स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शहर की तंग गलियां : दमकल को पहुंचने में होगी मुश्किल

Ramashankar mishra

Publish: Dec 10, 2019 21:55 PM | Updated: Dec 10, 2019 21:55 PM

Shahdol

बाजारों में नहीं हैं आगजनी से निपटने के इंतजाम, छह साल में 642 घटनाएं
बस्तियों में संचालित हैं छोटे-छोटे कई कारखाने

शहडोल. एक लाख से अधिक आबादी वाले शहडोल नगर में प्रतिवर्ष दो से तीन भीषड़ अग्नि हादसे हो रहे हैं। इसके बाद भी नगर वासी इससे सबक नहीं ले रहे हैं। नगर के बड़े-बड़ प्रतिष्ठानों व घनी आबादी वाले क्षेत्रो में अग्निशमन के समुचित संसाधन उपलब्ध न होने की वजह से छोटे-छोटे हादसे बड़े रूप ले लेते हैं। इसके अलावा एक प्रमुख वजह यह भी है कि नगर की कई बस्तियां ऐसी भी है जहां पैदल चलना भी दूभर होता है। ऐसे में इन गलियों में कहीं कोई अग्नि हादसा हुआ तो फिर उस पर काबू पाने अग्निशमन वाहनों का पहुंचना टेढ़ी खीर साबित होगा। इन संकीर्ण बस्तियों व रास्तों को व्यवस्थित करने कोई ठोस कदम नहीं उठाए गए तो निकट भविष्य में बड़े हादसे से नकारा नहीं जा सकता है।
फायर बुलेट के लिए भेजेंगे प्रस्ताव
नगर पालिका के अग्निशमन अधिकारी आर के विश्वकर्मा ने बताया कि नगर की संकीर्ण गलियों में घटने वाले अग्नि हादसों पर नियंत्रण के लिए दो फायर बुलेट मुहैया कराने की दिशा में प्रयास किए जा रहे हैं। यदि यह फायर बुलेट उन्हे उपलब्ध हो जाती है तो संकीर्ण गलियों में आसानी से पहुंचा जा सकेगा। जब तक दमकल वाहन मौके पर नहीं पहुंचते तब तक अग्नि हादसों पर नियंत्रण किया जा सकता है।
यहां मुश्किल से पहुंच पाएगा दमकल
नगर के पुरानी बस्ती, घरौला मोहल्ला, जैन मंदिर से किरण टाकीज, शेर चौराहा से पंचायती मंदिर रोड, सोहागपुर के तीनो वार्ड, गढ़ी के पीछे, इतवारी मोहल्ला, पुरानी सब्जी मण्डी सहित दर्जन भर ऐसे क्षेत्र हैं जहां कि पैदल चलना भी दूभर होता है।
दहला देने वाली अग्नि दुर्घटनाएं
. 16 अप्रैल 2014 को गांधी चौक स्थित स्पोट्र्स काम्पलेक्स में आगजनी।
. 19 मई 2014 को केशवाही में तेल मिल व राईस मिल में हादसा।
. 23 मई 2014 को ओपीएम प्लांट में आगजनी।
. 6 दिसम्बर 2014 को आईजी बंगली के बगल में गोदाम में भीषण अग्नि हादसा।
. 20 अप्रैल 2015 में जिला चिकित्सालय के ट्रामा यूनिट के बगल में।
. 13 जनवरी 2017 को नगर पालिका के बगल में कम्प्यूटर सेन्टर में अग्नि दुर्घटना।
. 25 जनवरी 2017 को बाणगंगा पेट्रोल पंप में बस में आगजनी।
. 3 मार्च 2018 को कन्या स्कूल सोहागपुर के बगल में स्थित स्टेशनरी की दुकान में घटित घटना।
. 26 जून 2018 को पुरानी बस्ती में नमकीन फैक्ट्री में आगजनी।
. 29 अप्रैल 19 को बीना मेडिकल स्टोर में हादसा।
. 26 मई 2019 को मोदी नगर स्थित फर्नीचर गोदाम में अग्नि दुर्घटना।
इनका कहना है
अग्नि हादसों में नियंत्रण के लिए अपने पास पर्याप्त संसाधन है। नगर की कुछ तंग गलियां है जहां पहुंचने में कठिनाई होती है। जिसके लिए दो फायर बुलेट के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। फायर बुलेट उपलब्ध हो जाने से हम संकीर्ण गलियों में भी पहुंच कर अग्नि हादसों को नियंत्रित कर सकेंगे।
आरके विश्वकर्मा, अग्निशमन अधिकरी, शहडोल।

[MORE_ADVERTISE1]