स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सुरक्षा व्यवस्था नहीं होने से सीईओ भय के वातावरण में कार्य करने विवश

Anil Kumar

Publish: Nov 09, 2019 12:46 PM | Updated: Nov 09, 2019 12:46 PM

Sehore

कलेक्टर को दिया ज्ञापन, सुरक्षा की मांग

सीहोर.
जिले के सीईओ, बीडीओ जनपद पंचायत और विभागीय अधिकारी संघ के तत्वाधान में जनपद सीईओ ने मुख्य सचिव के नाम एक संबोधित ज्ञापन कलेक्टर अजय गुप्ता को दिया।

[MORE_ADVERTISE1]

ज्ञापन में आरोप लगाकर बताया कि श्योपुर जिले की विजयपुर जनपद पंचायत के सीईओ जोशुआ पीटर के साथ कुछ लोगों ने फ ोन पर जान से मारने की धमकी देते हुए गाली-गलौच की थी। इस घटना की निंदा करते हुए आरोपी को गिरफ्तार कर कार्रवाई की बात कहीं। साथ ही प्रोटेक्शन एक्ट लागू करने की मांग की। जनपद सीहोर के सीईओ दिलीप जैन ने बताया कि पिछले कई वर्षो से सीईओ जनपद पंचायतों को सुरक्षा उपलब्ध कराने की मांग की जा रही है। सुरक्षा व्यवस्था नहीं होने से सीईओ भय के वातावरण में कार्य कर रहे है। जिसमें जिला व जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को सुरक्षा व्यवस्था उपलब्ध कराते हुए गैर जमानती धारा वाला प्रोटेक्शन एक्ट लागू किया जाएं। इस अवसर पर आष्टा जपं सीइओ डीएन पटेल, बुधनी सीईओ डीएस यादव, इछावर सीईओ आयुषी,बीडीओ प्रदीप कुमार थे।

[MORE_ADVERTISE2]

चोरों का नहीं लगा सुराग
सीहोर. शहर के लेबर कॉलोनी में सूने मकान में धावा बोलकर नकदी रुपए और आभूषण चोरी करने वाले अज्ञात चोरों का पुलिस अब तक पता नहीं लगा पाई है। जिससे लोगों में भय की स्थिति बनती जा रही है। कुछ दिन पहले ही लेबर कॉलोनी में एक परिवार बाहर गया था, उसी दौरान अज्ञात चोर ताला तोड़कर सोने-चांदी के जेवरात और नकदी रुपए ले गए थे। परिवार ने वापस आकर देखा तो उनके होश उड़ गए थे। इसकी पुलिस को शिकायत दर्ज कराई थी, लेकिन अब तक कोई पता नहीं चला है।

[MORE_ADVERTISE3]

शिकायत के बाद भी नहीं हुई सुनवाई
आष्टा. शहर के एकमात्र शासकीय उत्कृष्ट स्कूल परिसर से निकली बिजली लाइन के कारण कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है। इस लाइन को हटाने प्रबंधन बिजली कंपनी को शिकायत भी दर्ज करा चुका है, लेकिन आज तक कुछ नहीं हुआ है। उत्कृष्ट स्कूल परिसर के अंदर से ही बिजली तार निकले हैं। कुछ महीने पहले एक तार टूटकर गिर भी गया था। राहत की बात यह रही थी कि उस दौरान कोई नहीं था, जिससे एक बड़ा हादसा होते हुए टल गया था। उसके बाद से ही स्कूल प्रबंधन इन तारों को हटाकर दूसरी जगह शिफ्ट करने की मांग कर रहा है। लापरवाही का आलम यह है कि इस तरफ जिम्मेदार गंभीरता ही नहीं दिखा रहे हैं।