स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सद्भावना के साथ भाईचारा बनाए रखने स्वीकार सुप्रीम कोर्ट का फैसला

Kuldeep Saraswat

Publish: Nov 09, 2019 22:39 PM | Updated: Nov 10, 2019 01:47 AM

Sehore

सुरक्षा के लिए चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात, शहवासी बोले- कायम रहेगी गंगा-जमुनी तहजीब

सीहोर. अयोध्या प्रकरण पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने से पहले जहां कई आशंकाएं व्यक्त की जा रही थीं, वहीं फैसला आने के बाद शहर में चौतरफा इसे स्वीकार किया जा रहा है। जिलेभर ने इस फैसले को कुबुल करते हुए सद्भावना की मिसाल पैश की है। शहर में सभी वर्ग के लोग शांति बनाए रखने की अपील करते दिखाई दे रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट के फैसले को सर्वोपरि और न्यायपूर्ण माना जा रहा है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर पुलिस अलर्ट पर है। जिले में धारा 144 लगा दी गई है। सुरक्षा के लिए सभी जगह बाजार बंद कराए गए हैं, बाहर से आने वाले वाहन और व्यक्तियों पर नजर रखी जा रही है।
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक समीर यादव ने बताया कि डेढ़ हजार से ज्यादा पुलिस के जवान तैनात हैं। जिले के आला-अफसर लगातार गश्त कर रहे हैं। सीहोर, बुदनी, आष्टा, जावर, नसरुल्लागंज, रेहटी, दोराहा और श्यामपुर में सुरक्षा के लिए अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया है। सीहोर में कोर्ट का फैसला आने के बाद पुलिस ने कुछ ज्यादा शक्ति दिखाई है। बाजार देर रात तक बंद रहे हैं, लेकिन लोग शांति और सौहार्द का परिचय दे रहे हैं। सभी पुलिस और प्रशासन का सहयोग कर रहे हैं। सभी वर्ग के जनप्रतिनिधि, समाजसेवी और गणमान्य नागरिक पुलिस के साथ मिलकर शहरवासियों के शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील कर रहे हैं। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले का शहरवासी अपनी गंगा-जमुनी तहजीबी परंपरा को निभाते हुए भाईचारे के साथ सहयोग कर रहे हैं। उन्होंने जिलेवासियों के अपील की है कि वह आगे भी त्योहार के समय शांति, सौहार्द का परिचय दें और प्रशासन का सहयोग करें।

[MORE_ADVERTISE1]

झलकियां
- अयोध्या प्रकरण पर फैसला आने से पहले ही पुलिस अधीक्षक एसएस चौहान, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक समीर यादव, जिला पंचायत सीईओ अरुण कुमार और अपर कलेक्टर वीके चतुर्वेदी ने कोतवाली थाने में संभाला मोर्चा।
- फैसला आने के दस मिनट पहले कलेक्टर अजय गुप्ता पहुंचे कोतवाली और फिर शुरु हुआ शहर में अफसरों का दौरा। दिन भर पुलिस बल के साथ शहर में घूमते रहे अफसर।
- डेढ़ हजार पुलिसकर्मियों के साथ 166 चिन्हित स्थानों पर की गई विशेष मॉनीटरिंग। भीड़ भाड़ वाले 125 स्थान पुलिस की मौजूदगी के चलते पड़े रहे सुने।
- जिले भर में सुरक्षा के लिए 67 मोबाइल और 250 स्पेशल पुलिस ऑफिसर रहे सक्रिय। आसामाजिक तत्वों को भी फैसला आने से पहले ही घरों से बुलाकर बिठाया थाने।
- अयोध्या प्रकरण पर न्यायालय का फैसला आते से ही पुलिस हुई सक्रिय। बाजार को कराया बंद। एक घंटे बाद बाजार को चारों तरफ से घेरा। दोपहिया वाहनों इंट्री भी की बंद।
- मुख्य बाजार से लेकर हाइवे तक की गई वाहनों की चेकिंग। पुलिस नाकों से बिना चेकिंग के नहीं निकल सकी गाडिय़ां।
- अयोध्या प्रकरण में फैसला आने को लेकर शहर की सभी होटल और दुकानें बंद थी। इस दोरान आईएसओ प्रमाणित नाइस टी के संचालक जितेन्द्र राठौर ने अपने थर्मस में चाय ले जाकर शहर के चेकिंग पाइंटों पर ड्यूटी कर रहे पुलिसकर्मियों को नि:शुल्क चाय पिलाई।
- सामान्य दिनों में बस स्टैंड से करीब पांच सौ यात्री वाहन बस, टैक्सी इंदौर, भोपाल, नसरुल्लागंज, इछावर, श्यामपुर, आष्टा के लिए आवाजाही करते हैं, लेकिन शनिवार को बस स्टैंड खाली पड़ा रहा। दो-चार वाहन ही दिखाई दिए।

