स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सेल्फ डिफेंस के लिए जुडो, कराते के गुर सीख रहीं छात्राएं

Radheshyam Rai

Publish: Jan 17, 2020 13:38 PM | Updated: Jan 17, 2020 13:38 PM

Sehore

प्रशिक्षण ले रहीं छात्राओं में जागा आत्मरक्षा का विश्वास

सीहोर. अब बेटियां भी स्वयं की रक्षा स्वयं कर सकें, इस मंशा को शासकीय कन्या महाविद्यालय खेलकूद परिसर में आत्मरक्षा के गुर सिखाने एक माह का प्रशिक्षण शिविर आयोजित किया गया है। जिसमें पहुंचकर छात्राएं आत्म रक्षा के गुर सीख रही हैं। इसी को लेकर कोच द्वारा छात्राओं को पंच, किक, ब्लाक और जूडो के माध्यम से अपनी रक्षा के गुर सिखाए जा रहे हैं। प्रशिक्षण शिविर में पहुंचने वाली छात्राओं को अपनी रक्षा करने का विश्वास जागृत होने लगा है।

[MORE_ADVERTISE1]

स्थानीय शासकीय कन्या महाविद्यालय की छात्राएं आत्म रक्षा के गुर सीख रही हैं। जिन्हें बृजेश विश्वकर्मा द्वारा आत्मरक्षा के लिए आत्म निर्भर बनाने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। एक माह तक चलने वाले प्रशिक्षण शिविर में छात्राएं दोपहर 12.30 से 1.30 बजे तक पहुंचकर सेल्फ डिफेंस की टेक्निक्स सीख रही हैं।

[MORE_ADVERTISE2]

छात्राएं सीख रहें सेल्फ डिफेंस टेक्निक्स
प्रशिक्षण शिविर में करीब 40 से 45 छात्राएं पहुंच रही हैं। जिनें कोच ब्रजेश विश्वकर्मा द्वारा अलग-अलग प्रकार की सेल्फ डिफेंस टेक्निक्स सिखाई जा रही हैं। जिसमें जुडो, ब्लाक, एकी डो टेक्निक्स,ख् लॉक, कलाई की पकड़ सिखाई जा रही है। साथ ही अलग अलग परिस्थिति में अटेक करना सिखाया जा रहा है। जिसमें पंच- मिडिल पंच, उपर पंच, लोअर पांच, अलग अलग डायरेक्शन के हुक पंच, नकल पंच, थ्रस्ट ओर जके पंच शामिल हैं। किक्स- फ्रंट जर्क किक, लोअर जर्क किक, नी किक, राउंड हाउस किक शामिल हैं।

[MORE_ADVERTISE3]

आत्मरक्षा का जागा विश्वास
प्रशिक्षण शिविर में आने वाले छात्रा पूजा कुशवाहा, ऋषि का मैथिल, कामिनी यादव, निर्मला, पूजा कर्मा, राधिका मालवीय, शिवानी परमार, पूजा सेन, सोनिका मेवाड़ा, वर्षा, पूजा गौर, बबली गौर ने बताया कि शिविर में आकर हमें इतना विश्वास जरूर हो गया है कि अब स्वयं की रक्षा तो अवश्य कर सकते हैं। शिविर में दौरान प्रशिक्षक बृजेश विश्वकर्मा द्वारा शिविर में पहुंचने पर सर्वप्रथम वार्मअप एक्सरसाइज कराया जाता है। इसके बाद पंच, किक, ब्लाक सेल्फ डिफेंस सिखाया जा रहा है। इससे जहां हममें आत्मरक्षा का विश्वास तो जागा ही है साथ ही फिटनेस भी बनी रहती है।