स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

खेत-खलिहानों ने रखी धान का हुुआ नुकसान

Brijesh Chandra Sirmour

Publish: Dec 14, 2019 11:54 AM | Updated: Dec 14, 2019 11:54 AM

Shahdol

सुबह से ही शुरू हुई बेमौसम की बारिश, जिले में एक दिन में हो गई 32 मिलीमीटर बेमौसम की बारिश, ठंड का जोर हुआ कमजोर, वातावरण में छाई धुंध, बादलों की ओट से झांकते रहे सूर्यदेव, बादलों के हटते ही बढ़ेगी ठंड

शहडोल. जिले में शुक्रवार को सुबह से ही बारिश का नजारा देखने को मिला और एक दिन में जिले में 32 मिलीमीटर बारिश हो गई। गौरतलब है कि जिले में पिछले दो दिनों से मौसम के मिजाज बदले हुए है। गुरूवार को आसमान पर छाए बादलों ने बारिश की आहट दे दी थी और शुक्रवार को सुबह से ही वातावरण में धुंध छाई रही और बेमौसम की बारिश का सिलसिला शुरू हो गया। दिन भर आसमान पर बादलों का डेरा रहा और सुबह से ही सूर्यदेव के दर्शन नहीं हुए। दोपहर बाद सूर्यदेव बादलों की ओट से झांकते हुए नजर आए। जानकारों की माने तो उत्तर भारत में हो रही बर्फवारी की वजह से मौसम में बदलाव आया है। मौसम में आए बदलाव का ज्यादा असर जिले में देखने को नहीं मिला है, मगर खेत-खलिहानों में रखी कुछ किसानों की धान भीगने की खबर है। इसके अलावा रबी फसल व सब्जी भाजी के लिए यह बारिश फायदेमंद बताई गई है।
आसमान साफ होने पर बढ़ेगी ठंड
बादलों ने मौसम का मिजाज बदल दिया है। दिन व रात के तापमान में बढ़ोतरी होने से ठंड का जोर कमजोर हो गया है। जानकारों के अनुसार अगले 24 घंटे में बादल छटने की संभावना है। उत्तर भारत से आ रहे बादल शुक्रवार को दोपहर बाद से ही छटने शुरू हो गए थे और आगामी एक-दो दिन में जब मौसम पूरी तरह से साफ होगा तब ठंड में इजाफा होगा।

जिले में धान की फसल की फैक्ट फाइल
कुल रकबा 109.60 हजार हेक्टेयर
धान का उत्पादन 403.30 हजार मीट्रिक टन
धान का उत्पादकता 3680 किलो प्रति हेक्टेयर

ब्योहारी में धान की फसल की फैक्ट फाइल
कुल रकबा 15.58 हजार हेक्टेयर
धान का उत्पादन 74.73 हजार मीट्रिक टन
धान का उत्पादकता 3760 किलो प्रति हेक्टेयर

ब्योहारी क्षेत्र में हुई सर्वाधिक बारिश
भू-अभिलेख अधीक्षक कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार शुक्रवार को जिले में कुल 32 मिलीमीटर और औसत 5.3 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है। जिसमें सर्वाधिक 25 मिलीमीटर बारिश ब्यौहारी तहसील क्षेत्र में रिकार्ड हुई है। जबकि सोहागपुर तहसील क्षेत्र में एक मिलीमीटर और जयसिंहनगर क्षेत्र में छह मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है। इसके अलावा बुढ़ार, गोहपारू और जैतपुर तहसील क्षेत्र में बारिश का आंकड़ा शून्य रहा।
जिले में अब तक की बारिश का आंकड़ा
सोहागपुर 900
बुढ़ार 949
गोहपारू 1177
जैतपुर 1072
ब्योहारी 1171
जयसिंहनगर 1075
कुल बारिश 6344
औसत बारिश 1057.3
(बारिश मिलीमीटर में)

अधिकतम तापमान में गिरावट
मौसम में आए बदलाव की वजह से जहां एक ओर जिले के अधिकतम तापमान में गिरावट आई है। वहीं दूसरी ओर न्यूनतम तापमान में उछाल आया है। शुक्रवार को जिले का अधिकतम तापमान 22 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 14 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। जबकि गुरूवार को अधिकतम तापमान 26 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 13 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था।
ऐसे रहा पिछले पांच दिनों का तापमान
दिनांक अधि. न्यून.
9दिस. 27 12
10दिस. 26 13
11दिस. 27 12
12दिस. 26 14
13दिस. 22 13
तिरपाल व पालीथीन की रखे व्यवस्था
किसान कल्याण तथा कृषि विकास शहडोल संभाग के संयुक्त संचालक जेएस पन्द्राम ने बताया कि एक दिन की बारिश से फसलों का ज्यादा नुकसान नहीं है। यदि यह बारिश ठहर जाएगी तब खेत-खलिहान में रखी धान को नुकसान पहुंच सकता है। इसके लिए किसान तिरपाल व पालीथीन की व्यवस्था बना कर रखें ताकि इमरजेन्सी में उसका उपयोग किया जा सके। साथ एक दिन की बारिश से जिन किसानों की धान भीग गई है, उसे धूप खिलने पर फैला दे। हालांकि बादल छट रहे हैं और अब ठंड बढने की पूरी संभावना है।
रबी फसलों के लिए फायदेमंद है बारिश
कृषि विज्ञान केन्द्र के मृदा वैज्ञानिक डॉ. पीएन त्रिपाठी ने बताया है कि यह बारिश रबी फसलों व सब्जी भाजी के लिए हर तरह से फायदेमंद है। जिन खेतों में गेहूं, चना, मसूर, अलसी की बोनी हो चुकी है। उसकी सिंचाई इस बारिश से हो गई। सब्जी-भाजी को भी अभी पानी की जरूरत होती ही है। जिसकी आपूर्ति बारिश से हुई है। लेकिन यह बारिश लगातार दो-तीन दिनों तक हुई, तब सब्जियों में कीट व्याधि का प्रकोप बढ़ सकता है। इसके अलावा फिलहाल अभी बारिश से कोई नुकसान नहीं है।

[MORE_ADVERTISE1]