स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Shamli: गन्‍ना मंत्री के क्षेत्र के किसान भड़के, मांग पूरी नहीं होने पर दी आंदोलन की चेतावनी- देखें वीडियो

sharad asthana

Publish: Nov 13, 2019 10:29 AM | Updated: Nov 13, 2019 10:30 AM

Shamli

Highlights

  • Thanabhawan में पर्ची कटने पर भड़क गए गन्‍ना किसान
  • गन्ना भवन में सचिव का किया घेराव
  • कर्मचारियों व सचिव को जमकर सुनाई खरी-खोटी

शामली। थानाभवन (Thanabhawan) में पर्ची कटने पर गन्ना किसानों का आक्रोश भड़क गया। इसके बाद किसानों ने गन्ना भवन (Ganna Bhawan) पर जाकर सचिव का घेराव किया। गन्ना सचिव ने संतुष्ट जवाब नहीं दिया तो किसान उनको अपने साथ शुगर मिल ले गए। शुगर मिल पर गन्ना किसानों ने कर्मचारियों व सचिव को जमकर खरी-खोटी सुनाई। हालांकि, किसानों के मामले का कोई समाधान नहीं निकल सका। आपको बता दें क‍ि थानाभवन राज्‍य के गन्‍ना मंत्री सुरेश राणा (Suresh Rana) का विधानसभा क्षेत्र है।

यह भी पढ़ें: Ghaziabad: इंस्‍पेक्‍टर के नंबर से फॉरवर्ड हुए एसएसपी के खिलाफ ये मैसेज, आईजी ने मांगी रिपोर्ट- देखें वीडियो

ये हैं किसानों की मांगें

देश की सरकार किसानों की आय दोगुना करने का वादा कर रही है, लेकिन किसानों की परेशानी है कम होने का नाम नहीं ले रही। जनपद शामली (Shamli) के थानाभवन क्षेत्र के किसान पर्ची काटने व ओवरलोड छंटनी की शिकायत पर गन्ना भवन पर पहुंचे। वहां उन्‍होंने गन्ना सचिव का घेराव किया। जब गन्ना सचिव ने शुगर मिल के पाले में गेंद डालकर अपना पल्ला झाड़ लिया तो किसान उनको अपने साथ शुगर मिल ले गए। वहां किसानों ने गन्ना सचिव व शुगर मिल कर्मचारियों को जमकर खरी-खोटी सुनाई। गन्ना किसानों ने मांग की कि उनकी पर्ची की ओवरलोड के चलते छंटनी ना की जाए। साथ ही उनकी ट्राली का वजन 10 कुंतल प्रति ट्राली बढ़ा दिया जाए।

यह भी पढ़ें: मुख्‍यमंत्री योगी की तरह इस भाजपा विधायक को मिली सुरक्षा, 36 सुरक्षाकर्मी होंगे तैनात

नहीं निकला कोई हल

इस पर गन्ना सचिव ने उच्च अधिकारियों से बात की, लेकिन कोई बात नहीं बन पाई। गन्ना किसानों ने समाधान ना होने पर शुगर मिल बंद करने व आंदोलन की चेतावनी दी। घंटों तक चले हंगामे के बाद भी कोई हल नहीं निकला। गन्ना सचिव भास्कर सिंह का कहना है क‍ि ओवरलोड ट्राली पूरे प्रदेश में बंद है। इनकी यह मांग नहीं मानी जा सकती है। इस पर प्रदेश स्‍तर से ही फैसला लिया जा सकता है। वहीं, शुगर मिल कर्मचारियों का कहना है कि वे गन्ना किसानों को पहले ही लिखित में ओवरलोड वाहन नहीं लाने के लिए कह चुके हैं।

[MORE_ADVERTISE1]