स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बिना बीएड अध्यापक बना वरिष्ठ अध्यापक ले ली पदोन्नति

Lav Kush Tiwari

Publish: Oct 21, 2019 07:00 AM | Updated: Oct 20, 2019 21:12 PM

Shahdol

संभागीय उपायुक्त ने किया रिकार्ड तलब

शहडोल. एक वरिष्ठ अध्यापक द्वारा बिना बीएड किए पदोन्नति लेने मामले में संभागीय उपायुक्त आदिम जाति एवं अनुसूचित विकास ने जवाब तलब किया है। 14 अक्टूबर को जारी किए गए पत्र में संभागीय उपायुक्त ने देवेश सिंह बघेल वरिष्ठ अध्यापक हाई स्कूल बोडरी जिला शहडोल वर्तमान पदस्थापना सहायक जिला परियोजना समन्वयक राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा मिशन अनूपपुर को कहा है कि आपके द्वारा अध्यापक पद से वरिष्ठ अध्यापक पद पर पदोन्नति प्राप्त की गई है जो विरुद्ध है और विगत कई वर्षों से लगातार प्रति नियुक्ति का लाभ प्राप्त किया जा रहा है जो निरस्त करने योग्य है। संभागीय उपायुक्त ने २२ दिसंबर को कार्यालयीन समय पर पदोन्नति से सम्बन्धित समस्त दस्तावेज, अध्यापक पद पर की गई नियुक्ति आदेश, वरिष्ठ अध्यापक पद पर की गई पदोन्नति आदेश, शैक्षणिक योग्यता संम्बन्धी अंकसूची एवं माध्यमिक शिक्षा मिशन में कब से प्रतिनियुक्ति पर हैं, इसकी जानकारी और दस्तावेज सहित उपस्थित होने को कहा है। इस मामले को लेकर मुरलीधर मिश्रा राजाकछार बेलियावड़ी द्वारा ११ अक्टूबर को शिकायत दर्ज कराई गई थी, इसके बाद उपायुक्त ने जांच शुरू की है। गौरतलब है कि बिना बीएड किसी अध्यापक को पदोन्नति नहीं दी जा सकती लेकिन देवेशसिंह ने विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को गुमराह करते हुए पदोन्नति लेते हुए जहां शासन को आर्थिक नुकशान पहुंचाया, वहीं गलत तरीके से आर्थिक लाभ लिया है।