स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सड़क पर बैठे शिक्षक, छात्र और वार्डवासी, चार घंटे लगा रहा जाम

Ramashankar mishra

Publish: Dec 11, 2019 11:44 AM | Updated: Dec 11, 2019 11:44 AM

Shahdol

भारी वाहनों के प्रवेश पर रोक और जर्जर सड़क के निर्माण की मांग

शहडोल. भारी वाहनों के आवागवन से क्षतिग्रस्त हुई सड़क के निर्माण की लंबे अर्से से मांग कर रहे वार्ड वासियों को अब तक सिर्फ आश्वासन ही मिलता रहा और निर्माण कार्य नहीं हुआ। जिसे आक्रोश वार्ड वासी मंगलवार को सड़क के लिए सड़क पर उतर आए और जमकर विरोध प्रदर्शन करते हुए मार्ग अवरुद्ध कर दिया। मामला नगर के वार्ड क्रमांक 28 व 29 स्थित गेणश मंदिर से नरसरहा डीपो होकर लल्लू चौक पहुंच मार्ग का है। यह मार्ग लंबे अर्से से क्षतिग्रस्त है। जिसमें पैदल चलना भी दूभर हो रहा है। इसके बाद भी नगर पालिका द्वारा उक्त सड़क का निर्माण नहीं कराया जा रहा है। जिसे लेकर स्थानीय वार्ड वासियों ने नगर पालिका के साथ ही जिला प्रशासन व संभागायुक्त से भी गुहार लगाई लेकिन उनकी कहीं कोई सुनवाई नहीं हुई।
स्थानीय लोगों के साथ छात्र भी शामिल
सड़क के लिए विरोध प्रदर्शन कर रहे स्थानीय रहवासियों के साथ ही स्कूली छात्र के साथ ही स्टाफ भी सड़क पर बैठ गया। घंटो तक गणेश मंदिर से नरसरहा पहुंच मार्ग बाधित रहा। अधिकारियों के आश्वासन के बाद विरोध प्रदर्शन समाप्त हुआ। इस दौरान पुलिस बल भी रहा। प्रदर्शन में स्कूल के शिक्षक, वार्डवासियों के अलावा कांग्रेस जिला अध्यक्ष आजाद बहादुर सिंह, कुलदीप निगम, शक्ति लक्षकार, सुफियान खान, समीर, मनोज चौकसे, अमित सहित कई जनप्रतिनिधि और लोग मौजूद रहे।
स्कूल न पहुंचकर सड़क पर बैठ गए छात्र
. 10 बजे से गणेश मंदिर के पास एकत्रित हुए लोग।
. नरसरहा मार्ग को ब्लाक कर सड़क पर बैठे छात्र व स्थानीय नागरिक।
. मौके पर पहुंचे तहसीलदार, यातायात डीएसपी, नगर पालिका अमले के साथ जन प्रतिनिधि।
. गणेश मंदिर से नरसरहा डीपो मार्ग का अधिकारी व जन प्रतिनिधियों ने किया निरीक्षण।
. चार घंटे से ज्यादा समय तक चला विरोध प्रदर्शन।
. विरोध प्रदर्शन के चलते सिंहपुर पहुंच मार्ग से भी आवागवन हुआ प्रभावित।
यह थी मांगें
1. सिंहपुर रोड गणेश मंदिर से नरसरहा डीपो होते हुए ग्रीन सिटी लूल्लू सिंह चौक बुढ़ार रोड तक सड़क का नवीनीकरण हो।
2. उक्त मार्ग से भारी वाहनों के आवागवन को प्रतिबंधित किया जाए।
3. मार्ग को पूरी तरह से प्रदूषण मुक्त किया जाए।
4. पानी निकासी के लिए बंद पड़ी नालियों का निर्माण किया जाए।
5. रेलवे गुड्स से धर्माकांटा एवं अन्य स्थानो के लिए जमुई रोड से भारी वाहनों का आवागमन कराया जाए।

[MORE_ADVERTISE1]