स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

निवेश की वर्तमान दौड़ में सबसे महत्वपूर्ण हथियार हैं रोबोट

Mohmad Imran

Publish: Oct 21, 2019 16:30 PM | Updated: Oct 21, 2019 16:30 PM

Science and Tech

निवेश की वर्तमान दौड़ में सबसे महत्वपूर्ण हथियार हैं रोबोट

 

युद्ध के जानकारों और तकनीक के दिग्गजों का मानना है कि सीखने की क्षमता से लैस कृत्रिम बुद्धिमत्ता वाले रोबोट्स मशीनों के रूप में इंसान के सबसे घातक हथियार हो सकते हैंं।

आधुनिक विनाशकारी हथियारों में परमाणु बम, घातक वायरस और जानलेवा मशीनें दुश्मन के सफाए के नए साधन हैं। लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि इस दौड़ में अब भी सबसे घातक और इतिहास का सबसे घातक हथियार शामिल नहीं हुआ है। सालों से एक-दूसरे को युद्ध क्षेत्र में मात देने के लिए विकसित राष्ट्र अपने संसाधनों और वैज्ञानिक शोधों का उपयोग संहारक हथियार बनाने में कर रहे हैं। लेकिन युद्ध के जानकारों और तकनीक के दिग्गजों का मानना है कि सीखने की क्षमता से लैस कृत्रिम बुद्धिमत्ता वाले रोबोट्स मशीनों के रूप में इंसान के सबसे घातक हथियार हो सकते हैंं। वैज्ञानिकों का ऐसा सोचना गलत नहीं हैं। क्योंकि अब निवेशक भी इन मशीनों में ही पैसा लगाने को अक्लमंदी मान रहे हैं। यानि इन्वेस्टमेंट के लिहाज से इनके निर्माण के लिए अब पहले से ज्यादा पैसा जुटाया जा रहा है। वे दिन दूर नहीं जब ये रोबोट्स स्टॉक एक्सचेंज और अर्थ व्यवस्था को भी अपने मुताबिक नियंत्रित करने लगेंगे। बड़ी टेक कंपनियों के अलावा नामी अंतरराष्ट्रीय फर्म भी 'समझदार रोबोट्सÓ के निर्माण में धन लगाने को मुनाफे का सौदा मान रही हैं।


रोबोट बना रहे शेयर मार्केट रणनीति
लिंक्स एसेट मैनेजमेंट ने एक ऐसी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एल्गोरिद्म विकसित की है जो बाजार के जोखिमों, शेयर मार्केट के आंकड़ों और अपने प्रशिक्षण के दम पर ऐसी रणनीतियां तैयार करती है जो प्रतिद्वंद्वी को धूल चटा देती हैं। कंपनी अक्टूबर में ही एक नए फंड की योजना बना रही है जो एक मशीन द्वारा सोची गई रणनीतियों को निष्पादित करता है। गौरतलब है कि इसी मशीन की रणनीति से बीते साल कंपनी ने 500 करोड़ (5 बिलियन) स्वीडिश हेज फंड में अपने अधिकांश ट्रेंड-फॉलोइंग प्रतिद्वंद्वियों को हराया था। कंपनी के सीईओ एलन एलेक्स ने लंदन स्थित अपने कार्यालय से ब्लूमबर्ग से बातचीत में कहा कि यह हथियार बनाने की दौड़ में अगला चरण है। अब लड़ाई जमीन पर आमने-सामने नहीं बल्कि शेयर मार्केट के जरिए मशीनी बुद्धिमत्ता और इंसान के हुनर के बीच है। एलन ने बताया कि कंपनी पहले से ही ऐसी आठ मशीन-लर्निंग रणनीतियों वाले फंड्स में निवेश कर रही है। जल्द ही दो और फंड में निवेश की योजना पर काम रही है।

