स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Heavy rain alert : 48 घंटे रहेंगे बादल, तेज बारिश का अलर्ट

Amit Mishra

Publish: Aug 14, 2019 13:02 PM | Updated: Aug 14, 2019 13:07 PM

Sehore

जिले में कई जगह तेज तो कहीं कम हुई बारिश

सीहोर। जिले में दो दिन से थमा बारिश rain के दौर ने मंगलवार से फिर गति पकड़ ली है, जिसमें सीहोर सहित कई जगह पर कम ज्यादा बारिश हुई है। मौसम विभाग ने अगले 48 घंटों में बादलिक मौसम रहने के साथ ही तेज बारिश heavy rain alert in mp होने का भी अलर्ट जारी किया है। आरएके कॉलेज के मौसम वैज्ञानिक एसएस तोमर ने बताया कि 48 घंटों तक घना बादलिक मौसम रहने के साथ ही तेज बारिश के आसार बन रहे हैं।

 

 

रुक-रुककर बारिश होने का दौर चलता रहा
इधर मंगलवार को सीहोर में दिन में रिमझिम बारिश होने के साथ रात साढ़े सात बजे के करीब कुछ देर अच्छी बारिश भी हुई। उसके बाद भी रुक-रुककर बारिश होने का दौर चलता रहा। वहीं आष्टा ब्लॉक के कुछ गांवों में भी तेज बारिश हो सकती है।

 

sehore

जिले में 24 घंटे में 5.4 एमएम बारिश
जिले में 13 अगस्त सुबह 8 बजे तक 24 घंटों में 5.4 एमएम औसत बारिश दर्ज की गई है। इसे मिलाकर 1 जून से अभी तक जिले में 804.3 एमएम बारिश हुई है। भू अभिलेख के अनुसार 24 घंटों में सीहोर में 6 .2, श्यामपुर में 9, नसरुल्लागंज में 1, बुदनी में 16 , रेहटी में 11 एमएम बारिश रेकार्ड की गई है। आकड़ों के मुताबिक जिले में एक जून से अभी तक सीहोर में 1030.2, श्यामपुर में 748 , आष्टा में 8 64, जावर में 516.9, इछावर में 809, नसरुल्लागंज में 940, बुधनी में 692, रेहटी में 834.4 एमएम रेकार्ड की गई है।

mp

करीब दस करोड़ रुपए की राशि का प्रस्ताव बनाया

गौरतलब है कि इस सीजन मेें लगातार हो रही बारिश से जिले में बाढ़ के हालात बन रहे है। पिछले सप्ताह बाढ़ पीडि़तों की सूची जिला प्रशासन ने तैयार कर ली थी। सीहोर शहर के करीब सात हजार और श्यामपुर के डेढ़ हजार घरों में बाढ़ का पानी भरने की बात जिला प्रशासन के सर्वे से सामने आई थी। जिला प्रशासन इन बाढ़ पीडि़तों को पांच हजार से आठ हजार रुपए तक की आर्थिक मदद उपलब्ध कराएगा। एक तरफ जहां कलेक्टर अजय गुप्ता ने करीब दस करोड़ रुपए की राशि का प्रस्ताव बनाकर शासन को भेज रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ कलेक्टर ने सीहोर एसडीएम वरुण अवस्थी को आदेश दिए हैं कि वह सभी बाढ़ पीडि़तों के बैंक अकाउंट नंबर एकत्रित कर लें, जिससे की सहायता राशि सीधे उनके खाते में जमा कराई जा सके।