स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

भगवान श्रीकृ ष्ण, माता रुकमणी का विवाह आदर्श विवाह है- शास्त्री

Anil Kumar

Publish: Nov 08, 2019 12:32 PM | Updated: Nov 08, 2019 12:32 PM

Sehore

मनाया जाएगा नारायण तुलसी विवाह महोत्सव

सीहोर.
शहर के बड़ा बाजार में शारदा वैदिक संस्थान के तत्वाधान में जारी श्रीमद् भागवत रस कथा, नारायण तुलसी विवाह महोत्सव के तहत गुरुवार को बारात निकाली गई। जिसमें बड़ी संध्या में श्रद्धालुओं ने शामिल होकर धर्मलाभ लिया। बारात का कई जगह स्वागत भी किया गया।

[MORE_ADVERTISE1]

बड़ा बाजार में नारायण तुलसी विवाह महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। इसमें पंडित हर्षित शास्त्री के सानिध्य में नारायण शालीगराम की बारात निकाली गई। जिसमें बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने बारात में नृत्य कर भगवान के जयकारे लगाएं। वहीं भागवत कथा के दौरान भगवान श्रीकृ ष्ण और माता रुकमणी के विवाह का वर्णन किया गया।

[MORE_ADVERTISE2]

रथ में बैठाकर ले गए
कथा में शास्त्री ने कहा कि भगवान श्रीकृ ष्ण और माता रूकमणी का विवाह आदर्श विवाह है। महाराज भीष्म अपनी पुत्री रूकमणी का विवाह श्रीकृ ष्ण से करना चाहते थे, लेकिन उनका पुत्र राजी नहीं था। वह रूकमणी का विवाह शिशुपाल से करना चाहता था। जबकि रूकमणी इसके लिए राजी नहीं थीं। विवाह की रस्म के अनुसार जब रूकमणी माता पूजन के लिए आई, तब श्रीकृ ष्ण उन्हें अपने रथ में बैठा कर ले गए।

[MORE_ADVERTISE3]

महापुराण का आयोजन 13 नवंबर से
आष्टा. शहर में 13 नवंबर से शुरू होने वाले सात दिवसीय श्रीमद देवी भागवत महापुराण की तैयारी जोरशोर से शुरू हो गई है। प्रभूप्रेमी संघ महिला मंडल के तत्वाधान में होने वाली इस सात दिवसीय कथा का आयोजन 13 से 19 नवंबर तक कन्नौद रोड स्थित कॉलोनी चौराहा के एक निजी गार्डन में होगा। जिसमें प्रतिदिन दोपहर 2 से शाम 5 बजे तक पंडित दीपेश पाठक कथा का वाचन करेंगे। साथ ही नृत्य नाटिका के साथ भजन संगीत होगा। अंतिम दिन पूर्णाहुति के साथ इसका समापन होगा।