स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

school news : नहीं सुधर रहें स्कूलों के हालात, निरीक्षण में ऐसी स्थिति देख सख्त हुए अफसर

Anil Kumar

Publish: Aug 03, 2019 12:31 PM | Updated: Aug 03, 2019 12:31 PM

Sehore

44 में से एक भी नहीं मिला छात्र, शिक्षिका भी मिली नदारद

सीहोर/आष्टा। शासन और शिक्षा विभाग education department के तमाम प्रयासों के बावजूद सरकारी स्कूल की व्यवस्थाओं में सुधार होने का नाम नहीं ले रहा है। इसकी पोल आष्टा ब्लॉक में शिक्षा विभाग की टीम के निरीक्षण में सामने आई है। इसमें एक स्कूल में एक बच्चा भी नहीं मिला, जबकि दूसरे में आधे से भी कम थे। जिसके चलते प्रबंधन को अब कारण बताओ नोटिस Notice जारी किया जाएगा। इसमें संतोषजनक जवाब नहीं मिला तो नियम अनुसार कार्रवाई की जाएगी।

 

जिले के कई सरकारी प्राइमरी और मिडिल स्कूल में शिक्षकों की मनमानी थमने का नाम नहीं ले रही है। वह मनमर्जी से जब चाहे तब स्कूल आने के बाद वापस चले जाते हैं। उनकी लापरवाही के चलते स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति घटती जा रही है। सबसे बेकार स्थिति आष्टा ब्लॉक के स्कूलों में है।

 

sehore

शिक्षक गायब मिले
आष्टा ब्लॉक में दो सप्ताह में शिक्षा विभाग के टीम के किए निरीक्षण में शिक्षकों के गायब रहने के साथ बच्चे भी औसत से कम मिले हैं। इसकी हकीकत जानने गुरुवार को फिर डीपीसी अनिल श्रीवास्तव आष्टा क्षेत्र के स्कूलों में पहुंचे। उनके सामने भी यही हाल मिले।

 

केस01: 88 में से सिर्फ 43 बच्चे आए स्कूल
दोपहर दो बजे सिद्दीकगंज क्षेत्र के गांव नौगांव के शासकीय प्राइमरी स्कूल का डीपीसी ने निरीक्षण किया। इसमें उनको 88 बच्चों में से मौके पर सिर्फ 43 बच्चे ही मिले। जिनके बारे में स्कूल में पदस्थ शिक्षक सोभालसिंह, राजनारायण परमार, उदयकुमार परमार से पूछताछ की तो स्पष्ट जवाब नहीं दे पाएं। डीपीसी ने कम बच्चे मिलने पर नाराजगी जाहिर कर शिक्षकों को बच्चों की संख्या बढ़ाने पर जोर देने के निर्देश दिए गए हैं।

 

mp


केस02: 3.10 पर ही गायब पूरे बच्चे
डीपीसी 3 बजकर 10 मिनट पर नौगांव के ही शासकीय प्राइमरी इजीएस शाला पहुंचे तो नजारा देख दंग रह गए। स्कूल में दर्ज 44 बच्चों में से एक भी नहीं था। वहीं शिक्षिका अलका ठाकुर भी नहीं थी। डीपीसी ने मौके पर मौजूद शिक्षक बहादुरसिंह ठाकुर से जब इस संबंध में पूछताछ की गोलमोल जवाब देता हुआ नजर आया। शिक्षक का कहना था कि आज हरियाली अमावस्या होने के कारण बच्चे घर चले गए हैं। वहीं शिक्षिका के नहीं होने का पूछा तो अवकाश पर जाने की बात कहीं।

 

केस03: बच्चे, शिक्षक मिले फिर भी व्यवस्था बनाने के निर्देश
शाम सवा 4 बजे डीपीसी बापचा बरामद के तालपुरा के शासकीय प्राथमिक स्कूल पहुंचे। यहां उनको स्कूल में दर्ज बच्चे और स्टाफ उपस्थित मिला। डीपीसी ने बताया कि स्कूल में व्यवस्था काफी हद तक अच्छी मिली है, फिर भी अन्य व्यवस्था दुरस्त करने के प्रबंधन को निर्देश दिए हैं। जिससे कि स्कूल में पढऩे आने वाले बच्चों को अच्छी से अच्छी शिक्षा मिलने के साथ ही उनको किसी तरह की परेशानी का सामना नहीं करना पड़े।
निरीक्षण किया है


तीन सरकारी स्कूलों का निरीक्षण किया है। इसमें एक स्कूल में एक भी बच्चा नहीं मिला है। जबकि दूसरे में कम बच्चे मिले हैं, जिसके चलते दोनों ही स्कूल के प्रबंधन को कारण बताओ नोटिस जारी किया जाएगा। बापचा के स्कूल में जरूर व्यवस्था अच्छी मिली है।
अनिल श्रीवास्तव, डीपीसी सीहोर