स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

खेत में बने गड्ढे में डूब गए बहन-भाई सहित तीन, गांव में मातम

Akhilesh Kumar

Publish: Oct 07, 2019 19:44 PM | Updated: Oct 07, 2019 19:44 PM

Seoni

सभी मृतक एक ही परिवार के

सिवनी. कान्हीवाड़ा थाना क्षेत्र के भट्टेखारी गांव के खेत में बने गड्ढे में डूबने से तीन बच्चों की मौत हो गई। मृतकों में बहन-भाई और तीसरा उनके बड़े पिता का लड़का है। बड़ी बहन के साथ तीनों बकरी चराने गए थे। खेलते-खेलते गड्ढे के पास जाकर डूब गए। सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने उनके शव को बाहर निकालवाया।


जानकारी के अनुसार ग्राम भट्टेखारी से जावना मार्ग से लगे खेत में भट्टेखारी निवासी 18 वर्षीय राजकुमारी प्रतिदिन की तरह बकरी चराने गई थी। चचेरी बहन के साथ घर के छोटे-छोटे बहन-भाई भी गए थे। सभी वहां खेल रहे थे। खेलते-खेलते बच्चे गड्ढे के पास पहुंच गए। खेल के दौरान सुधीर पिता हेमराज मर्सकोले (साढ़े चार वर्ष) व अमित पिता दिलीराम (साढ़े पांच वर्ष) गड्ढे में गिरकर डूबने लगे। उनको बचाने के लिए संजना पिता हेमराज मर्सकोले (14) गड्ढे में उतर गई। तीनों डूब गए। यह दृश्य देखकर राजकुमारी शोर मचाते हुए गिरकर बेहोश हो गई।

आसपास के लोगों ने पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने ग्रामीणों व डायमंड टीम के सहयोग से तीनों के शव को बाहर निकालवाया। सूचना के बाद मौके पर एसडीएम जेपी सैय्याम, तहसीलदार प्रभात मिश्रा, थाना प्रभारी दिलीप पंचेश्वर मय फोर्स के साथ पहुंच गए थे। पुलिस ने इस मामले में मर्ग कायम कर लिया है। एसडीएम के निर्देश पर मृतक के परिजनों को अंतिम संस्कार के लिए पांच-पांच हजार रुपए का आर्थिक सहायता मुहैया कराया गया है। एसडीएम सैय्याम व तहसीलदार मिश्रा ने बताया कि परिजनों को चार-चार लाख रुपए की मुआवजा राशि दी जाएगी।

सड़क निर्माण के समय हुआ था गड्ढा
ग्राम भट्टेखारी से जावना मार्ग के निर्माण के समय बीते वर्ष ग्राम निवासी चमनलाल भलावी के खेत से मिट्टी/मुरम निकालने के लिए गड्ढा किया गया था। गड्ढे की फैंसिंग नहीं की गई है। गड्ढा भरने का भी कोई प्रयास नहीं हुआ है। गड्ढा चारों तरफ से खुला है। इसकी वजह से यह हादसा हुआ है। इस हादसे के बाद सड़क बनाने वाली कंपनी के खिलाफ लोगों में आक्रोश है।

मुरम निकालने की अनुमति की होगी जांच
सड़क निर्माण के लिए मुरम निकालने के लिए किए गड्ढे की अनुमति निर्माणदायी कंपनी ने ली थी या नहीं। इसकी जांच कराई जाएगी। यदि जांच में बिना अनुमति गड्ढे किए जाने का मामला सामने आया तो संबंधित के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराया जाएगा।
- प्रवीण सिंह, कलेक्टर सिवनी