स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

प्रदेश सरकार ने केन्द्र से 6621.28 करोड़ रुपए मांगे, एक भी नहीं मिला : संगीता शर्मा

Kuldeep Saraswat

Publish: Nov 04, 2019 12:03 PM | Updated: Nov 04, 2019 12:03 PM

Sehore

कांग्रेस प्रवक्ता ने केन्द्र सरकार पर लगाए भेदभाव के आरोप

सीहोर. मध्यप्रदेश ने अतिवृष्टि और बाढ़ जैसी आपदा का सामना किया है। इस आपदा से प्रदेश के 52 में से 39 जिलों की 284 तहसील प्रभावित हुई हैं। अन्नदाता की करीब 60.47 लाख हेक्टेयर फसल खराब हुई है। 16 हजार 270 करोड़ रुपए रुपए की फसल बर्बाद हुई हैं। एक लाख 20 हजार घरों को क्षति पहुुंची है, इसके बाद भी केन्द्र सरकार मध्यप्रदेश की मदद करने को तैयार नहीं है। यह बात रविवार को जिला कांग्रेस कमेटी कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कांग्रेस की प्रवक्ता संगीता शर्मा ने कही।

[MORE_ADVERTISE1]
[MORE_ADVERTISE2]

उन्होंने बताया कि बारिश से प्रदेश में 11 हजार किलोमीटर से अधिक सड़कों को नुकसान पहुंचा है। एक हजार से अधिक पुल-पुलिया को क्षतिग्रस्त हुई हैं। 19 हजार 735 स्कूल भवन, 218 छात्रावास, 230 स्वास्थ्य केंद्र, 17106 आंगनबाड़ी को नुकसान पहुंचा है। सरकार हालत से निपटने के प्रयास कर रही है और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव, कैलाश विजयवर्गीय व्यर्थ की बयानबाजी कर रहे हैं।

[MORE_ADVERTISE3]

कांगे्रस की प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि मप्र के साथ केंद्र सरकार भेदभाव कर रही है। संघीय ढांचे में यह व्यवस्था है कि जब भी किसी राज्य पर ऐसी भीषण प्राकृतिक आपदा आती है तब केंद्र सरकार का दायित्व होता है कि वह राष्ट्रीय आपदा कोष से राज्य की सहायता करे, लेकिन भाजपा की केन्द्र सरकार मदद नहीं कर रही है। प्रदेश सरकार ने केन्द्र से 6621.28 करोड़ रुपए की मांग की है, लेकिन केन्द्र सरकार ने एक भीपैसा नहीं दिया है।