स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

फर्जी कर्ज माफी घोटाला करने वाले समिति प्रबंधक पर उपायुक्त के आदेश के बाद भी नहीं हुई एफआईआर

Rakesh shukla

Publish: Sep 29, 2019 16:14 PM | Updated: Sep 29, 2019 16:14 PM

Shivpuri

लाखों रुपए के कर्ज घोटाले को प्रबंधक ने दिया था अंजाम

 

शिवपुरी. जिले के करैरा अनुभाग के दिनारा क्षेत्र स्थित ग्राम ढांड निवासी एक किसान सहित अन्य कई किसानों के नाम पर कालीपहाड़ी कृषि सहकारी समिति के प्रबंधक ने फर्जी तरीके से कर्ज निकाल लिया। इसके बाद जब किसान कर्ज माफी की सूची चस्पा की गई तो उसमें इन किसानों के नाम आए तो मामले का खुलासा हुआ। इस पूरे मामले में जब शिकायत की गई तो सहकारिता उप आयुक्त ने इस मामले में एफआईआर सहित राशि वसूली करने के आदेश दिए थे, इसके बाद भी आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई और जिन किसानों का नाम जबरन माफी सूची में जोड़ा गया है उनको न्याय नहीं मिल पा रहा।


जानकारी के मुताबिक कुछ महीनो पूर्व कालीपहाड़ी कृषि सहकारी समिति के प्रबंधक शहजाद अहमद कुर्रेशी ने कई किसानों के नाम से फर्जी तरीके से कर्ज निकालकर शासन के लाखों रुपए हड़प लिए और बाद में जब ऋण माफी योजना आई तो उन सभी किसानों के नाम उस सूची में डाल दिए गए। इसका खुलासा तब हुआ जबकि ग्राम ढंाड़ निवासी किसान रमेश चंद्र शर्मा का नाम कर्ज न लेने के बाद भी ऋण माफी की सूची में आया। ऐसा नहीं है कि यह सिर्फ रमेश के साथ हुआ बल्कि इस सूची में दर्जनों किसानों के नाम शामिल हैं। इन सभी किसानों ने मामले की शिकायत सहकारिता से लेकर एसडीएम और सीएम हेल्पलाइन में की, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। बाद में मामले की शिकायत सहकारिता के उप आयुक्त के पास 10 जुलाई 2019 को पहुंची तो उप आयुक्त ने इस पूरे मामले में कलेक्टर शिवपुरी सहित शाखा प्रबंधक जिला सहकारी केंद्रीय बैंक करैरा को तत्कालीन समिति प्रबन्धक शहजाद अहमद कुरैशी से राशि वसूली व उनके खिलाफपुलिस प्रकरण दर्ज कराने का आदेश दिया। इतना ही नहीं इस कार्रवाई के लिए आयुक्त ने तीन दिवस की समय सीमा भी दी थी, लेकिन फिर भी जिम्मेदार अधिकारियों ने समिति प्रबंधक पर कोई कार्रवाई नहीं की और न राशि की वसूली गई है।

सीएम हेल्पलाइन में गुमराह कर दी जानकारी
पीडि़त रमेश ने 24 अप्रैल 2019 में शिकायत सीएम हेल्पल लाइन पर क्रमांक 8 235736 पर शिकायत की थी, जिसकी 14 मई को जांच करैरा एसडीएम द्वारा किया जाना बताया गया और इसके बाद कई बार जांच हेतु प्रेषित करने की सूचना मिली लेकिन जांच के बाद कार्रवाई कुछ नहीं हुई। पीडि़त ने फिर शिकायत की तो जवाब मिला कि आपकी शिकायत का निराकरण करते हुए समिति प्रबंधक शहजाद अहमद कुरैशी दोषी पाया गया तथा नोटिस जारी कर राशि जमा करने को निर्देशित किया गया। राशि जमा न करने पर वैधानिक कार्रवाई की जाएगी। इसके बाद कोई कार्रवाई अभी तक नहीं हुई, केवल दस्तावेजों में ही कार्रवाई होने की बात चल रही है।


मामले की मुझे जानकारी नहीं है। मैं अभी-अभी करैरा में आया हंू।आपने मामला बताया है तो मैं इसको दिखवा लेता हूं। देखने के बाद भी कुछ बोल पाऊंगा।
जयबीर सिंह धाकड़, शाखा प्रबंधक जिला सहकारी केंद्रीय बैंक शाखा करैरा