स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मध्यप्रदेश: ब्लास्ट के बाद दहल गया स्कूल, क्लासरूम में खून से लथपथ पड़े थे बच्चे, एक की हालत नाजुक

Muneshwar Kumar

Publish: Oct 21, 2019 20:35 PM | Updated: Oct 21, 2019 20:35 PM

Seoni

स्कूल के कमरे में बैटरी नुमा चीज में विस्फोट, 3 बच्चे घायल
बच्चों को सीने, सिर और हाथ में आई चोट
छपारा विकासखंड के मटामा गांव की प्राइमरी स्कूल की घटना

सिवनी/ मध्य प्रदेश के सिवनी में एक प्राइमरी स्कूल में बैटरीनुमा चीज में विस्फोट होने से तीन बच्चे घायल हो गए, घटना सिवनी के छपारा ब्लॉक के मटामा प्राइमरी स्कूल की है। बताया जा रहा है कि छपारा के प्राइमरी स्कूल के क्लास रूम में बच्चे किसी बैटरीनुमा चीज़ से खेल रहे थे तभी अचानक उसमें विस्फोट हो गया। घटना के वक्त स्कूल में पालक शिक्षक संघ के चुनाव चल रहे थे।

चुनाव की वजह से शिक्षक उसमें व्यस्त थे, तभी लोगों को विस्फोट की आवाज सुनाई दी। तेज धमाके की आवाज सुन आसपास के इलाके में हड़कंप मच गया। जैसे ही शिक्षक मौके पर पहुंचे तो उन्होंने देखा कि बच्चे खून से लथपथ हैं, इसके बाद बच्चों को पहले छपारा अस्पताल ले जाया गया। जहां से प्राथमिक उपचार के बाद बच्चों की गंभीर हालत को देखते हुए उन्हें सिवनी अस्पताल रेफर किया गया।

एक की हालत गंभीर
ब्लास्ट में तीन बच्चे घायल हैं, जिनमें से एक की हालत गंभीर है। दो बच्चों को सिर, हाथ और सीने में चोट लगी है। घायल बच्चों के मुताबिक वो बैटरी से बल्ब जलाने की कोशिश कर रहे थे तभी उसमें विस्फोट हो गया। मौके पर पहुंचे एडिशनल एसपी कमलेश कुमार खरपुसे के मुताबिक विस्फोट किसी बैटरीनुमा चीज़ से हुआ है, पुलिस और एफएसएल की टीम मौके पर पहुंचकर पूरी घटना की जांच कर रही है।

स्कूल में कहां से पहुंचा ये सामान
इस घटना के बाद बड़ा सवाल यह है कि आखिर स्कूल केे क्लासरूम में बच्चों के हाथ में बैटरीनुमा चीज़ आई कैसे, बहरहाल पुलिस और एफएसएल की टीम इन सारे सवालों के जवाब ढूंढने में जुटी हुई है। लेकिन स्कूल को फिलहाल बंद कर दिया गया। वहीं बच्चों में भी दहशत का माहौल है।

शिक्षकों पर लापरवाही के आरोप
घटना के बाद अभिभावकों में काफी आक्रोश है। अभिभावक और आसपास के लोग शिक्षकों पर ही लापरवाही बरतने का आरोप लगा रहे हैं। आखिरी बच्चों के क्लासरूम में कैसे ये सारी चीजें खुले में रखी हुई थीं और इन्हें वहां खेलने के लिए छोड़ दिया गया था। शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने कहा है कि अगर शिक्षकों की लापरवाही की बात सामने आती है तो जांच के बाद उन पर कार्रवाई की जाएगी।