स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

स्कूली शिक्षकों को तबादला आदेशों के पालन संबंधी निर्देश जारी

Sunil Vandewar

Publish: Aug 21, 2019 11:55 AM | Updated: Aug 21, 2019 11:55 AM

Seoni

आयुक्त लोक शिक्षण ने दी हिदायत

सिवनी. स्कूल शिक्षा विभाग ने स्थानांतरण नीति 2019-20 के अंतर्गत किए गए स्थानांतरणों का पालन करने के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। आयुक्त लोक शिक्षण जयश्री कियावत ने हिदायत दी है कि स्थानांतरण आदेशों के पालन के संबंध में जारी निर्देशों का पालन सुनिश्चित किया जाए।
विभाग ने स्पष्ट किया है कि स्थानांतरित शिक्षकों की कार्य मुक्ति पोर्टल के माध्यम से संकुल प्राचार्य द्वारा की जाएगी। संकुल प्राचार्य की यह जिम्मेदारी होगी कि वह संबंधित आवेदक द्वारा ऑनलाइन आवेदन में उल्लेखित दस्तावेजों का परीक्षण करें और सही पाए जाने पर भारमुक्त करने की कार्यवाही तय करें। परीक्षण में कोई तथ्य त्रुटिहीन पाए जाने पर इसे पोर्टल पर अंकित किया जाएगा।
कार्य मुक्त शिक्षकों की नवीन संस्था में कार्यभार ग्रहण की कार्यवाही एजुकेशन पोर्टल के माध्यम से संकुल प्राचार्य द्वारा की जाएगी। प्राचार्य की जिम्मेदारी होगी कि वह आवेदक द्वारा ऑनलाइन आवेदन में उल्लेखित दस्तावेजों का परीक्षण करे और सही पाए जाने पर शाला में उपस्थिति की रिपोर्टिंग की जाए। कोई तथ्य त्रुटिपूर्ण होने पर इसे पोर्टल पर अंकित करना होगा।
जिला शिक्षा अधिकारी को संकुल स्तर से कार्य मुक्त, कार्यभार ग्रहण एवं होल्ड किए गए प्रकरणों की प्रगति की रोज ऑनलाइन मॉनीटरिंग करनी होगी। निर्देशों में कहा गया है कि तबादला आदेश के चलते किसी शाला के शिक्षक विहीन होने की स्थिति में उस शाला के शिक्षकों को शाला में नियमित या अतिथि शिक्षकों की पद स्थापना होने तक भारमुक्त न किया जाए। उत्कृष्ट और मॉडल स्कूलों से अन्य शालाओं में स्थानांतरण होने पर ऐसे शिक्षकों को भी नवीन नियुक्ति या अतिथि शिक्षक की व्यवस्था तक भारमुक्त किए जाने पर रोक लगाई गई है।
जनजातीय कार्य विभाग की शालाओं में पदस्थ शिक्षकों का स्थानांतरण त्रुटिवश स्कूल शिक्षा विभाग की शालाओं में हो जाने पर संबंधित आदेश स्वत: निरस्त माना जाएगा। ऐसे शिक्षकों को कार्यभार ग्रहण नहीं कराए जाने को कहा है। स्थानांतरित लोक सेवकों को भारमुक्त एवं कार्यभार ग्रहण करने की कार्यवाही एजुकेशन पोर्टल के माध्यम से ही की जाएगी।