स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

चम्बल का पानी तो लगभग उतर गया, लेकिन पानी उतरने के साथ ही उसकी भयावहता नजर आने लगी

Vijay Kumar Joliya

Publish: Sep 19, 2019 20:10 PM | Updated: Sep 19, 2019 20:10 PM

Sawai Madhopur

चम्बल का पानी तो लगभग उतर गया, लेकिन पानी उतरने के साथ ही उसकी भयावहता नजर आने लगे

 

बहरावण्डा खुर्द. चम्बल का पानी तो अब लगभग उतर गया है, लेकिन पानी उतरने के साथ ही उसकी भयावहता नजर आने लगी है। पानी के वेग से कई आशियाने टूट गए हैं। ऐसे में लोग अपने बिखरे सामानों को समेटने में लगे हैं तो रात खुले आसमां तले बिताने की मजबूरी बनी हुई है। जानकारी के अनुसार चम्बल में उफान के चलते कई परिवारों ने अपना आशियाना छोड़ दिया था और वे नजदीकी रिश्तेदारों के यहां रहने लगे। पानी उतरने के बाद परिवार भी अब अपने घरों की ओर लौट आए और अपने सामानों व पालतू पशुओं को संभाला।

हालांकि चम्बल के कहर के कारण कई परिवारों के आशियाने टूट गए। जिनके चलते उनको खुले आसमान के तले राते गुजारनी पड़ रही है। इधर बोहना गांव की भी बुधवार को राह खुल गई। चम्बल बुधवार शाम तक खतरे के निशान से करीब 2 मीटर नीचे बहने लगी। केंद्रीय जल आयोग के कनिष्ठ अभियंता राजेश मीना ने बताया कि बुधवार शाम पांच बजे 18.250 मीटर गेज चल रहा है।


पानी उतरने के बाद नजर आ रहा बस कीचड़
खण्डार/नायपुर. चम्बल नदी में पानी कम होने के बाद क्षेत्र में अब कीचड़ नजर आ रहा है। पानी से हो रही समस्या तो कम हो गई, लेकिन अब कीचड़ से समस्या होने लगी है। इसके साथ ही खेतों में पानी भरने से फसल भी नष्ट हो गई है। पानी से गांवों में कई मकान धाराशायी हो गए हैं। इसके साथ ही क्षेत्र में चर्मरोग व अन्य बीमारी पैर पसारने लगी है।


सेना के जवान कर रहे जागरूक
सेना के जवाव बोहना गांव व खेतों में रह रहे लोगों को पानी से हुए नुकसान के लिए ढांढ़स बंधा रहे हैं। मेजर अमृतपाल ने बताया कि चम्बल नदी में पानी की आवक से लोगों की फसल चौपट हो गई है। जवान घर घर जाकर लोगों से बात कर रहे हैं और उनको योजनाओं के लिए जागरूक कर रहे हैं।


मेडिकल टीम ने किया दौरा
जानकारी के अनुसार चम्बल का पानी उतरने के बाद कई गांवो में बीमारियां पनपने लगी है। जिसके चलते बुधवार को मेडिकल टीम ने चम्बल प्रभावित गांवों का दौरा किया और पानी में दवाइयां छिड़की।