स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

भगवान बामन ने दो पग में नाप दिए सभी लोक : मोहित

Kuldeep Saraswat

Publish: Dec 09, 2019 12:37 PM | Updated: Dec 09, 2019 12:37 PM

Sehore

- रायपुरा गांव में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के तीसरे दिन सुनाई बामन अवतार की कथा

सीहोर. श्यामपुर तहसील के रायपुुरा गांव के श्रीराम मंदिर परिसर में आयोजित श्रीमद् भागवत कथा के तीसरे दिन रविवार को पंडित मोहित राम पाठक ने कहा कि परमात्मा कभी किसी के हाथ नहीं आता, लेकिन जब भक्त अपनी भक्ति के द्वारा हर क्षण, हर पल उसका स्मरण करता है तो वह खुद को रोक नहीं पाता है और भक्त के ह्रदय में आके विराजमान हो जाता है। उन्होंने जड़ भरत और भगवान वामन प्रसंग सुनाया।

[MORE_ADVERTISE1]

पाठक ने कहा कि श्रीमद्् भागवत कथा सुनने से मनुष्य के कई जन्म के पाप का क्षय हो जाता है। हमें भागवत कथा सुनने के साथ उसका अनुशरण भी करना चाहिए। उन्होंने बताया कि वामन अवतार के रूप में भगवान विष्णु ने राजा बलि को यह शिक्षा दी कि दंभ तथा अहंकार से जीवन में कुछ हासिल नहीं होता है। यह भी बताया कि यह धनसंंपदा क्षणसंपदा क्षणभंगुरर होती है, इसलिए इस जीवन में परोपकार करो। अहंकार गर्व ,घृणा और ईष्या से मुक्त होने पर ही मनुष्य को ईश्वर की कृपा प्राप्त होती है। यदि हम संसार में पूरी तरह मोहग्रस्त ओर लिप्त रहते हुए सांसारिक जीवन जीते है, तो हमारी सारी भक्ति एक दिखावा ही रहे जाएगी। वामन विष्णु के 5वें और त्रेता युग के पहले अवतार थे। यह ऐसे अवतार थे जो मानव शरीर में बौने ब्राहण के रूप में प्रकट हुए थे। भगवान बामन 52 अंगुल का रूप धारण करके प्रकट हुए और भगवान राजा बलि के द्वार पर पहुंचे। तीन पग भूमि दान याचना की, राजा बली ने वामन से छोटे रूप में देख कर भूमि दान करने के लिए सहर्ष राजी हो गए, लेकिन भगवान ने विशाल रूप धरकर दो पग में सारे लोक नाप दिया, तब राजा बलि को गलती का अहसास हुआ और प्रभु के आगे सिर झुका दिया।

[MORE_ADVERTISE2]