स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Big Breaking: VIDEO: बीजेपी के इस फायर ब्रांड मंत्री के क्षेत्र में 4 विदेशी संदिग्ध गिरफ्तार, नाम बदल कर मदरसे में रह रहे थे सभी

Ashutosh Pathak

Publish: Jul 29, 2019 14:59 PM | Updated: Jul 29, 2019 15:29 PM

Shamli

  • मदरसा छापेमारी में चार विदेशी संदिग्धों सहित 7 लोग गिरफ्तार
  • एक विदेशी संदिग्ध मदरसे में छात्रों को देता था तालीम
  • फर्जी सूचना देकर बनवाए कई दस्तावेज, पुलिस ने शुरू की कार्रवाई

 

शामली। शामली पुलिस ने खुफिया यूनिट के बाद तीन मदरसों पर छापेमारी कर चार विदेशी संदिग्धों सहित 7 लोगों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए सभी थानाभवन और जलालाबाद में मदरसों में रहकर पढ़ाई कर रहे थे, जबकि पकड़ा गया एक विदेशी संदिग्ध मदरसे में छात्रों को तालीम भी दे रहा था। इसके अलावा पुलिस ने 3 मदरसों के प्रबंधकों को भी गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक ये सभी अपना नाम बदल कर रह रहे थे। जिनमें से एक 18 साल से अवैध रुप से भारत में रह रहा है। यूपी सरकार के गन्ना मंत्री सुरेश राणा के क्षेत्र से हुई गिरफ्तारी के बाद इलाके में हड़कंप मचा हुआ है।

शामली एसपी अजय कुमार के निर्देश पर खुफिया विभाग टीम ने थानाभवन पुलिस के साथ मिलकर कस्बा जलालाबाद में खुशनुमा कॉलोनी में स्थित एक मकान से दो विदेशी संदिग्धों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने इन दोनों से जब पूछताछ की तो उन्होंने बताया हमारे दो साथी मदरसा मिफ्ता उल जलालाबाद में शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। जिस पर पुलिस टीम ने मदरसा पहुंचकर इनके दो अन्य साथियों को भी गिरफ्तार किया है।

ये भी पढ़ें: BREAKING: शामली मदरसे में छापेमारी से मचा हड़कंप, पुलिस रेड में 4 विदेशी नागरिक समेत सात गिरफ्तार

पुलिस ने बताया कि पकड़े गए चारों विदेशियों का नाम अब्दुल मजीद, नौमान अली, मोहम्मद रिजवान और मोहम्मद फुरकान निवासी म्यांमार देश बताया जा रहा है। यह सभी अपना नाम बदलकर रह रहे थे। इसके अलावा पुलिस ने थानाभवन और जलालाबाद में स्थित मदरसों के तीन प्रबंधकों को भी गिरफ्तार किया है। इनके नाम मौलाना हफीयुल्ला, कारी अशरफ और वासी अमीन है।

पुलिस के मुताबिक अब्दुल मजीद ने पूछताछ में बताया कि वह म्यांमार देश का मूल निवासी है और वर्ष 2001 में बिना किसी जायज दस्तावेजों के अपने पिता व भाई के साथ बांग्लादेश के नाकुरा के रास्ते बिलोनिया बॉर्डर पार कर पश्चिम बंगाल के कोलकाता में आया था। जिसके बाद वह कुछ दिन रहने के बाद उत्तर प्रदेश में आ गया और वर्ष 2004 से शामली कर्नाटक उज्जैन आदि स्थानों रहा। इसके बाद वह 2004 में शामली के जलालाबाद में मदरसे में मुफ्ती के पद पर रहते हुए छात्राओं को तालीम दे रहा था।

इस दौरान उसने शामली में फर्जी सूचनाओं और दस्तावेजों के आधार पर पैन कार्ड, आधार कार्ड बनवा लिए। जिनके आधार पर भारतीय स्टेट बैंक, पंजाब नेशनल बैंक जलालाबाद शाखा में अपने खाते खुलवाए। पुलिस ने इनके कब्जे से पासपोर्ट, संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी नई दिल्ली द्वारा निर्गत एसाइलम सीकर के रूप में पंजीकरण प्रमाण पत्र, विदेशी मुद्रा, दो पासबुक भारतीय स्टेट बैंक और पंजाब नेशनल बैंक, एक भारतीय पैन कार्ड, दो टीएम कार्ड भारतीय नगरी नगदी ₹8030 और 4 मोबाइल फोन बरामद की है। फिलहाल पुलिस ने इन सभी के खिलाफ मामला दर्ज कर कोर्ट में पेशी के लिए भेज दिया है।

ये भी पढ़ें: चोरी से बचाने के लिए जूते के रैक में रखे थे हीरे-सोने के जेवरात, लेकिन फिर भी हो गए चोरी, पुलिस ने चोर का किया खुलासा