स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

गजब: मध्यप्रदेश के सीहोर जिले में 35 मिनट में 82 किमी का सफर तय करते हैं रेत का के डंपर

Kuldeep Saraswat

Publish: Nov 14, 2019 12:08 PM | Updated: Nov 14, 2019 12:08 PM

Sehore

खुलेआम हो रहा जिले की रायल्टी से अवैध रेत उत्खनन, कांग्रेस सरकार की छबि हो रही धूमिल

सीहोर. नसरुल्लागंज के दो ऑनलाइन कम्प्यूटर सेंटर पर छापामार अफसर जहां खुश हो रहे थे, वहीं रेत माफिया रेत का अवैध उत्खनन कर सरकार की छबि को धूमिल कर रहा है। रेत माफिया रोज नया कारनामा कर रहा है। इस बार पुलिस ने छिंदवाडा के बजाय होशंगाबाद जिले की रॉयल्टी से रेत का अवैध उत्खनन कर परिवहन करते दो डंपर जब्त किए हैं।

[MORE_ADVERTISE1]

पुलिस से मुताबिक रिकॉर्ड के अनुसार यह डंपर होशंगाबाद जिले की कुलमाणी रेत खदान से भरकर सुबह साढ़े 9 बजे निकले हैं, 35 मिनट में 82 किलो मीटर का सफर तय कर सीहोर जिले की गोपालपुर थाना सीमा में कैसे पहुंच गए, यह बड़ा सवाल है। यह मामला तब और गंभीर हो जाता है, जब यह बात सामने आती है कि सीहोर जिल की सीमा में रेत के डंपरों को 40 किलोमीटर प्रति घंटे से ज्यादा दौडऩे की अनुमति नहीं है, कलेक्टर ने इस पर रोक लगाई है।

[MORE_ADVERTISE2]

जानकारी के अनुसार गोपालपुर थाना पुलिस द्वारा सुबह के समय जब्त किए गए दो रेत के डंपरों की रायल्टी देखने पर सामने आया है कि यह रेत के डंपर होशंगाबाद जिले की कुलमाणी रेत खदान से सुबह 9.50-9.55 बजे निकले हैं और 82 किलोमीटर का सफर 35 मिनट में तय कर गोपालपुर थाना क्षेत्र में पहुंचे हैं। रेत के डंपर क्रमांक एमपी 09 एचजे 3531 और एमपी 09 एचजे 4888 का महज 35 मिनट में 82 किलोमीटरका सफर तय कर लिया। पुलिस की प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि यह डंपर कुलमाणी रेत खदान से नहीं, बल्कि आसपास कहीं से अवैध उत्खनन कर भरे गए हैं। पुलिस और राजस्व को दिखाने के लिए रॉयल्टी होशंगाबाद जिले की काटी गई है। इस संबंध में गोपालपुर थाना प्रभारी उषा मरावी का तर्क है कि रेत के डंपरों की रायल्टी देखने पर सामने आया है कि यह डंपर 35 मिनट में 82 किलोमीटर का सफर तय कर आए हैं। इतनी अधिक दूरी इस समय में तय करना संभव नहीं है। जाहिर है रेत के डंपर अवैध उत्खनन कर भरे गए हैं। डंपर जब्त कर लिए हैं कार्रवाई की जा रही है।

[MORE_ADVERTISE3]