स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सुरेन्द्र सिंह की होगी विभागीय जांच

Lav Kush Tiwari

Publish: Dec 08, 2019 08:00 AM | Updated: Dec 07, 2019 21:34 PM

Shahdol

कमिश्नर ने किया आरोप पत्र जारी

शहडोल. कमिश्नर आरबी प्रजापति द्वारा निलंबित प्रभारी कार्यपालन यंत्री ग्रामीण यंात्रिकी सेवा संभाग सुरेन्द्र ंिसह के विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्रवाई के लिए आरोप पत्र जारी किया गया है। आरोप पत्र में कमिश्नर ने उल्लेखित किया गया है कि प्रभारी कार्यपालन यंत्री ग्रामीण यंात्रिकी सेवा संभाग सुरेन्द्र सिंह के विरूद्ध कार्रवाई करते हुए कमिश्नर ने जारी आरोप पत्र में कहा है कि विभागीय जांच संस्थित किए जाने से संबंधित आरोप पत्र आरोपों का विवरण, अभिलेख सूची एवं साक्ष्यों की सूची प्रेषित है। सुरेन्द्र सिंह के विरुद्ध अधिरोपित किए गए आरोप के संबंध में अपना लिखित प्रतिवेदन पत्र के प्राप्त होने के 15 दिवस के भीतर प्रस्तुत करने को कहा है, साथ ही स्पष्ट रूप से यह भी अवगत कराएं की क्या आप विभागीय जांच प्रकरण में प्रत्यक्ष सुनवाई चाहते हैं या मौखिक जांच चाहते हैं, अपने बचाव में कोई तथ्य साक्ष्य इत्यादि प्रस्तुत करना चाहते हैं, यदि हां तो सूची प्रस्तुत करें। उक्त प्रस्तावित विभागीय जांच के संबंध में स्पष्ट किया जाता है कि यदि आरोप पत्र आदि के प्रति आपकी ओर से लिखित प्रतिवाद नियत समयावधि में प्रस्तुत नहीं हुआ है तो यह माना जाएगा कि इस संबंध में आपको कुछ नहीं कहना है तथा प्रकरण में नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।
आरोप पत्र में कहा गया है कि ग्राम पंचायत कमता जनपद पंचायत बुढार अंतर्गत कुनुक नदी परौहा घाट में आप अपने सहायक यंत्री एवं अनुविभागीय अधिकारी ग्रायांसे उप संभाग बुढार के पदस्थगी के दौरान स्थल का बिना ट्रायल पीठ के रेतीली स्ट्रेटा में बिना सही डिस्चार्ज की गणना किए बिना डिजाइन एवं बिना तकनीकी अवयवों के समावेशों के अनुमान से 49.78 लाख का स्टॉप डैम का गैर तकनीकी प्रकरण तैयार कराकर कार्यपालन यंत्री के बिना स्थल परीक्षण कराए कूट रचना कर तकनीकी स्वीकृति प्राप्त कर एवं बाद में कार्यालय अतिरिक्त जिला कार्यक्रम समन्वयक मनरेगा के द्वारा प्रशासकीय स्वीकृति प्राप्त कर अनुपयुक्त स्थल पर ओवरसाइज गिट्टी एवं अमानक स्तर की कंक्रीट से कार्य कराया गया, जिसके बीच के भाग में रेत के ऊपर नीव होने से स्टॉप डैम डिसलोकेट (धशक) हो गया। जिससे पूरा कार्य उपयोग लायक नहीं बचा एवं अधूरा रहने से शासकीय राशि का दुरूपयोग हुआ जिसके लिए आप पूर्णरूपेण जिम्मेवार हैं।

[MORE_ADVERTISE1]