स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

एक साल से कॉलेज के कक्षों में रखीं ईवीएम, पढ़ाई हो रही प्रभावित

Rakesh shukla

Publish: Oct 05, 2019 23:07 PM | Updated: Oct 05, 2019 23:07 PM

Shivpuri

क्लासेस भी करनी पड़ रही हैं एडजस्ट, एक साल से घिरे कॉलेज के आधा दर्जन कमरे

 

शिवपुरी. कॉलेज में ईवीएम मशीन के लिए बनाए गए स्ट्रांग रूम के कारण पिछले एक साल से माधवराव सिंधिया स्नातकोत्तर महाविद्यालय के आधा दर्जन कमरे घिरे हुए हैं। इन कमरों के कारण कॉलेज में न तो फिजिक्स के पै्रक्टिकल हो पा रहे हैं औ न ही लॉ की लाइब्रेरी तथा रीडिंग रूम बन पा रहा है।


उल्लेखनीय है कि प्रशासन ने विधानसभा चुनावों से पहले अक्टूबर २०१८ में शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय को अपने पजेशन में ले लिया था। तत्समय कॉलेज की क्लासेस पॉलीटेक्निक कॉलेज में संचालित की गईं। कॉलेज में बच्चों की डिस्टर्ब हो रही पढ़ाई को देखते हुए कॉलेज के कुछ हिस्सों को छोड़ कर शेष कॉलेज को खोल दिया गया। विधानसभा चुनाव के नतीजे घोषित होने के कुछ दिनों बाद ही लोकसभा चुनाव के लिए कॉलेज को पजेशन में लेने की प्रक्रिया शुरू हो गई। मई २०१९ में लोकसभा चुनाव भी संपन्न हो गए। इस दौरान कॉलेज प्रबंधन ने कलेक्टर को संबोधित करते हुए कई पत्र लिख दिए हैं, जिनमें उल्लेख किया गया है कि कालेज में ईवीएम के लिए बनाए गए स्ट्रांग रूम के कारण बच्चों की क्लासेस व पढ़ाई प्रभावित हो रही है। इसके अलावा मेच्योरिटी टाइम भी काफी समय पहले पूरा हो चुका है, ऐसे में बच्चों की पढ़ाई को ध्यान में रखते हुए यहां से ईवीएम मशीनों को हटवाने का आग्रह प्रशासनिक अधिकारियों से किया गया है। पूर्व में अधिकारियों ने कॉलेज प्रबंधन को आश्वासन दिया था कि उन्होंने चुनाव आयोग से मार्गदर्शन मांगा है, जल्द ही इन मशीनों को हटवाया जाएगा। इसके बाद भी कई महीने गुजर चुके हैं, लेकिन मशीनें नहीं हटी हैं। कॉलेज प्रबंधन ने सप्ताह भर पहले एक बार फिर एक पत्र कलेक्टर को लिखा है, जिसमें इन मशीनों को हटवाने का आग्रह किया है। कॉलेज प्रबंधन का कहना है कि इन कमरों के घिरे होने के कारण एक तो फिजिक्स की लैब संचालित नहीं हो पा रही है, क्योंकि जो कमरा सील्ड किया गया है उसमें फिजिक्स की लाइब्रेरी संचालित होती है और एक कमरे में क्लास लगती है। इसके अलावा लॉ कॉलेज में नियमानुसार लाइब्रेरी तथा रीडिंग रूम कम्पलीट कराना है, परंतु कमरे सील्ड होने के कारण यह काम भी नहीं करा पा रहे हैं।

ये हैं हालात
-कॉलेज की पुरानी बिल्डिंग में तीन कमरों में हैं स्ट्रांग रूम।
-लॉ कॉलेज की इमारत में दो कमरों में हैं स्ट्रांग रूम।
-यहां लगे सुरक्षा गार्डों के रूकने के लिए दो कमरे अलग से घिरे हुए हैं।

पत्र लिखने के बाद भी खाली नहीं हुए कक्ष
हमने पहले भी कलेक्टर को इस संबंध में आवेदन दिए थे और कमरों को खाली करवाने की बात कही थी, पांच-छह दिन पहले ही हमने फिर से पत्र लिखा है। हमारे आधा दर्जन कमरे घिरे होने के कारण क्लास भी डिस्टर्ब हो रही हैं, साथ ही फिजिक्स की लैब बंद पड़ी है। लॉ की लाइब्रेरी व रीडिंग रूम का काम शुरू नहीं हो पा रहा है।
महेंद्र कुमार, प्रभारी प्राचार्य