स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बारिश में इन बातों का रखें खास ध्यान , नहीं होगी ये गंभीर बीमारी

Amit Mishra

Publish: Sep 11, 2019 15:07 PM | Updated: Sep 11, 2019 15:07 PM

Sehore

आष्टा, शाहगंज में मिले डेंगू के दो मरीज, मकान-कंटेनर में मिला लार्वा
एक महीने में 6 डेंगू के मरीज आए सामने

सीहोर। बारिश rain के दौरान अगर आप अपने को बीमारियों से बचाना protect चाहते है तो आप को इन खास बातों का ध्यान रखना पड़ेगा। बारिश के दौरान घरों में कही भी पानी आदि इकट्ठा न हो नहीं तो बड़ी मात्रा में डेंगू dengue का लार्वा larvae मिल सकता है और आप को या आप के परिवार के सदस्यों को बीमार कर सकता है।


सीहोर जिले में जिन जगहों पर डेंगू मरीज मिले वहां सर्वे चल ही रहा है कि अब आष्टा और शाहगंज में दो नए मरीज मिलने से स्वास्थ्य विभाग हरकत में आया है। इन जगहों पर सर्वे शुरू कराया तो कई घर और कंटेनर में बड़ी मात्रा में डेंगू का लार्वा मिल रहा है। जिसे नष्ट कराकर लोगों को इस बीमारी से बचने जागरूक किया जा रहा है।

इलाज एम्स में जारी
बड़ी बात यह है कि एक महीने में मिले डेंगू के मरीजों में से तीन मरीज भोपाल से इंफेक्टेड होकर आए हैं। आष्टा किला निवासी एक चार वर्षीय बालक दो सितंबर को बीमार हुआ था। जिसे परिजन ने भोपाल एम्स में भर्ती कराया था। जिसकी अब डेंगू पॉजीटिव रिपोर्ट आई है। जिसके चलते अभी भी उसका इलाज एम्स में जारी है।

 

6 में डेंगू का लार्वा मिला था
उधर बालक की रिपोर्ट पॉजीटिव आने पर आष्टा में स्वास्थ्य महकमे ने पांच कर्मचारियों की टीम बनाकर किला क्षेत्र में सर्वे शुरू कराया है। 9 सितंबर से चालू हुए सर्वे में पहले दिन 92 घरों के सर्वे में 9 घर और 1263 कंटेनर में से 6 में डेंगू का लार्वा मिला था। मंगलवार को हुए सर्वे में 146 मकानों की जांच की गई, जिसमें 13 में डेंगू का लार्वा मिला है। 766 कंटेनर में से 17 में लार्वा मिला। जिसे नष्ट कर लोगों को बीमारी से बचने सलाह दी है।

news

उपाय:

अपने आस-पास पानी इकट्ठा मत होने दें।
बारिश के मौसम में शरीर को ढक कर रखें।
विटामिन सी पदार्थों का सेवन करें।
ज्यादा से ज्यादा पानी पिएं।
डॉक्टर के पास तुरंत जाएं और सलाह के अनुसार ट्रीटमेंट कराएं।

 

ऐसे पहचाने डेंगू के लक्षण
डॉक्टरों के अनुसार डेंगू मादा एडीज मच्छर के काटने से होता है। इनके शरीर पर चीते जैसी धारियां होती हैं। ये मच्छर दिन में खासकर सुबह के समय काटते हैं लेकिन अगर रात में रोशनी जल रही हो तब भी ये मच्छर काट सकते हैं। डेंगू के फैलने का सबसे माकूल समय बारिश का मौसम होता है। इस समय म'छरों के पनपने सबसे अनुकूल परिस्थितियां होती हैं।


घर पर ही चल रहा है मरीज का इलाज
शाहगंज के अंबेडकरनगर निवासी 21 साल के युवक बीमार होने पर जांच कराई तो उसकी भी अब रिपोर्ट डेंगू पॉजीटिव आई है। जिसका इलाज घर पर ही चल रहा है और स्वास्थ्य में सुधार हुआ है। सुरक्षा की दृष्टि से मलेरिया विभाग ने यहां सर्वे कार्य जारी कराया है जिसमें कुछ घर में लार्वा मिला है।


बता दे कि इससे पहले झरखेड़ा, बुदनी के माना, बमूलिया बडऩगर और श्यामपुर के गांव शेखपुरा में डेंगू मरीज मिले थे। झरखेड़ा, बुदनी और माना में सर्वे समाप्त हो गया है। शेखपुरा में चल रहे सर्वे में कई घर में लार्वा मिलने के साथ कुछ बुखार के मरीज सामने आए हैं। उल्लेखनीय है कि इस समय मौसमी बीमारियों का प्रकोप चलने से अस्पताल में भी इलाज कराने वालों की भीड़ देखी जा रही है।


सर्वे चल रहा है
जहां पर डेंगू पॉजीटिव मरीज मिले हैं वहां सर्वे चल रहा है। पुरानी जगहों पर सर्वे पूरा हो चुका है। नई जगहों पर जहां मरीज मिले वहां सर्वे जारी है। लोगों को बीमारी से बचाव के लिए जागरूक किया जा रहा है।
क्षमा बार्वे, जिला मलेरिया अधिकारी सीहोर