स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

रीवा में बने कलेक्ट्रेट की तर्ज पर शिवपुरी में 26 .58 करोड़ की लागत से बनेगा नया कलेक्ट्रेट

Rakesh shukla

Publish: Oct 03, 2019 23:06 PM | Updated: Oct 03, 2019 23:06 PM

Shivpuri

मूल्यांकन समिति से मिली परमीशन, वित्तीय स्वीकृति का इंतजार
शहर से 5 किमी दूर बायपास के टे्रंगुलर पर 38 00 वर्गमीटर में बनेगा

शिवपुरी। शिवपुरी का नया कलेक्ट्रेट 26 .58 करोड़ रुपए की लागत से फोरलेन वायपास के ट्रेंगुलर पर खाली पड़ी जमीन पर बनेगा। नए कलेक्ट्रेट की डिजाइन रीवा जिले में अभी हाल ही में बने नए कलेक्ट्रेट की तरह होगी, जिसमें पूरा कार्यालय तीन मंजिला होगा। बीते 27 सितंबर को भोपाल में हुई मूल्यांकन समिति की बैठक में तो परमीशन मिल गई है, अब वित्तीय स्वीकृति के लिए एस्टीमेट भेजा गया है। यह नया कलेक्ट्रेट शहर से 5 किमी दूर 38 00 वर्ग मीटर बिल्ट अप क्षेत्रफल में तैयार किया जाएगा।


ज्ञात रहे कि वर्तमान में शिवपुरी का जो कलेक्टे्रट है, वो सिंधिया स्टेट के समय में राजतंत्र के दौर में बनाया गया था। शिवपुरी जब ग्रीष्मकालीन राजधानी हुआ करती थी, तब सिंधिया परिवार गर्मियों के दौरान ग्वालियर से चार माह के लिए शिवपुरी आकर अपना राजकाज करते थे। इसी कलेक्ट्रेट भवन में ही वे बैठकर अपनी सल्तनत चलाते थे तथा इसके पास ही लाल महल (वर्तमान में आईबी ट्रेनिंग सेंटर है) भी है। राजतंत्र खत्म होने के बाद इस भवन को कलेक्ट्रेट के रूप में उपयोग किया जाने लगा। अब इस भवन को मप्र टूरिज्म अपने हैंडओवर लेकर इसका कुछ दूसरा उपयोग करेगा।

तीन मंजिला होगा नया कलेक्ट्रेट भवन
शिवपुरी का वर्तमान कलेक्ट्रेट एक मंजिला ही है, जिसमें सभी विभागों के दफ्तर आसपास ही हैं। लेकिन अब नया बनने वाला कलेक्ट्रेट भवन तीन मंजिला होगा, जिसमें विभिन्न विभागों के दफ्तर भी रहेंगे। इसके अलावा वहां पर आने वाले लोगों के लिए बैठने व पीने के पानी सहित टॉयलेट आदि की व्यवस्था भी रहेगी। नई कलेक्ट्रेट का डिजाइन आदि तैयार हो गया है और उसे मूल्यांकन समिति से स्वीकृति मिलने के बाद अब वित्तीय स्वीकृति के लिए भेजा गया है।

कलेक्ट्रेट के साथ न्यायालय व एसपी ऑफिस भी बनेंगे वहां
शिवपुरी की नई कलेक्ट्रेट तो ग्वालियर लिंक रोड पर प्रस्तावित है ही, साथ ही यहां पर शिवपुरी का नया न्यायालय व एसपी ऑफिस भी वहां बनाया जाना है। यानि प्रशासनिक मशीनरी के साथ-साथ न्यायालय भी शहर से दूर हो जाएगा। शहर से यह सभी विभागीय दफ्तर दूर हो जाने की वजह से जहां आमजन को वहां तक अपनी शिकायत लेकर पहुंचने में परेशानी होगी, वहीं जनसुनवाईमें शिकायत देने एवं विभिन्न रैलियों को लेकर भी इतनी दूर तक जाने से पहले कई बार सोचना पड़ेगा। क्योंकि शहर से इनकी दूरी 5 किमी होगी।

पहले बनाया था 20.5 करोड़ का प्रस्ताव
नए कलेक्ट्रेट भवन का प्रस्ताव पहले 20.5 करोड़ रुपए का बनाया गया था, लेकिन कलेक्टर अनुग्रहा पी ने कलेक्ट्रेट का क्षेत्रफल बढ़ाने की बात कही तो फिर यह प्रस्ताव अब 26 .58 करोड़ रुपए का हो गया। नए कलेक्ट्रेट के ड्राइंग डिजाइन के संबंध में जब पीआईयू व कलेक्टर के बीच चर्चा हुई तो कलेक्टर ने कहा कि अभी हाल ही में रीवा में नया कलेक्टे्रट बना है, वो डिजाइन अच्छी है। जिसके चलते पीआईयू ने रीवा के नए कलेक्ट्रेट भवन की डिजाइन का ही शिवपुरी में कलेक्ट्रेट बनाना तय किया है। जिसका एस्टीमेट बनाकर दे दिया गया है।

मूल्यांकन समिति से ओके होकर गया वित्तीय स्वीकृति के लिए
बीते 29 सितंबर को भोपाल में हुई मूल्यांकन समिति की बैठक में नए कलेक्ट्रेट भवन का प्रस्ताव स्वीकृत हो गया है और अब यह वित्तीय स्वीकृति के लिए वित्तीय अधिकार समिति (ईएफसी) के पास भेजा गया है। वहां से स्वीकृति मिलने के साथ ही नए कलेक्टे्रट भवन का निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा। शिवपुरी शहर के मध्य से बन रही थीम रोडका फोरलेन अभी मेडिकल कॉलेज तक बनाईजाएगी, लेकिन जब कलेक्ट्रेट सहित न्यायालय व एसपी ऑफिस भी वहां बन जाएंगे, तो इस फोरलेन को भी भविष्य ग्वालियर-शिवपुरी फोरलेन वायपास तक बनाया जाएगा। ताकि सरकारी दफ्तरों तक पहुंचने में आमजन को आसानी हो।


शिवपुरी की नई कलेक्ट्रेट को मूल्यांकन समिति से 29 सितंबर को स्वीकृति मिलने के बाद अब वित्तीय स्वीकृति के लिए भेजा है। रीवा में बनी नई कलेक्टे्रट भवन की तरह ही शिवपुरी में भी नई कलेक्ट्रेट बनाईजाएगी। फोरलेन वायपास व शिवपुरी रोडके बीच त्रिकोणीय जगह में 38 00 वर्गमीटर बिल्ट अप एरिया में नई कलेक्ट्रेट बनाईजाएगी।
सीपी वर्मा, कार्यपालन यंत्री पीआईयू शिवपुरी