स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बारिश, तेज धूप से मौसम का असर सेहत पर

Santosh Dubey

Publish: Aug 22, 2019 12:13 PM | Updated: Aug 22, 2019 12:13 PM

Seoni

मौसम में बदलाव के चलते बीमारों की संख्या में इजाफा

सिवनी. बीते कुछ दिनों से बारिश के थमने और तेज धूप, उमस, गर्मी के चलते लोगों के स्वास्थ्य पर विपरीत असर पड़ रहा है। शहर समेत ग्राम क्षेत्रों में सर्दी, खासी, बुखार के साथ उल्टी-दस्त से ग्रसित मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है। इसका सबसे ज्यादा असर बच्चों पर पड़ रहा है।
बारिश नहीं होने से तापमान बढ़ रहा है। इस कारण वायरल बुखार लोगों को चपेट में ले रहा है। बढ़ रही मरीजों की संख्या के हालात शहर के जिला अस्पताल में देखे जा सकते हैं। वहां पिछले महीनों तक एक ही लाइन मरीजों की पर्ची काउंटर पर नजर आती थी, अब दो-दो लाइन में मरीजों की भीड़ देखी जा सकती है। जिला अस्पताल परिसर में चारों तरफ मरीज ही मरीज नजर आ रहे हैं। डॉक्टरों के मुताबिक बारिश और तेज धूप से मौसम का असर सेहत पर पड़ता है। अगर शिशु रोगों से जुड़ी ओपीडी की बात करें तो रोजाना 50 से 60 केस सामने आ रहे हैं। जिनमें सबसे ज्यादा बुखार के रहते हैं। इस तरह के मौसम सेहत के प्रति देखरेख रखने की सलाह डॉक्टर परिजनों को दे रहे हैं।
जिला अस्पताल में रोजाना करीब 80 से 90 महिलाएं अपनी जांच व इलाज कराने अस्पताल पहुंचती हैं। इनमें कुछ गर्भवती महिलाएं भी शामिल होती हैं। इनके लिए परिसर में बैठने की कोई बेहतर व्यवस्था नहीं है। मरीजों को परिसर में जमीन पर बैठने के लिए जगह देखनी पड़ती है। प्रदेश सरकार ने डॉक्टरों के ओपीडी का समय सहित कई नई गाइड लाइन जारी की थी। लेकिन यह गाइडलाइन जिला अस्पताल के डॉक्टरों के बीच अमल में नहीं आ पा रही है। हाल ये है कि डॉक्टरों की जो ओपीडी सुबह 9 बजे से शाम 4 बजे तक लगनी है वह कागजी बन कर रह गई है। अस्पताल में डॉक्टरों के आने जाने का समय निश्चित नहीं है। यह समस्या खुद मरीज व उनके परिजन गिना चुके हैं।
इनका कहना है
ओपीडी में अपने निर्धारित समय पर खुल और बंद हो रही है। सभी डॉक्टर समय पर पहुंच मरीजों की जांच करते हैं।
डॉ. विनोद नावकर, सिविल सर्जन जिला अस्पताल सिवनी
--
इस समय का मौसमी बदलाव से सेहत पर असर पड़ रहा है। बारिश के बाद अचानक तेज धूप निकलने के कारण वायरल के केस बढऩे की संभावना रहती है। इस तरह के केस सामने आ भी रहे हैं।
डॉ. पी सूर्या, आरएमओ, सिवनी