स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इस गांव में हुआ ऐसा कि बिजली गुल, फिर भी बिल आ रहे फुल

Anil Kumar

Publish: Oct 19, 2019 13:05 PM | Updated: Oct 19, 2019 13:05 PM

Sehore

अफसरों को शिकायत दर्ज कराने के बाद भी नहीं हुई सुनवाई

सीहोर/मेहतवाड़ा.
हम आपको बताने जा रहे हैं ऐसे गांव की कहानी जहां के किसानों को बिजली नहीं मिल रही है, फिर भी उनको हर महीने बढ़ी हुई राशि के बिल जरूर मिल रहे हैं। इन बिलों को लेकर वह बिजली कंपनी के चक्कर काट रहे हंै, उसके बावजूद मायूसी मिल रही है। ऐसे में किसान अफसरों को कौसते हुए नजर आ रहे हैं। जी हां यह स्थिति सीहोर जिले के मेहतवाड़ा की है।

मेहतवाड़ा के सोनी वाले ट्रांसफार्मर से आसपास के करीब चार दर्जन से अधिक किसानों के कनेक्शन हैं। इस ट्रांसफार्मर से मिलने वाली बिजली से ही किसान रबी सीजन में पलेवा करने के साथ सिंचाई तक करते हैं। ट्रांसफार्मर से पिछले चार महीने से सप्लाई बंद है। सप्लाई बंद होने के बावजूद बिजली कंपनी किसानों को हर महीने बिल थमा रही है। किसानों का कहना है कि जब बिजली चालू ही नहीं है तो कंपनी क्यों उनको बिल थोप रही है। वहीं कई किसानों का कहना है कि वह नियमित बिल की राशि जमा करा रहे हैं और उनके ऊपर बकाया नहीं है। बावजूद इसके कंपनी ट्रांसफार्मर से सप्लाई चालू नहीं कर रही है।

तो होगी परेशानी
खरीफ सोयाबीन फसल से फुरसत होते ही किसान रबी की तैयारी में जुटने लगे हैं। ऐसे में ट्रांसफार्मर से जल्द ही सप्लाई चालू नहीं हुई तो उनकी मुसीबत और बढ़ेगी। वह बोवनी के बाद फसल में सिंचाई नहीं कर सकेंगे। जबकि बोवनी से पहले किसी किसान को खेत में पलेवा करने की जरूरत पड़ी तो वह नहीं हो सकेगा। किसानों ने शुक्रवार को पत्रिका को अपनी पीड़ा बताते हुए कहा कि कंपनी मनमानी कर रही है। जिसका खामियाजा उनको भुगतना पड़ रहा है।