियों के तबादले करने के आदेश दिए थे। बड़ी बात यह है कि मंत्री के आदेश के बाद भी सभी पटवारी करैरा में ही पदस्थ हैं।

2 अगस्त को जारी हुए थे तबादले आदेश
राजस्व मंत्रालय के पत्र क्रमांक 3156 दिनांक 2 अगस्त 2019 को जारी आदेश में स्पष्ट रूप से लिखा गया है कि करैरा के पांच भ्रष्टाचार में लिप्त पटवारियों पर तत्काल कार्रवाई कर अन्य तहसीलों मे स्थानांतरण किया जाए। इन पटवारियों में करैरा के नीरज लोधी, बलराम धाकड़, राकेश गुप्ता, भानू जाटव व रामबाबू गोस्वामी शामिल हैं। आदेश जारी हुए डेढ़ माह से अधिक का समय व्यतीत हो चुका है, लेकिन इसके बाद भी जिला मुख्यालय के अधिकारियो ने अभी तक इन पटवारियों को स्थानातंरित नही किया है।

जिन पटवारियों के स्थानांतरण के संबंध में पत्र आया था, उनकी शिकायतों की जानकारी हमें नहीं थी। इसलिए हमने उस मामले में की गई शिकायतों की जांच करने के लिए एडीएम को कहा है। जांच के उपरांत ही उस प्रक्रिया को पूरा किया जाएगा।
अनुग्रहा पी, कलेक्टर शिवपुरी