स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

वायरल बुखार की चपेट में जिला

Santosh Dubey

Publish: Oct 06, 2019 13:30 PM | Updated: Oct 06, 2019 13:30 PM

Seoni

मौसम में हो रहे बदलाव के चलते बढ़ी मरीजों की संख्या

सिवनी. मौसम में बदलाव के चलते इन दिनों जिला चिकित्सालय में मरीजों की भीड़ गई है। सर्द-गर्म मौसम व मच्छरों के प्रकोप से जिले में वायरल फीवर ने पांव पसार लिए हैं। बच्चों से लेकर युवा और बुजुर्ग तक बुखार से पीडि़त होकर अस्पताल पहुंच रहे हैं।
जिला चिकित्सालय की ओपीडी पर्ची के अनुसार एक से 31 सितम्बर तक विभिन्न बीमारियों से ग्रसित 25,782 मरीजों ने उपचार कराया था। वहीं अक्टूबर माह के इन पांच दिनों में अब तक लगभग चार हजार मरीजों उपचार कराने पहुंच चुके हैं।
मरीजों में सुरेश, सोमवती बाई, दीपेश, आरती ने बताया कि पिछले तीन-चार दिनों से हाथ-पैर में दर्द, सर्दी-सिरदर्द, खासी, बुखार जकडऩ की शिकायत से परेशान हैं। हल्का बुखार रहने और अत्यधिक सुस्ती के चलते उपचार कराने अस्पताल पहुंचे हैं। मरीजों ने बताया कि घर के अधिकांश सदस्यों में वायरल फीवर का असर देखने को मिल रहा है। वहीं नागरिकों ने बताया कि शहर से लेकर गांव तक गंदगी का अंबार लगा है। जगह-जगह टूटी नालियों में मच्छर पनप रहे हैं। गांवों में न पंचायत स्तर और न ही सीएचसी स्तर पर दवा का छिड़काव किया जा रहा है। यही हालत शहरी क्षेत्र में भी देखने को मिल रहा है। अधिकांश वार्डों में साफ-सफाई नहीं होने से जगह-जगह कूड़े का ढेर लगा है।
अक्टूबर माह के पिछले पांच दिनों में एक अक्टूबर को 912, दो को 466, तीन को 1039, चार को 832 और पांच अक्टूबर को 686 मरीज जिला अस्पताल पहुंचे। वहीं मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। इसके साथ ही ग्राम क्षेत्रों के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, उप स्वास्थ्य केंद्र और निजी अस्पताल में भी वायरल बीमारी से ग्रसित मरीज उपचार कराने बड़ी संख्या में पहुंच रहे हैं। वहीं डॉक्टरों का कहना है कि मौसम में अचानक आए बदलाव के चलते लोग वायरल बुखार, सर्दी, खासी, टाइफाइड और पीलिया से परेशान हो रहे हैं।

ओपीडी में लग रही मरीजों की कतार
शनिवार को जिला अस्पताल की ओपीडी में 3.35 बजे तक मरीजों की लम्बी कतार लगी रही। वहीं ओपीडी में जांच करने के नाम पर एकमात्र डॉक्टर ही मौजूद मिले। इससे बाहर खड़े बुखार व अन्य बीमारी से ग्रसित मरीजों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। मरीजों का कहना है कि ओपीडी के बंद होने के समय 4 बजे है। लेकिन अधिकांश दिनों यहां दोपहर में लंच होने के बाद कुछ ही डॉक्टर ओपीडी में मौजूद रहते हैं।

इनका कहना है
बीमारी, संक्रमण से बचने के लिए मास्क लगाएं, मच्छरदानी का उपयोग करें।
डॉ. धर्मेन्द्र सिंह राजपूत, जिला चिकित्सालय

इनका कहना है
मौसम में बदलाव के चलते बीमारों की संख्या में वृद्धि हुई है। साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें। तबीयत खराब होने पर तत्काल चिकित्सक से सम्पर्क कर परामर्श लें।
डॉ. पी सूर्या, आरएमओ, सिवनी।