स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

किराए के घर में बनाया था ट्रिपल मर्डर का प्लान

Dheerendra Kumar Gupta

Publish: Jul 21, 2019 00:06 AM | Updated: Jul 21, 2019 00:06 AM

Satna

ट्रेन से उतरते ही पकड़े गए थे ट्रिपल मर्डर के आरोपी, पुलिस की घेराबंदी से बचकर एक साथी भागा, मुम्बई में ट्रिपल मर्डर का मामला

सतना. नवी मुंबई के रिकोंडा में ट्रिपल मर्डर के बाद सतना में फरारी काटने वाले आरोपी यहां शहर के खूंथी मोहल्ले में किराए से रहते थे। मुंबई में मारपीट के बाद आरोपी सतना लौटकर आए। यहीं रहकर मर्डर का प्लान बनाया और मर्डर के बाद फिर सतना आकर दो दिन रुके थे। इसके बाद आरोपी सेबू हनीफ खान उर्फ पठान (25) और शेरू हनीफ खान उर्फ पठान (24) अपने तीसरे साथी के साथ इलाहाबाद चले गए थे। जब वापस लौटे तो रेलवे स्टेशन से ही दो आरोपी पकड़ लिए गए जबकि तीसरा चकममा देकर भाग गया था।
यह है मामला
नवी मुंबई के तुर्भे एमआईडीसी में स्थित इंदिरा नगर के रिकोंडा में एक बंद कंपनी में अवैध रूप से भंगार का कारोबार चलता है। इस भंगार की दुकान में इरशाद शेख (20), नौशाद शेख (17) और राजेश (28) पिछले सप्ताह शुक्रवार रात को सोए थे। तभी तीनों पर धारदार हथियार से हमला कर हत्या कर दिया गया।
भंगार की दुकान में मारपीट
सूत्रों के अनुसार, आरोपी सेबू हनीफ और शेरू हनीफ भंगार की दुकान में काम ककरते थे। जहां मारपीट होने के बाद यह अपने साथी के साथ सतना चले आए। जबकि दोनों आरोपी इलाहाबाद के चकिया करेली के रहने वाले हैं। यहां मर्डर का प्लान बनाने के बाद आरोपी वारदात को अंजाम देेने गए और फिर वापस सतना लौट आए।
टिकट से लगा सुराग
मुंबई पुलिस ने ट्रिपल मर्डर के आरोपियों को वारदात के बाद ही चिन्हित कर लिया था। आरोपी मुंबई के लोकमान्य तिलक टर्मिनस स्टेशन से टिकट लेकर काशी एक्सप्रेस में सवार हुए थे। पुलिस ने जब रेलवे स्टेशन के सीसीटीवी फुटेज देखे तो काले लिवास में दोनों आरोपी पहचान लिए गए। जब टिकट काउंटर से जानकारी जुटाई तो पता चला कि सीसीटीवी के समय के अनुसार एएलटीटी से सतना के सिर्फ दो ही टिकट कटे हैं। एेसे में मुंबई पुलिस ने सतना आकर घेराबंदी कर दी।
ऑटो चलाता था आरोपी
यह बात सामने आई है कि पकड़े गए दोनों आरोपी में एक सतना में ऑटो चलाता था जबकि दूसरा खूंथी की एक चिकन शॉप में काम करने लगा था। मर्डर करने के बाद दोनों आरोपी दो दिनों तक सतना में रुके फिर अपने गांव चले गए। मुंबई पुलिस को खबर थी कि दोनों आनंद विहार से रीवा जाने वाली ट्रेन से आने वाले हैं। एेसे में मुंबई पुलिस ने रेल पुलिस की मदद से सतना रेलवे स्टेशन के चारों ओर घेरा डाल दिया। जब आरोपी ट्रेन से उतरे तो दबोच लिए गए। इस बीच इनका एक साथी भाग निकला और ट्रेन रीवा की ओर जाने लगी तो चलती गाड़ी में सवार हो गया था।