स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कॉलेज प्रबंधन तैयार, आज आएगी नैक टीम

Vishal Yadav

Publish: Jul 04, 2019 11:03 AM | Updated: Jul 04, 2019 11:03 AM

Sendhwa

बेंगलोर और दिल्ली से आया दल करेगा निरीक्षण, कॉलेज प्रबंधन की बैठक में की चर्चा

बड़वानी/सेंधवा. शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में 4 एवं 5 जुलाई को नैक पीयर टीम द्वारा मूल्यांकन होना है। प्राचार्य डॉ. कल्पना कोठरी ने इसको लेकर कॉलेज प्रबंधन की बैठक रख चर्चा की गई। इसमें डॉ. कोठारी ने बताया कि नेक (राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यानयन परिषद) का काम देश की उच्च शिक्षण संस्थानों का आंकलन कर उसका मूल्यांकन करना होता है। इसमें नेक टीम ये देखती है कि महाविद्यालय नेक द्वारा तय गुणवत्ता के मानकों पर कितना खरा उतरता है। उसके आधार पर ग्रेड देती है। इस 3 सदस्यीय नेक पीयर टीम के अध्यक्ष (चेयरमैन) डॉ. बीसी त्रिपाठी, प्रोफेसर, स्कूल ऑफ लाइफ साइंस, जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय नई दिल्ली है। पीयर टीम समंवयक डॉ. पुरुषोत्तम नायक, प्रोफेसर, स्कूल ऑफ इकॉनामिक्स, नार्थ इस्टर्न हिल विवि शिलांग मेघालय और सदस्य डॉ. विजयालक्ष्मी नाइक, प्राचार्य एसडीएम कॉलेज होनावर कर्नाटक है।
मार्च में ऑनलाइन जमा की थी रिपोर्ट
डॉ. कोठारी ने बताया कि निरीक्षण से पहले कॉलेज प्रबंधन ने कॉलेज परिसर की सभी व्यवस्थाओं को चाक चौबंद कर दिया है। सभी को बेहरत रेंक मिलने की उम्मीद है। शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय सेंधवा द्वारा मप्र शासन उच्च शिक्षा विभाग के निर्देशों का पालन किया है। साथ ही 29 मार्च को नेक मूल्यांकन के लिए नेशनल असेसमेंट एंड एक्रेडिटेशन कॉउंसिल बैंगलोर की अधिकारिक वेबसाइट पर अपनी सेल्फ स्टडी रिपोर्ट को अपलोड कर दिया गया था।
130 बिंदुओं की जानकारी जुटाई
महाविद्यालय में मूल्यांकन के लिए नेक कॉर्डिनेटर प्रो. महेश बाविस्कर व मूल्यांकन की प्रशासनिक काईवाईयों के प्रभारी डॉ. दिनेश कनाड़े ने बताया कि जुलाई 2017 के बाद नेक द्वारा मूल्यांकन के संबंध में नियमों में बदलाव किया है। नेक द्वारा उच्च शिक्षण संस्थानों को अपनी सेल्फ स्टडी रिपोर्ट में विगत 5 वर्षांे में करीक्यूलर एक्टिविटी, टीचिंग लर्निंग इवेल्यूवेशन, रिसर्च इनोवेशन एंड एक्सटेंशन, इंफ्रास्ट्रक्चर, स्टूडेंट सपोर्ट एंड प्रोग्रेसन, गवर्नेंस लीडरशिप एंड मैनेजमेंट, इंसटीट्यूशनल वेल्यूस एंड बेस्ट प्रेक्टिसेस के आधार पर 130 अलग-अलग बिंदुओं पर जानकारी देना होती है। इसके लिए 70 फीसदी अंक निर्धारित किए जाते है।
यूजीसी की रुसा परियोजना के तहत मिल सकता है अनुदान
बाविस्कर ने बताया कि मूल्यांकन सेल्फ स्टडी रिपोर्ट के ऑनलाइन डाटा वेलिडेशन एवं पीयर टीम विजिट द्वारा किया गया। महाविद्यालय की सेल्फ स्टडी रिपोर्ट के आधार पर नेक द्वारा डाटा वेलिडेशन व वेरिफिकेशन प्रोसेस के तहत रिपोर्ट की जांच की गई। ऑनलाइन वेरिफिकेशन संपन्न होने पर बुधवार को महाविद्यालय को प्री-क्वालिफायर स्टेज को पास करने की सूचना दी गई। अब नेक बैंगलोर द्वारा निर्धारित टीम महाविद्यालय का दौरा करेगी। टीम संभवत: जुलाई में महाविद्यालय का दौरा कर सकती है। प्राप्त अंकों के आधार पर महाविद्यालय को ग्रेड प्रदान की जाएगी। इससे महाविद्यालय को यूजीसी की रुसा परियोजना के तहत अनुदान मिल सकेगा। पूर्व में महाविद्यालय द्वारा मूल्यांकन के संबंध मे अपनी आईआईक्यूए रिपोर्ट नेक को 21 फरवरी को ऑनलाइन प्रेषित की जा चुकी थी। इसके बाद नैक द्वारा सेल्फ स्टडी रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए 45 दिन का समय दिया गया था। बड़वानी जिले के मास्टर फेसिलिटेटर डॉ. प्रमोद पंडित, प्राध्यापक बड़वानी कॉलेज के मार्गदर्शन में ये कार्य संपन्न हुआ।
एसएसआर रिपोर्ट तैयार करने के लिए इन्हें दिए थे निर्देश
प्रशासनिक कार्यवाईयां : डॉ. दिनेश कनाड़े
पाठयक्रम क्रियांवयन : डॉ. एसआर अहिरे
टीचिंग लर्निंग : डॉ. मीना भावसार
इंफ्रास्ट्रक्चर : डॉ. यशोदा चौहान व प्रो. लीना मालवीय
स्टूडेंट प्रोग्रेस : डॉ. मोतीलाल अवाया
कैंपस मैनेजमेंट : डॉ. सुरेश काग
प्रशासन व्यवस्था : डॉ. कल्पना कोठारी
रिसर्च पेपर एंड प्रोजेक्ट : डॉ किशोर सोलंकी
एक्स्टेंशन गतिविधि : प्रो बीएस जमरे
स्टूडेंट सर्वे : प्रो बीके रावत
स्पोट्र्स गतिविधि : डॉ. विक्रम जाधव
पर्यावरण जागरुकता : प्रो एसएस सिसौदिया
शासकीय योजनाएं : प्रो संतोषी अलावा
बेस्ट प्रेक्टीसेस : डॉ. जीएस वास्कले
एक्जाम डाटा : डॉ. संतरा चौहान
वेबसाइट अपडेशन : प्रो. मनोज तारे
एलुमनी गठन : डॉ. विकास पंडित
डाटा संग्रहण : प्रो. इरशाद मंसूरी
सेमिनार डाटा : प्रो शिव बार्चे
लाईब्रेरी डाटा : उमराव सिंह
जॉब ओरिएंटेड डाटा : प्रो सीएल डोडिया
डाटा टाईपिंग व अपलोडिंग : वीरेंद्र पंवार व दिनेश आर्य