स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

आरोपित ने थाना की छत से कूद दी जान

Santosh Dubey

Publish: Jul 20, 2019 21:37 PM | Updated: Jul 20, 2019 21:37 PM

Seoni

होगी मजिस्ट्रेटियल जांच, पुलिस हिरासत में पूछताछ के दौरान हुआ हादसा

सिवनी/छपारा. छपारा थाना क्षेत्र के ग्राम जुनापानी टोला में एक जुलाई को 25 वर्षीय महिला की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत के मामले में गिरफ्तार किए गए पुत्री के आरोपित पिता से छपारा थाना में पूछताछ के दौरान थाना की छत से कूदने से घायल की उपचार के दौरान शनिवार को जिला चिकित्सालय में संदिग्ध अवस्था में मौत हो गई। मृतक का पीएम कराकर परिजनों को सुपुर्द कर दिया गया है। इस पूरे मामले की मजिस्ट्रेटियल जांच शुरू कर दी गई है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार सुरेश सनोडिया (48) निवासी सापापार की दो पत्नी थी। पहली पत्नी व उसका परिवार ग्राम सापापार में रहता था तथा दूसरी का ग्राम जुनापनी में। ग्राम जुनापानी में रहने वाली पत्नी की 25 वर्षीय पुत्री प्रियंका सनोडिया का घर पर संदिग्ध परिस्थितियों में शव मिला था। इसकी जांच में छपारा पुलिस जुटी थी।
कोतवाली पुलिस ने कटंगी रोड से किया गिरफ्तार
महिला की मौत के बाद से पुलिस सभी पहलु पर नजर रखते हुए जांच में जुटी थी। इसी बीच शुक्रवार को मुखबिर की सूचना पर कोतवाली पुलिस ने कटंगी रोड क्षेत्र से आरोपित पिता सुरेश को गिरफ्तार कर छपारा पुलिस को सुपुर्द कर दिया। शुक्रवार को छपारा पुलिस सुरेश से पूछताछ करने थाना के ऊपर बने कमरे में ले जाकर पूछताछ करने लगी।
बिजली गोल होने पर छत से लगाई छलांग
छपारा पुलिस ने बताया कि शुक्रवार को जब थाना के ऊपर बने कमरे में रात को आरोपित संदेही सुरेश से पूछताछ की जा रही थी तभी बिजली गुल हो गई। बिजली बंद होने का फायदा उठाते हुए सुरेश अचानक बाहर निकला और ऊपर से छलांग लगाकर छत से कूद गया। जहां वह गंभीररूप से घायल हो गया था। उपचार के लिए छपारा अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टर ने प्राथमिक जांच कर जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। जिला चिकित्सालय में भर्ती किए जाने व उपचार के दौरान शनिवार को सुबह उसकी मौत हो गई।
पुत्र ने लगाए गंभीर आरोप
सुरेश की संदिग्धावस्था में हुई मौत से आहत पुत्र दुर्गेश सनोडिया ने छपारा पुलिस पर पूछताछ के दौरान मारपीट किए जाने का गंभीर आरोप लगाते हुए जांच की मांग की है। वहीं पुत्र दुर्गेश ने बताया कि बहन की मौत के बाद पुलिस ने पूर्व में ही पिता से बयान ले लिए थे। साथ ही उसके फूफा व अन्य परिजनों को पुलिस ने पूछताछ के नाम पर थाने में पांच-छह दिन तक भी बिठाए जाने का आरोप लगाया है। वहीं उन्होंने बताया कि छत से पिता के कूदने के मामले में छपारा पुलिस अलग-अलग बात बता रही है। एक पुलिस कर्मी कहता है कि तुम्हारे पिता छत से कूद गए हैं, तो दूसरा कहता है पैर फिसल गया है। वहीं एक अन्य पुलिस कर्मी का कहना है कि सुरेश गुटका खाते हैं क्या? शायद चक्कर आ गया होगा और वे छत से गिर गए होंगे।
पुलिस अभिरक्षा में हुआ पीएम व अंतिम संस्कार
थाना में पूछताछ के दौरान सुरेश के घायल होने और मौत के बाद से जिला चिकित्सालय स्थित पोस्टमार्टम कक्ष में भारी पुलिस बल की मौजूदगी में शव का पीएम हुआ। पीएम के लिए भी डॉक्टरों की टीम गठित की गई। इस दौरान पीएम परिसर पर परिजनों की मौजूदगी बड़ी संख्या में थी किसी भी प्रकार की विपरीत स्थिति निर्मित न हो इसके लिए एसडीओपी, कोतवाली थाना प्रभारी, डूंडासिवनी व छपारा पुलिस समेत महिला-पुरुष पुलिस बल बड़ी संख्या में मौजूद था। शव का पीएम होने के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया वहीं अंतिम संस्कार भी पुलिस की मौजूदगी में हुआ।
इनका कहना है
प्रियंका की हत्या उसी के घर में की गई थी। पिता संदेही था। पूछताछ के लिए थाना लाया गया था। बिजली गुल होने पर ऊपर के कमरे के मेन गेट से छलांग लगा दिया। सिर में चोट आई थी। उपचार के दौरान शनिवार को सुबह उसकी मृत्यु हो गई है। मजिस्ट्रेटियल जांच जारी है, सीजीएम इसकी जांच कर रही हैं।
कुमार प्रतीक, पुलिस अधिक्षक, सिवनी।