स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

रिश्वत के आरोप में फंसे नसरुल्लागंज टीआई, हो सकती है बड़ी कार्रवाई

Kuldeep Saraswat

Publish: Nov 06, 2019 11:51 AM | Updated: Nov 06, 2019 11:51 AM

Sehore

तीन दिन पहले एसपी ने श्यामपुर टीआई के खिलाफ भी की थी कार्रवाई

सीहोर. श्यामपुर टीआई नरेन्द्र कुलस्ते के बाद नसरुल्लागंज टीआई पंकज दीवान की भूमिका पर सवाल उठे हैं। टीआई पंकज दीवान पर नसरुल्लागंज नगर पंचायत के एक पार्षद ने रेत के खाली डंपर को छोडऩे की एवज में 25 हजार रुपए की रिश्वत लेने के आरोप लगाए गए हैं। टीआई दीवान के खिलाफ पुलिस अधीक्षक एसएस चौहान से शिकायत भी की गई है, जिसकी जांच शुरू हो गई है। पुलिस सूत्रों से जानकारी मिल रही है कि टीआई दीवान इस मामले में बुरी तरह फंस गए हैं, उनके खिलाफ कभी भी बड़ी कार्रवाई हो सकती है। हालांकि टीआई दीवान को लाइन अटैच किया जाएगा या फिर निलंबित, इस पर अफसरों की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। अफसर अभी सिर्फ इतना कह रहे हैं कि जांच में दोषी पाया जाएगा तो निश्चित ही कार्रवाई करेंगे।

[MORE_ADVERTISE1]

जानाकरी के अनुसार नसरुल्लागंज नगर पंचायत के वार्ड क्रमांक एक के पार्षद कैलाश धावरे ने पुलिस अधीक्षक एसएस चौहान को शपथ पत्र के साथ एक आवेदन देकर आरोप लगाया है कि वह अपने दोस्तों के साथ नसरूल्लागंज नाके पर थे। इसी दौरान एक व्यक्ति ने आकर कहा कि गरीब ट्रक चालक से पुलिस वाले डरा धमकाकर 25 हजार रुपए की मांग कर रहे हैं। जब मौके पर गए तो वहां टीआई पंकज दीवान थे। आरोप है कि टीआई के पास 500-500 रुपए के नोटों की गड्डी थी, जिसे देख पार्षद ने विरोध किया तो टीआई ने अभद्रता कर दी। पार्षद कैलाश धावरे का आरोप है कि टीआई ने उनसे गाली-गलौच की और झूठे प्रकरण में फंसाने की धमकी दी। यह मामला देख वार्डवासी आए तो टीआई दीवान 500 रुपए की रसीद देकर चले गए।

[MORE_ADVERTISE2]

शिकायत में आरोप लगाया कि टीआई अवैध वसूली कर रहे है। पार्षद ने कुछ दिन पहले नगर में वायरल हुए पुलिस के एक ऑडियो के बारे में भी बताया। पार्षद ने कार्रवाई नहीं होने पर विरोध प्रदर्शन करने की चेतावनी दी है। पार्षद कैलाश धावरे के साथ विमलेश जाट, हरिओम, रमेश मालवीय, शैतानसिंह आदि ने भी टीआई की शिकायत की है। इस संबंध में टीआई पंकज दीवान का कहना है कि इस समय त्योहार का सीजन चल रहा है। इसमें सड़क पर वाहन खड़ा होने से जाम लग रहा है, जिस ट्रक की बात हो रही है वह बीच चौराहे पर आधी सड़क पर खड़ा था। ट्रक के कारण जाम लग रहा था, इसके चलते 500 रुपए का चालान बनाया गया, जो आरोप लगाए जा रहे हैं वह निराधार है।

[MORE_ADVERTISE3]