स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

state highway parking : स्टेट हाइवे पर सात में दिन पार्किंग की व्यवस्था नहीं हुई तो होगी कार्रवाई

Amit Mishra

Publish: Jul 15, 2019 13:21 PM | Updated: Jul 15, 2019 13:21 PM

Sehore

मेन रोड किनारे बने 150 संस्थान को चिन्हित कर सात दिन में पार्किंग की व्यवस्था करने का नोटिस दिया है।

सीहोर। पुराने स्टेट हाइवे State Highway किनारे स्थित अस्पताल, बैंक और शोरूम संचालकों के खिलाफ पुलिस ने पहली बार सख्ती दिखाई है। ट्रैफिक पुलिस ने हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी से इंदौर नाके तक मेन रोड किनारे बने 150 संस्थान को चिन्हित कर सात दिन में पार्किंग parking की व्यवस्था करने का नोटिस दिया है। ट्रैफिक पुलिस Traffic police से हिदायत दी है कि सात दिन बाद यदि सड़क पर नो-पार्किंग में इन संस्थान के सामने वाहन खड़े दिखाई दिए तो निरंतर मोटर वीकल एक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी।

 

ट्रैफिक जाम के हालात बन रहे
सौया चौपाल से हाउसिंग बोर्ड तक आठ किलोमीटर लंबाई में पुराने स्टेट हाइवे का पीडब्ल्यूडी ने फोरलेन में निर्माण कराया है। फोरलेन निर्माण का काम लगभग पूरा हो गया है, डिवाइडर और फुटपाथ का काम चल रहा है। शहर के मुख्य मार्ग का चौड़ीकरण इस उद्देश्य से कराया गया है कि यहां पर ट्रैफिक दबाव अधिक रहता है, सड़क चौड़ी होने के बाद जाम की समस्या होनी होगी, लेकिन सड़क बनने के बाद भी गंगा आश्रम पर रोज ट्रैफिक जाम के हालात बन रहे हैं।

नोटिस भेजकर आदेश दिए गए
ट्रैफिक जाम होने के पीछे मुख्य कारण यह सामने आया है कि सड़क किनारे संचालित अस्पताल, शोरूम, बैंक, कॉम्प्लेक्स के पास पार्किंग की कोई व्यवस्था नहीं है। पार्किंग के लिए जगह नहीं होने के कारण वाहन सड़क पर खड़े होते हैं, जिससे ट्रैफिक जाम की समस्या से निपटने के लिए यातायात थाने से करीब 150 संस्थान को नोटिस भेजकर सात दिन में पार्किंग की व्यवस्था करने के आदेश दिए गए हैं।

 

बेसमेंट में पार्किंग की जगह खोलीं दुकान
टाउन हॉल से सीवन तिराहे तक पार्किंग की सबसे बड़ी समस्या है। इस क्षेत्र में कई शोरूम, बैंक, कॉम्प्लेक्स और अस्पताल हैं। टाउन एण्ड कंट्री प्लानिंग के हिसाब से शोरूम, कॉप्लेक्स और अस्पताल भवन निर्माण के दौरान बेसमेंट पार्किंग के लिए आरक्षित किया जाता है।

किराया वसूला जा रहा
शोरूम, कॉम्प्लेक्स, अस्पताल भवन में ऑन रेकॉर्ड को बेसमेंट को पार्किंग दिखाया गया है, लेकिन पार्किंग नहीं है। बहुमंजिला अधिकांश इमारतों के बेसमेंट में दुकानें खुद गई हैं। एक-एक दुकान से चार-चार, पांच-पांच हजार रुपए किराया वसूला जा रहा है और वाहन सड़क पर नो-पार्किंग में खड़े किए जा रहे हैं। इससे एक लापरवाही नगर पालिका की भी है। नगर पालिका चाहे तो बेसमेंट में स्थित दुकानों को बंद करा सकती है, लेकिन नपा इस तरफ ध्यान नहीं दे रही है, जिसके कारण शहर की ट्रैफिक व्यवस्था खराब हो रही है।


चौड़ाई दोगुनी होने का नहीं मिला फायदा
पहले सह सड़क सात मीटर की थी। फोनलेन बनने के कारण डिवाइडर के दोनों तरफ सात-सात मीटर हो गई है। सड़क की चौड़ाई पहले की अपेक्षा करीब-करीब दो गुनी हो गई है, लेकिन ट्रैफिक जाम की समस्या पहले की तरह ही बनी हुई है, जिसे लेकर ट्रैफिक पुलिस ने सख्ती दिखाना शुरू किया है। पुलिस ने इस बार नोटिस जारी कर सख्त हिदायत दी है कि संस्थान अपनी-अपनी पार्किंग की व्यवस्था करें, सड़क पर वाहन खड़े नहीं होंगे।

मेन रोड पर कहां-कहां लगता है जाम
ट्रॉमा सेंटर भवन ने लेकर जनसंपर्क कार्यालय तक गंगा आश्रम पर हर समय ट्रैफिक जाम की स्थिति बनी रहती है। इस क्षेत्र में सड़क किनारे डॉक्टर्र्स के क्लीनिक, मेडिकल ज्यादा है।

पोस्ट ऑफिस से लेकर बस स्टैंड स्थित गणेश मंदिर तक मेन रोड पर बार-बार ट्रैफिक जाम होता है। इस क्षेत्र में तीन बैंक और कुछ कॉम्प्लेक्स बने हैं।


भोपाल नाके पर आवासीय खेलकूद संस्था के सामने चौराहे पर भी ट्रैफिक जाम होता है। यहां पर चारों तरफ कुछ होटल हैं, जिसकी वजह से वाहनों को आवाजाही में दिक्कत होती है।

इंदौर नाके पर पेट्रोल पंप के पास हर समय ट्रैफिक जाम की स्थिति बनी रहती है। यहां पर सड़क किनारे लाइन में मैकेनिकों की दुकान हैं। मैकेनिक सड़क पर ही वाहन ठीक करते हैं।


हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी से इंदौर नाके तक मेने रोड किनारे स्थित 150 संस्थान को नोटिस देकर पार्किंग की व्यवस्था करने को कहा गया है। यदि सात दिन में वे पार्किंग की व्यवस्था नहीं करते हैं और वाहन सड़क पर खड़े पाए जाते हैं तो मोटर वीकल एक्ट में कार्रवाई की जाएगी।
देवनारायण पांडे, ट्रैफिक इंचार्ज सीहोर