स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

लाइन में पदस्थ आरक्षक की मौत

Rakesh shukla

Publish: Jul 14, 2019 17:58 PM | Updated: Jul 14, 2019 17:58 PM

Shivpuri

मृतक के पास मिला था नशे का सामान, पुलिस ने उसे आनन-फानन में हटवाया

शिवपुरी. शनिवार सुबह हाथीखाना में स्थित आंगनबाड़ी केंद्र के पास एक पुलिस आरक्षक की लाश पड़ी मिली। मृतक पहले कंट्रोल रूम में था, लेकिन पिछले कुछ समय से उसे लाइन में पदस्थ कर दिया था। मृतक के बारे में बताया जाता है कि वह नशे का आदी था तथा मृतक के पास भी नशे का सामान मिला था, जिसे पुलिस ने आनन-फानन में मौके से हटवा दिया। महत्वपूर्णबात यह है कि पुलिस अधिकारी भी इस बात को स्वीकार कर रहे हैं कि मृतक नशे का सेवन करता था। मौत का कारण पीएम के बाद ही स्पष्ट हो सकेगा।


शनिवार की सुबह 6 बजे हाथीखाना में आंगनबाड़ी केंद्र के पास एक बाइक खड़ी हुई थी और पास ही एक युवक की लाश पड़ी थी। चूंकि इस एरिया में पुलिसकर्मियों के ही परिवार अधिक निवास करते हैं, इसलिए मृतक की पहचान जल्दी ही आरक्षक मुकेश शर्मा के रूप मे हो गई। आरक्षक की लाश मिलने की सूचना मिलते ही एडीशनल एसपी गजेंद्र कंवर सहित अन्य पुलिस बल भी मौके पर पहुंचा।


स्थानीय प्रत्यक्षदर्शियों का कहना था कि मृतक के पास सिरिंज व नशे का कुछ और सामान भी मिला था, जिसे नजर बचाकर साथी पुलिसकर्मियों ने वहां से अलग कर दिया। शव को पीएम के लिए पहुंचाया गया। मृतक आरक्षक वर्तमान में अपनी पत्नी व बच्चों के साथ महाराणा प्रताप कॉलोनी में निवास करता था। बताया जता है कि मृतक मुकेश शर्मा जिस महाराणा प्रताप कॉलोनी में परिवार सहित निवास करता था, वहां के स्थानीय लोगों का कहना है कि पिछले कुछ दिनों से परिवार में कोई बात हो गई थी, इसलिए मुकेश का घर आने-जाने का कोई समय निर्धारित नहीं था। कॉलोनी में भी यह चर्चा है कि वो कोई नशा लेता था, जिसके चलते मानसिक रूप से परेशान रहता था और उसका इलाज भी ग्वालियर में हुआ था।

 

नशे में पुलिस की संलिप्तता से उठे कई सवाल
शिवपुरी में बढ़ते नशे के खिलाफ जहां शहरवासियों में रोष है और आए दिन धरना-प्रदर्शन व रैलियां की जा रही हैं, वहीं दूसरी ओर नशे के खिलाफ पुलिस की गति उतनी तेज नहीं है, जितनी उम्मीद की जा रही थी। इसके पीछे मुख्य वजह यही है कि खुद पुलिसकर्मी या तो नशे की गिरफ्त में हैं या फिर वे कारोबार में हिस्सेदार हैं। शिवानी की मौत के बाद देहात थाने में पदस्थ आरक्षक का नाम भी सामने आया था, लेकिन बताते हैं कि वो अभी भी वर्दी पहनकर पुलिस की नौकरी कर रहा है। विभाग की बदनामी न हो, इसलिए शायद अधिकारी भी उतनी सक्रियता नहीं दिखा रहे।

 

सात दिन में दूसरी मौत
गौरतलब है कि शिवपुरी में नशे के चलते महज एक सप्ताह बाद ही एक और मौत हो गई। सात दिन पूर्व नवाब साहब रोडपर रहने वाली शिवानी की मौत स्मैक व नशीले इंजेक्शन के ओवरडोज से हुई थी। इस घटना के सातवें दिन आज शनिवार को पुलिस आरक्षक की लाश मिली, जिसके बारे में भी बताया जाता है कि वो नशे का आदी था और उसके पास से भी नशे का कुछ सामान मिला था, जिसे पुलिस ने अलग कर दिया।

 

पुलिस आरक्षक का शव मिला है वह नशा करता था, यह बात भी सामने आई है। इसलिए मर्ग जांच एसडीओपी को सौंपी है। मौत का कारण पीएम रिपोर्ट आने के बाद ही स्पष्ट हो सकेगा।
विवेक अग्रवाल, प्रभारी एसपी

 

आरक्षक का पीएम कर उसका बिसरा भी जांच के लिए भेजा है। बिसरा जांच रिपोर्ट आने के बाद ही मौत का कारण पता चलेगा।
डॉ. दिनेश राजपूत, चिकित्सक जिला अस्पताल शिवपुरी