स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

94 करोड़ की सीवर लाइन डालने का काम शुरू

Vishal Yadav

Publish: Sep 12, 2019 10:36 AM | Updated: Sep 12, 2019 10:36 AM

Sendhwa

सीवरेज लाइन के लिए शुरू की खुदाई, दो साल में नगर होगा गंदगी से मुक्त

बड़वानी/सेंधवा. मध्यप्रदेश अर्बन सेनिटेशन एंड एनवायरनमेंट प्रोग्राम के तहत नगर में बनने वाली सीवरेज प्लांट योजना के लिए बुधवार से कार्य शुरू हुआ। योजना पर कुल 94 करोड़ रुपए खर्च होंगे। निर्माण कार्य के दौरान 135 आईपीसीडी पानी वितरण प्रणाली के समानांतर सीवरेज प्रणाली बनाई जाएगी। इससे नगर साफ और स्वच्छ हो जाएगा।
नगर को साफ और स्वच्छ बनाने के लिए सेनिटेशन कार्य शुरू हो चुका है। नगर पालिका अध्यक्ष बसंतीदेवी यादव ने नगर के आगामी सेनिटेशन कार्य में लोगों से सहयोग की अपील की है। बुधवार को पीजी कॉलेज के समीप जेसीबी के माध्यम से खुदाई शुरू की। इस दौरान नपा सीएमओ मधु चौधरी सहित अन्य अधिकारी-कर्मचारी मौजूद थे। सबसे पहले पीजी कॉलेज से ग्रामीण थाने तक खुदाई कार्य किया जाएगा। इसके बाद नगर के विभिन्न वार्डों में खुदाई शुरू की जाएगी। बुधवार को जैसे ही खुदाई शुरू हुई, वैसे ही 4 फीअ खुदाई करते ही जलावर्धन योजना की पाइप लाइन फुट गई। इस दौरान नपा के अधिकारियों ने जल वितरण विभाग के कर्मचारियों ने भविष्य में खुदाई के दौरान उपस्थिति रखने की बात कही।
सेनिटेशन से खुली नालियां होंगी बंद
नपा की पिछली परिषद द्वारा शहर में 25 से अधिक सड़क निर्माण किए है। इसका लाभ लोगों को मिल मिल रहा है। नालियों पर जालियों को लगाने की जरुरत थी। नगर के पुराना बस स्टैंड सहित मौलाना आजाद मार्ग, सदर बाजार, राम कटोरा क्षेत्र, पुराना एबी रोड आदि क्षेत्रों में दुकानदार दुकानों से निकलने वाला कचरा अकसर नाली में फेंक देते है। कई क्षेत्रों में नपा द्वारा कचरा वाहन चलाए जा रहे है। इसके बाद भी व्यापारी लापरवाही से कचरा नालियों में फेंक रहे है। अब सेनिटेशन कार्य शुरू होने के बाद सभी नालिया बंद हो जाएगी। नालियों को बंद करने से स्वच्छता अभियान में मदद मिलेगी।
37 साल में 33 हजार बढ़ेगी नगर की जनसंख्या
परियोजना के तहत किए सर्वे के मुताबिक सीवरेज लाइन परियोजना के तहत नगर की आबादी वर्ष 2011 के अनुसार 56,485 थी, जो वर्ष 2048 में 90,300 होने का अनुमान है। परियोजना का डिजाइन अनुमानित जनसंख्या पर आधारित होकर एफडब्ल्यू जर्मन बैंक की वित्तीय सहायता से प्रस्तावित है।
ये होगा 94 करोड़ की योजना में
योजना के तहत ट्रीटमेंट प्लांट 8.5 एमएलडी क्षमता का होकर 116 किमी पाइप लाइन बिछाई जाएगी। इसमें 3360 मुख्य गड्ढे होंगे। सभी घरों में घरेलू कनेक्शन दिए जाएंगे। इसकी निर्माण लागत 72 करोड़ 43 लाख होकर 10 वर्ष की संचालन व संधारण की लागत अनुमानित 22 करोड़ 3 लाख है। इस तरह ये योजना 94 करोड़ 46 लाख की होकर 10 वर्ष के रख रखाव पर होकर इसकी टेंडर अंतराष्ट्रीय स्तर पर निविदा विज्ञप्ति जारी गई है, जो 30 जुलाई को प्राप्त होगी। इस योजना में सीवरेज लाइन डालने के कारण क्षतिग्रस्त हुई सड़कों का फिर निर्माण कर यथावत बनाया जाएगा।
पर्यावरण का भी रखेंगे धयान
योजना के तहत कार्य करने वाले ठेकेदार को न्यूनतम 500 पौधे रोपित करना अनिवार्य होगा। उनका पोषण करने का दायित्व भी ठेकेदार का रहेगा। साथ ही सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट से उपचारित पानी का उपयोग पौधरोपण, उज्ञानिकी व अन्य कार्यों में किया जा सकता है।
ये समस्याएं आ सकती हैं
नगर की गलियों में जिन घरों के पीछे गंदी गलियों में पर्याप्त जगह नहीं है। वहां घरों के सामने 3 फीट चौड़ी और 6 फीट गहरी सीवरेज लाइन बनेगी। इसके बाद घरों की गंदगी को पीछे से आगे लाने के लिए पाइप लाइन डाली जाएगी। योजना के क्रियांवयन में सबसे बड़ी बाधा आम लोगों का सहयोग हो सकती है। हालांकि नपाध्यक्ष बसंतीदेवी यादव ने लोगों से सहयोग की अपील की है। जिन संकरी गलियों में जलावर्धन योजना की पाइप लाइन पहले से डाली है। वहां सीवरेज लाइन डालने में समस्या आ सकती है।
ये है नगर की स्थिति
जनसंख्या : 62100
घरों की संख्या : 12000
सड़क संपर्क : 95 किमी
नगर का क्षेत्रफल : 18 वर्ग किमी
ऊंचाई : 409 मीटर
सीवरेज लाइन की योजना के मापक
सीवरेज नेटवर्क : 110 किमी
सीवरेज लाइन से जोड़े जाने वाले घरों की संख्या : 12 हजार
पंपिग स्टेशन : 2
वर्जन...
सीवरेज लाइन का कार्य बुधवार से शुरू हुआ है, जो आगामी 2 वर्षों तक चलेगा। इस दौरान 110 किमी से अधिक लाइन डालेगी। इससे नगर का कायाकल्प होगा।
-मधु चौधरी, सीएमओ नपा सेंधवा