स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पिता की सेवा के लिए आरक्षक ने नौकरी से दिया इस्तीफा

Brijesh Chandra Sirmour

Publish: Dec 08, 2019 07:10 AM | Updated: Dec 07, 2019 21:17 PM

Shahdol

पुलिस की नौकरी में नहीं मिल पाती थी ज्यादा छुट्टियां, शहडोल जीआरपी में पांच वर्षों से ज्यादा दी सेवाएं

शहडोल. जहां एक ओर सरकारी नौकरी पाने के लिए लाखों युवा बेरोजगार भटक रहे हैं। वहीं दूसरी ओर उत्तरप्रदेश के फर्रूखाबाद में में पिता की सेवा के लिए रेलवे पुलिस के एक आरक्षक ने अपने पद से इस्तीफ ा दे दिया है। वह इकलौता बेटा है और परिजनों से दूर रहकर वह अपने पिता की देखभाल नहीं कर पा रहा था।आरक्षक ने अपना इस्तीफा पुलिस अधीक्षक रेल जबलपुर को सौंप दिया है। जिसे पुलिस अधीक्षक सुनील जैन ने स्वीकार भी कर लिया है। फर्रूखाबाद के रहने वाले नवीन कुमार यादव की आरक्षक पद पर 2014 में पहली पदस्थापना शहडोल रेल पुलिस थाना में हुई थी। तब से वह अपनी सेवाएं शहडोल रेल थाना में ही दे रहा था। पांच साल से ज्यादा सेवाएं होने के बाद उसे जब एहसास हुआ कि वह पुलिस मे नौकरी करके अपने पिता की सेवा नहीं कर पाएगा, तब उसने आरक्षक पद से इस्तीफा देने की सोचा। इसके बाद तीन दिन पहले उसने जबलपुर जाकर रेल पुलिस अधीक्षक सुनील जैन के समक्ष अपना इस्तीफा पेश किया। जिसे पुलिस अधीक्षक ने मंजूर कर अग्रिम कार्रवाई के निर्देश दिए।
शहडोल से दूर था फर्रूखाबाद
बताया गया है कि शहडोल से फर्रूखाबाद करीब सात सौ किलोमीटर दूर था और पुलिस में नई नौकरी की वजह से आरक्षक को ज्यादा छुट्टी भी नहीं मिल पाती थी। जिससे वह अपने माता-पिता की सेवा नहीं कर पा रहा था। यदि छुट्टी मिलती भी थी तो दो-तीन दिन सफर में ही गुजर जाता था। इसलिए आरक्षण नवीन कुमार यादव ने नौकरी छोडऩे का मन बनाया और अंतत: तीन दिसम्बर को उसने नौकरी से इस्तीफा दे दिया।
पूरी तन्मयता से करता था ड्यूटी
रेल थाना प्रभारी एलपी कश्यप ने बताया कि आरक्षक नवीन कुमार यादव अपनी ड्यूटी पूरी तन्मयता से करता था। वह अपने माता-पिता का इकलौता बेटा था और शहडोल मेें रहकर उनकी सेवा नहीं कर पा रहा था। इसलिए उसने अपनी स्वेच्छा से तीन दिसम्बर को अपने पद से इस्तीफा दे दिया है।
मंजूर कर लिया गया इस्तीफा
आरक्षक नवीन कुमार यादव ने पिछले दिनों अपने माता-पिता की सेवा करने उत्तरप्रदेश जाने का कारण बताकर मुझे इस्तीफा सौंपा है। जिसे मंजूर कर अग्रिम कार्रवाई की गई है।
सुनील जैन, पुलिस अधीक्षक रेल, जबलपुर

[MORE_ADVERTISE1]