[MORE_ADVERTISE2]सद्भावना के साथ भाईचारा बनाए रखने चैन से चुना सुप्रीम कोर्ट का फैसला[MORE_ADVERTISE3]

सड़क पर क्रिकेट खेलते दिखाई दिए बच्चे
अयोध्या फैसले को लेकर सुबह से जहां शहर में कई आशंकाएं थीं, वहीं अयोध्या प्रकरण पर फैसला आने के बाद शहर के कुछ इलाकों में रोज की तरह अमर चैन का माहौल देखा गया। शहर के अल्पसंख्यक बाहुल्य क्षेत्र मछली बाजार में दोपहर के समय माहौल् इतना सद्भावना पूर्ण देखने को मिला कि यहां से निकलने वाला हर व्यक्ति शहर की गंगा जमुना तहजीब की मिशाल दे रहा था। यहां पर दुकानें बंद होने के कारण खाली पड़ी सड़क पर बच्चे क्रिकेट खेल रहे थे। बच्चों को मस्ती करते देख सभी शहर की एकता अखण्डता के माहौल की तारीफ कर रहे थे।

शहर की सीमाओं पर पुलिस का सख्त पहरा
अयोध्या प्रकरण पर फैसला आने के बाद पुलिस ने सुरक्षा की दृष्टि से सख्ती दिखाना शुरु किया। इंदौर नाका, भोपाल नाका, श्यामपुर रोड और सैकड़ाखेड़ी रोड से शहर में प्रवेश करने वाले हर वाहन और व्यक्ति पर नजर रखी जा रही थी। किसी भी वाहन को पुलिस ने बिना जांच किए शहर में प्रवेश नहीं करने दिया। जिससे लोगों को कुछ असुविधा तो हुई, लेकिन सुरक्षा की दृष्टि से सब तारीफ करते नजर आए।

नमाजियों ने मस्जिद के सामने कराया शांति का एलान
सुबह करीब 11 बजे से अयोध्या प्रकरण पर आए फैसले की तस्वीर साफ हो चुकी थी, पुलिस पूरी तरह अलर्ट पर थी। शहर में शांति, सद्भावना की अपील करने के लिए प्रशासन की गाडिय़ां लगातार लाउड स्पीकर से एलान कर रहीं थी। दोपहर करीब 1.45 बजे लाउड स्पीकर लगा एक ऑटो शांति, सद्भावना की अपील करते हुए कस्बा स्थित पुख्ता मस्जिद के सामने से निकला, तभी कुछ नमाजियों ने ऑटो चालक को रोका और करीब दस मिनट तक मस्जिद के सामने ही रोककर शांति, सद्भावना की अपील कराई। नमाजियों की इस पहल की सभी ने तारीफ की।

शांति और सद्भावना की अपील
- माननीय सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सभी ने सम्मान किया है। पूरे जिले में शांति व्यवस्था कायम है। इसके लिए जिला प्रशासन सभी का आभार करता है। आगे भी तीज त्यौहार है, जिनमें सभी लोग साम्प्रदायिक सौहार्द को बनाए रखें।
अजय गुप्ता, कलेक्टर सीहोर

- सीहोर जिले में चौतरफ अमन चैन कायम है। एक भी ऐसी बात सामने नहीं आई है, जिससे कि हमारी सद्भावना एकता, सौहार्द पर आंच आए। सभी ने पुलिस का सहयोग किया है। आगे भी अपील है इसी तरह पुलिस का सहयोग करें, जिससे कि शांति व्यवस्था बनी रहे।
एसएस चौहान, पुलिस अधीक्षक सीहोर

