स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

ठंड में भी मिल रहे मलेरिया के मरीज, जिले में अब तक 189 मलेरिया के मरीज मिले

Shubham Singh

Publish: Dec 07, 2019 21:10 PM | Updated: Dec 07, 2019 21:10 PM

Shahdol

बुढ़ार में सबसे ज्यादा मरीज मिले

शहडोल। जिले में ठंड के मौसम में भी मलेरिया के मरीज मिल रहे हैं। नवंबर माह में चार मलेरिया के मरीज मिले हैं। इससे विभाग के मैदानी अमले की कार्यप्रणाली पर प्रश्नचिन्ह खड़ा हो रहा है। जिले में जनवरी से लेकर नवंबर माह तक में 130129 संभावितों की रक्त की जांच की गई,जिसमें 189 मलेरिया के मरीज मिले हैं। इसमें 88 फेल्सीफेरम मलेरिया के मरीज हैं। वहीं साल 2018 में मलेरिया के 252 मरीज मिले थे,जिसमें फेल्सीफेरम के 139 मरीज शामिल हैं।


बुढ़ार में सबसे ज्यादा मरीज मिले
जिले में बुढ़ार ब्लॉक में सबसे ज्यादा मलेरिया के मरीज मिले हैं। बुढ़ार में जनवरी से लेकर अब तक में 35378 संभावितों की रक्त की जांच गई जिसमें 62 मलेरिया के मरीज मिले हैं। इसमें 47 फेल्सीफेरम मलेरिया के मरीज हैं। इसके बाद गोहपारू ब्लॉक में मलेरिया के मरीज मिले हैं। गोहपारू में जनवरी से लेकर अब तक में 13469 संभावितों की रक्त की जांच की गई,जिसमें 57 मलेरिया के मरीज मिले हैं। इसमें फेल्सीफेरम मलेरिया के 20 मरीज शामिल हैं। शहडोल ब्लॉक में सबसे कम मलेरिया के मरीज मिले हैं। शहडोल में 7615 संभावितों की रक्त की जांच की गई। इसमें 5 मलेरिया के मरीज मिले,जिसमें 4 फेल्सीफेरम के मरीज शामिल हैं। जिले में 44 गांव विशेष मलेरिया वाले प्रभावित हैं। यहां पर एपीआई एक से अधिक है। इन गांवों में मलेरिया विभाग कीटनाशक दवाओं का छिड़काव कर चुका है। इसके बाद भी यहां से मलेरिया के मरीज मिल रहे हैं। अस्थाई जलों में गंबोसिया मछली छोड़ी गई हैं। यह मछली मच्छरों के लार्वा को खा जाती हैं,जिससे मच्छरों की संख्या कम हो जाती है।


मलेरिया से इस तरह करें बचाव
्ृजिला मलेरिया अधिकारी ने मलेरिया से बचाव के तरीके बताते हुए कहा कि सोते समय मच्छरदानी का उपयोग करें। घर के आस-पास के गड्ढ़ों को भर दें। पानी से भरे रहने वाले स्थानों पर टीमोफॉस, मिट्टी का तेल या जला हुआ ऑयल डालें। घर एवं आस-पास अनुपयोगी सामग्री में पानी जमा नहीं दें। सप्ताह में एक बार टीन, डब्बा, बाल्टी इत्यादी का पानी खाली कर दें। दोबार उपयोग होने पर उन्हें अच्छी तरह सुखाएं। सप्ताह में एक बार अपने कूलर्स का पानी खाली कर दें फिर सुखाकर ही उनका उपयोग करें। पानी के बर्तन को ढ़ककर रखें। हैंडपंप के पास पानी एकत्र नहीं होने दें।
फैक्ट फाइल
साल 2019
माह मलेरिया फेल्सीफेरम
जनवरी 0 0
फरवरी 1 0
मार्च 5 2
अप्रैल 5 4
मई 8 2
जून 10 5
जुलाई 15 15
अगस्त 19 26
सितंबर 23 19
अक्टूबर 18 8
नवंबर 4 0

[MORE_ADVERTISE1]