निवेश की वर्तमान दौड़ में सबसे महत्वपूर्ण हथियार हैं रोबोट

अर्थव्यवस्था पर हमला है नया हथियार
चीन और अमरीका के बीच चल रहे ट्रेड वॉर ने एक बार फिर इस बात को साबित कर दिया है कि सामरिक शक्ति में आज ज्यादातर बड़े राष्ट्र एक-दूसरे के बराबर ही हैं। ऐसे में जमीनी लड़ाई के जरिए वे देश को युद्ध के भयावह नतीजों में नहीं डाल सकते। यही कारण है कि एक-दूसरे पर राजनीतिक और सामरिक दबदबा बनाए रखने के लिए अब बड़े राष्ट्रों ने अपनी रणनीति में बदलाव करते हुए अर्थव्यवस्था पर चोट करने की नीति अपनाई है। छोटे राष्ट्र और विकसित देश जहां अभी इस लड़ाई में नहीं कूदे हैं वहीं रूस, अमरीका, चीन, जापान, दक्षिण कोरिया, ब्रिटेन जैसे देशों ने इस ओर अपनी चासलें चलने शुरू कर दी हैं। आने वाले सालों में युद्ध मैदान में नहीं घर के अंदर तकनीक के सहारे ही लड़े जाएंगे, जिसमें शह और मात का सालों तक अंदाजा लगा पाना संभव नहीं हो पाएगा। क्योंकि आर्थिक संकट भी शनै: शनै: सामने आते हैं।

निवेश की वर्तमान दौड़ में सबसे महत्वपूर्ण हथियार हैं रोबोट

ट्रेड वॉर को मिलेगी नई ऊंचाई
लगातार सीखने वाले ये रोबो ट्रेड एनालिस्ट आने वाले समय में क्वांट इन्वेस्टमेंट (बाजार के उतार-चढ़ाव का लेखा-जोखा रखने वाले बाजार विश्लेषक या क्वांटिटेटिव एनालिस्ट) को अगले स्तर पर ले जाएंगे। क्योंकि ये समझदार रोबोट बिना इंसानी मदद या मानव निर्देशों केसमय के साथ उपलब्ध आकंड़ों के आधार पर स्वत: ही अपने प्रदर्शन को लगातार बेहतर बनाने के लिए ही प्रोग्राम किए गए हैं। यह तकनीक-प्रेमी, डेटा-चालित क्वांट इन्वेस्टमेंट में इंसानों को भी चुनौती देने लगा है। तकनीक की उपलब्धता और सबसे आगे रहने की होड़ में आज यह रोबो ट्रेड एनालिस्ट सस्ते और सुलभ होते जा रहे हैं। आने वाले सालों में इनसे बाजार पर अपना नियंत्रण करने की कोशिश में ट्रेड वॉर और भी ज्यादा व्यापक स्तर पर शुरू होने की आशंका है।

निवेश की वर्तमान दौड़ में सबसे महत्वपूर्ण हथियार हैं रोबोट

9.1 फीसदी वृद्धि है मशीनी फंड में
एबरडीन स्टैंडर्ड का एक करोड़ आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ग्लोबल इक्विटी फंड गति या मूल्य के लिए स्टॉक का विश्लेषण करता है। इस वर्ष इसके शेयरों में 9.1 फीसदी की वृद्धि हुई है जबकि एमएससीआइ ऑल कंट्री वल्र्ड इंडेक्स के शेयर में 11 फीसदी की वृद्धि है। अभी बाजार के विश्लेषकों1600 करोड़ रुपए के ट्रेड आंकड़ों का विश्लेषण करने के लिए रोबो ट्रेड एनालिस्ट और स्ट्रेटजी डवलपर एल्गोरिद्म सक्षम है। लेकिन ये अब भी पूरी तरह शेयर मार्केट और व्यापारिक जटिलताओं को संभालने के काबिल नहीं हैं। बोस्टन की वरिष्ठ उपाध्यक्ष और एकेडियन में क्लाइंट एडवाइजरी निदेशक सेठ वेनग्राम का कहना है कि निवेशकों को रणनीति के पहले से तय किए गए सेट के बीच इस अंतर को आज़माने और बनाने के लिए मजबूर किया जाता है। मशीन लर्निंग के बारे में दावे करने वाले लोगों के बारे में यह धारणा है कि वे भी पूरी तरह स्पष्ट नहीं हैं कि मशीन की बताई रणनीति के अनुसार फंड में निवेश करने का निर्णय कैसे करें।

Robots that learn are the hottest weapon in the investing arms race