- न्यायालय का फैसला सर्वमान्य है। साक्ष्यों के आधार पर न्यायालय ने जो फैसला सुनाया है उसका सभी पक्षों ने सम्मान किया है। जिस तरीके से शहरवासी शांति व्यवस्था रखकर न्यायालय के आदेश का सम्मान कर रहे हैं, मेरी अपील है कि आगे भी यह शांति बनी रहना चाहिए। यह किसी की हार जीत नहीं है।
रमेश सक्सेना, पूर्व विधायक सीहो

- न्यायालय के फैसले का सभी ने सम्मान किया है। शहरवासी जिस तरह से शांति व्यवस्था कायम रख गंगा जमुनी तहजीब का संदेश दिया है। यह आगे भी बना रहना चाहिए। सभी न्यायालय के फैसले का स्वागत कर रहे हैं।
अमिता अरोरा, अध्यक्ष नगर पालिका सीहोर

- सर्वोच्च न्यायालय सुप्रीम कोर्ट का अयोध्या मामले को लेकर जो फैसला आया वह हमें मान्य है। इस फैसले को हम कबूल करते हैं। वहीं सभी को इस फैसले को स्वीकार करना चाहिए।
फजले बारी आरिफ, शहर काजी आष्टा

- देश की ऐतिहासिक संस्था सुप्र्रीम कोर्ट का फैसला निर्विवाद और बहुत अच्छा है। जिसको सभी को स्वीकार कर सम्मान करना चाहिए। जिससे कि संपूर्ण विश्व में एकता का संदेश जाएं।
पं. मनीष पाठक, आष्टा

- अयोध्या मामले में न्यायालय का फैसला आ चुका है। हमारे देश में अमन चैन कायम रहे इसके लिए जरुरी है कि सभी आपसी भाईचारे से रहे। हमारी तरफ से ऐसा कोई काम नहीं किया जाए जिससे कि शहर का माहौल खराब हो। सभी एक दूसरे के साथ अच्छा बर्ताव करें। बेहतरीन हालात बनाएं।
हाफिज यूसुफ अंसारी

- सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सभी ने सम्मान किया है। सीहोर शहर की तहजीब गंगा-जमुनी है। सभी एक-दूसरे के प्रति अच्छी भावना रखें और भाईचारा बनाए रखें। यह किसी की हार-जीत का फैसला नहीं है। शांति व्यवस्था में प्रशासन का सहयोग करें।
सुदेश राय, विधायक सीहो


कहां-कहां बनी स्थिति


दिनभर गश्त करते रहे अफसर
बुदनी. सुरक्षा की दृष्टि से बाजार में पुलिस बल तैनात रहा है। दिन में पुलिस ने बाजार बंद करा दिया था। एसडीएम वरूण अवस्थी ने अपील की है कि अफवाहों पर ध्यान नहीं दिया जाए। न्यायालय के फैसले का सभी सम्मान कर रहे हैं।

बाजार में पसरा रहा सन्नाटा
रेहटी. पुलिस ने सभी समुदाय के प्रभावशाली व्यक्तियों को शांति-सद्भावना की अपील के लिए अपने साथ रखा। तहसीलदार आरएल बागरी, डॉ. मेहरबान सिंह, थाना प्रभारी रवींद्र यादव दिनभर शहर में मार्च करते दिखाई दिए। सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस चप्पे-चप्पे पर नजर रखे हुए है।

चौतरफा पुलिस की नजर
दोराहा. अयोध्या प्रकरण पर सुनाए गए फैसले का सभी ने सम्मान किया है। सुरक्षा के लिए दिनभर पुलिस और अफसर गश्त करते दिखाई दिए। पुलिस चौतरफा नजर बनाए हुए हैं। दिन में तहसीलदार मोतीलाल अहिरवार, नायब तहसीलदार रमा कालवा, सुरेश चौधरी, थाना प्रभारी मदन इवने, गश्त करते दिखाई दिए।

धारा 144 के कारण पुलिस सख्त
इछावर/चांदबड़. अयोध्या फैसले को लेकर पुलिस प्रशासन अलर्ट पर है। धारा 144 लगी है। पुलिस वाहनों की चैकिंग कर रही है। सुरक्षा की दृष्टि से पूरा बाजार बंद करा दिया गया है। इछावर में भी बाजार बंद रहे हैं। दिनभर सन्नाटा छाया रहा है।