स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

CMO's transfer canceled ; नगरीय प्रशासन मंत्री से मिले पार्षद, सीएमओ का ट्रांसफर निरस्त, अध्यक्ष के अरमानों पर फिरा पानी

Kuldeep Saraswat

Publish: Jul 19, 2019 12:29 PM | Updated: Jul 19, 2019 12:29 PM

Sehore

बुधवार देर शाम आई थी सीएमओ के ट्रांसफर की सूची, सुबह सात बजे अध्यक्ष ने किया एक तरफ रिलीव

सीहोर. नगर पालिका सीहोर राजनीति का अखाड़ा बन गई है। यहां पर पार्षद, अध्यक्ष और सीएमओ के बीच काफी तनातनी चल रही है। अफसर और जनप्रतिनिधियों के बीच चल रही खींचतान का एक उदाहरण गुरुवार को फिर से देखने को मिला है।

जानकारी के मुताबिक नगरीय प्रशासन ने बुधवार शाम को कुछ सीएमओ के ट्रांसफर की सूची जारी की। इस सूची में नगर पालिका सीहोर के सीएमओ अमरसत्य गुप्ता का ट्रांसफर मुरैना किया गया था। नगरीय प्रशासन ने सीएमओ अमरसत्य गुप्ता को सीहोर से मुरैना नगर निगम में उपायुक्त बनाकर भेजा था। नगरीय प्रशासन से बुधवार देर शाम सीएमओ के ट्र्रांसफर ऑर्डर दिए गए और गुरुवार सुबह सात बजे ही नगर पालिका अध्यक्ष अमीता अरोरा ने सीएमओ अमरसत्य गुप्ता से एक तरफा रिलीव कर दिया, जिसका नतीजा यह हुआ कि नगर पालिका के 20से ज्यादा पार्षद एकजुट होकर भोपाल नगरीय प्रशासन मंत्री जयवर्धन सिंह और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के पास पहुंच गए। नगर पालिका उपाध्यक्ष राखी ताम्रकार और पार्षद आजम वेग के नेतृत्व में भोपाल नगरीय प्रशासन मंत्री के पास पहुंचे पार्षदों ने कहा कि यदि सीएमओ का ट्रांसफर निरस्त नहीं किया गया तो सीहोर नगर पालिका की व्यवस्थाएं चौपट हो जाएंगी। नगरीय प्रशासन मंत्री से बात करने के बाद सभी पार्षद पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के पास पहुंचे और नगर पालिका सीहोर की पूरी अव्यवस्थाओं से अवगत कराया, जिसे लेकर नगरीय प्रशासन मंत्री ने तत्काल अफसरों से बात की और सीएमओ का ट्रांसफर निरस्त कर पार्षदों के हाथ में थमा दिया।

नपा अध्यक्ष के खिलाफ रख चुके हैं अविश्वास प्रस्ताव
नगरीय प्रशासन मंत्री और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह से मिलकर सीएमओ अमरसत्य गुप्ता का ट्रांसफर निरस्त कराने वाले यह सब वहीं पार्षद हैं, जिन्होंने नगर पालिका अध्यक्ष अमीता अरोरा के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव रखा है। अविश्वास प्रस्ताव की फाइल कलेक्टर अजय गुप्ता की रिपोर्ट के साथ नगरीय प्रशासन को भोपाल भेजी जा चुकी है। बताया जा रहा है कि पार्षदों ने सीएमओ का ट्रांसफर निरस्त कराने की मांग के साथ नगरीय प्रशासन मंत्री जयवर्धन सिंह से जल्द ही खाली कुर्सी और भरी कुर्सी के चुनाव कराने का भी आग्रह किया है।